Top
उत्तर प्रदेश

UP : 'जय श्री राम' नहीं बोलने पर मुस्लिम कैब ड्राइवर की हत्या, पुलिस का मॉब लिंचिंग से इनकार

Janjwar Desk
8 Sep 2020 5:08 AM GMT
UP : जय श्री राम नहीं बोलने पर मुस्लिम कैब ड्राइवर की हत्या, पुलिस का मॉब लिंचिंग से इनकार
x
नोएडा में 45 वर्षीय एक मुस्लिम कैब ड्राइवर की कैब पर सवार दो लोगों ने हत्या कर दी और फरार हो गए, यह घटना बुलंदशहर से लौटते वक्त रविवार रात को बादलपुर थाना क्षेत्र के पास घटी, मृतक के बेटे का आरोप है कि उसके पिता की मॉब लिंचिंग की गई है...

जनज्वार। ग्रेटर नोएडा में एक 45 वर्षीय कैब ड्राइवर की बदमाशों ने सोमवार की रात हत्या कर दी। कैब ड्राइवर आफताब आलम की हत्या उस वक्त की गई है, जब वे बुलंदशहर से एक सवारी को छोड़ कर लौट रहे थे। आफताब आलम का घर दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में है और वे गुरुग्राम के एक सवारी को छोड़ने बुलंदशहर गए थे और वहां से वापस लौटते वक्त शराब के नशे में धुत दो बदमाश गाड़ी पर सवार हो गए और फिर बाद में हत्या कर दी।

सोमवार की रात करीब सात बजे आफताब आलम सवारी को बुलंदशहर छोड़ लौट रहे थे। इसी दौरान लुहारली टोल प्लाजा के पास दो बदमाश उनकी कैब को रोक कर उस पर सवार हो गए। बदमाशों का व्यवहार संदिग्ध था, जिससे उनकी आशंकाएं बढ गई। इसी वजह से ड्राइवर ने मोबाइल रिचार्ज के बहाने बेटे को फोन किया और उसे फोन को आॅन छोड़ दिया।

बदमाशों ने गाड़ी में बैठने के बाद नाम पूछा और मुसलिम नाम बताने पर जयश्री राम का नारा लगवाया। ड्राइवर ने डर से नारा भी लगाया, लेकिन किराया देने की बारी आयी तो बदमाश ड्राइवर आफताब से भिड़ गए और दादरी के पास निजी अस्पताल के निकट कैब चालक को बुरी तरह घायल घर और लूटपाट कर भाग गए।

मृतक ड्राइवर के 22 वर्षीय बेटे शारिब का कहना है कि उसने अपने पिता को जय श्री राम को नारे लगाते हुए फोन पर सुना। उसने कहा कि 7.57 बजे शाम में उसके पास फोन आया। उसने कहा है कि उसने बदमाशों को यह कहते सुना कि बोल जय श्री राम, फिर यह यह भी आवाज आयी कि भाई तू जय श्री राम बोल। यह बातचीत रिकार्ड हुई है। बाद में बैट्री लो होने पर फोन आॅफ हो गया।

शारिब जब दिल्ली पुलिस के पास मामले की शिकायत करने गया तो उसे कहा गया कि यह ग्रेटर नोएडा का मामला है और वहीं शिकायत दर्ज होगी। बाद में ग्रेटर नोएडा पुलिस ने मृतक चालक के साथ कैब को जब्त किया। इस मामले में बादलपुर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की गई है। पुलिस दो टीम गठित कर मामले की जांच कर रही है। हालांकि नोएडा पुलिस के जोन 2 के एसीपी राजीव कुमार ने कहा है कि इस मामले का कम्युनल एंगल नहीं है। इस मामले में 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

अफताब के पास अपनी गाड़ी थी और वे एक कैब कंपनी के तहत उसे चलाते थे और परिवार का भरण पोषण करते थे।

Next Story

विविध

Share it