Top
उत्तर प्रदेश

योगीराज : दलित लड़की से रेप के बाद कुएं में फेंककर हत्या, 6 दिन से FIR दर्ज कराने के लिए दर – दर भटक रहे मां-बाप

Janjwar Desk
23 Sep 2020 12:44 PM GMT
योगीराज : दलित लड़की से रेप के बाद कुएं में फेंककर हत्या, 6 दिन से FIR दर्ज कराने के लिए दर – दर भटक रहे मां-बाप
x
दलित परिवार की नाबालिग बेटी से दरिंदे ने रेप किया और इसके बाद कुएं में फेंककर मौत के घाट उतार दिया। फरियाद लेकर मृतका के माता-पिता थाने का चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनकी कहीं सुनवाई तक नहीं हो रही है।

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के सुलतानपुर जिले में दलित लड़की से रेप के बाद हत्या का आरोप लग रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के संसदीय क्षेत्र में दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। दलित परिवार की नाबालिग बेटी से दरिंदे ने रेप किया और इसके बाद कुएं में फेंककर मौत के घाट उतार दिया। फरियाद लेकर मृतका के माता-पिता थाने का चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनकी कहीं सुनवाई तक नहीं हो रही है।

पुलिस का कहना है कि कुएं में डूबकर नाबालिग की मौत हुई है। मामला जिले के कुड़वार थाने का है। यहां बंधुआकला पुलिस चौकी के पास 14 सितंबर को एक दलित परिवार की नाबालिग बेटी घर से लापता हो गई। परिवार वाले ढूंढते रहे लेकिन कोई अता-पता नहीं लग सका। दो दिन बाद गांव के पास स्थित एक कुएं में उसकी लाश तैरती हुई पाई गई। इसके बाद 6 दिनों से मृतका के मां-बाप पुलिस के पास मदद की गुहार लगा रहे हैं लेकिन पुलिस उनका मुकदमा तक नहीं दर्ज कर रही है।

मीडिया के जरिए जब बात खुली तो इस मामले में राजनीति शुरू हो गई। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अभिषेक सिंह राणा ने कहा है कि पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए वह जमीनी लड़ाई लड़ने को तैयार हैं।

डॉक्टर ने स्लाइड टेस्टिंग के लिए भेजा लैब

इस पूरे मामले में पुलिस की भूमिका सवालों के घेरे में है। पुलिस ये कहकर अपनी गर्दन बचा रही है कि दलित की बेटी की मौत कुएं में डूबने से हुई है सवाल ये है कि अगर डूबने से भी हुई तो पुलिस मुकदमा लिखने से क्यों बच रही है? हालांकि पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर का कहना है कि दो दिनों तक शव पानी में रहा इस कारण साक्ष्य क्लियर नहीं हैं, स्लाइड टेस्ट के लिए लैब में भेजा गया है।

एसपी बोले सीओ से करा रहे जांच

उधर थाने में एफआईआर नहीं दर्ज होने के बाद पीड़ित परिवार पुलिस अधीक्षक (एसपी) से मिला। एसपी इस मामले में क्षेत्राधिकारी से जांच कराने की बात कह रहे हैं। लेकिन मीडिया के कैमरे के सामने एसपी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। बड़ा सवाल अब यही बना हुआ है कि आखिर क्यों पुलिस घटना, दुर्घटना और हत्या जो भी वजह हो, उस पर लापरवाही दिखा रही है पीड़ित परिवार की तहरीर के आधार पर अब तक मुकदमा क्यों नहीं दर्ज हुआ?

Next Story

विविध

Share it