Top
उत्तर प्रदेश

बलरामपुर पीड़िता के शरीर में थे जख्म के 10 गंभीर निशान, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा

Janjwar Desk
2 Oct 2020 3:09 AM GMT
बलरामपुर पीड़िता के शरीर में थे जख्म के 10 गंभीर निशान, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा
x
पीड़िता बीए अंतिम वर्ष की छात्रा थी और वह परीक्षा प्रवेश शुल्क जमा कर काॅलेज से घर लौट रही थी, तभी दो आरोपियों ने रास्ते में उसे रोक लिया और एक स्टोर में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। वारदात वाली जगह लड़की के घर से मात्र दो किमी दूर है।

जनज्वार। उत्तरप्रदेश पिछले कुछ महीनों से हत्या व बलात्कार की वीभत्स घटनाओं को लेकर देश में चर्चा के केंद्र में आया है। हाथरस की दलित लड़की के साथ हुई बेरहमी के बाद बलरामपुर व अन्य दूसरी जगह से महिला उत्पीड़न की घटनाएं सामने आयी हैं। बलरामपुर की रेप पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है, जिसमें उसके शरीर पर चोट के 10 बेहद गंभीर निशान की बात कही गई है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से स्पष्ट पता चलता है कि लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद दरिंदगी की गई। लड़की का अंतिम संस्कार बुधवार (30 सितंबर) को कर दिया गया, वहीं इस मामले में दो शाहीद और उसके भतीजे साहिल को गिरफ्तार किया गया। लड़की से बलात्कार करने का आरोप इन दोनों पर है। यह घटना 29 सितंबर (दिन मंगलवार) की है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तरप्रदेश के बलरामपुर जिले के गैसरी इलाके में 22 वर्षीया दलित काॅलेज छात्रा के साथ दरिंदगी की गई थी जिससे उसके शरीर में कम से कम दस जगह बेहद गंभीर चोट आयी थी। उसके शरीर में आठ घाव के निशान पाये गए। गाल, छाती, कोहनी, बायीं जांघ और बाएं पैर और घुटने में घर्षण व चोट के निशान है जो वारदात की गंभीरता को बताने के लिए काफी है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डाॅक्टरों ने महिला के यौन उत्पीड़न पर अपनी राय नहीं दी है, हालांकि रिपोर्ट में यह कहा गया है कि निजी अंग में खून का थक्का है। लड़की के निजी अंग के स्वैब को जांच के लिए भेजा गया है।

इस मामले में पुलिस में दर्ज करायी गई एफआइआर में कहा गया है कि लड़की 10 बजे सुबह अपने घर से कुछ काम के लिए निकली थी, जब वह चार बजे शाम तक वापस नहीं लौटी तो उसे उसके मोबाइल पर काॅल किया गया, पर उधर से कोई जवाब नहीं दिया गया।

प्राथमिकी के अनुसार, इसके बाद लडकी शाम सात बजे रिक्शा पर अचेत अवस्था में घर पहुंची। इसके बाद रिक्शा चालक वहां से चला गया। इस मामले में पूछताछ करने पर पता चला कि रेप के दौरान लड़की की स्थिति खराब होने पर दोनों आरोपियों ने एक स्थानीय डाॅक्र जियाउर्रिरहमान खान को अपने घर लड़की के इलाज के लिए बुलाया था, लेकिन उन्होंने इलाज से इनकार कर दिया और इलाके के लोगों को सूचित किया।

शाहिद और साहिल के खिलाफ अपहरण, गैंगरेप एवं एससी-एसटी एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया गया है।

पीड़िता बीए अंतिम वर्ष की छात्रा थी और वह परीक्षा प्रवेश शुल्क जमा कर काॅलेज से घर लौट रही थी, तभी दो आरोपियों ने रास्ते में उसे रोक लिया और एक स्टोर में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। वारदात वाली जगह लड़की के घर से मात्र दो किमी दूर है। इस मामले में दोनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

Next Story

विविध

Share it