Top
उत्तर प्रदेश

यूपी के मिर्जापुर में जहरीली शराब का कहर, 4 की मौत से मचा हड़कंप

Janjwar Desk
2 March 2021 12:17 PM GMT
यूपी के मिर्जापुर में जहरीली शराब का कहर, 4 की मौत से मचा हड़कंप
x
मृतको के शवों का पोस्टमार्टम वरिष्ठ चिकित्सकों के पैनल द्वारा एवं पोस्टमार्टम की विडियो ग्राफी करायी जा रही है। हल्का उपनिरीक्षक तथा वीट आरक्षी द्वारा अपने अपने कर्तव्यों का सम्यक निर्वहन न करने तथा उच्चाधिकारीगण द्वारा दिये गये निर्देशो का पालन न करने पर पुलिस अधीक्षक मिर्जापुर द्वारा उन्हें निलंबित कर दिया गया है।

मिर्जापुर से संतोष देव गिरि की रिपोर्ट

जनज्वार ब्यूरो। उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की घोषणा होने और होली का त्योहार नजदीक देख अवैध शराब कारोबारियों की सक्रियता बढ़ चली है। मिर्जापुर जिले के नेवढ़िया गांव में जहरीली शराब के सेवन से चार लोगों की मौत ने पुलिस और आबकारी विभाग के सक्रियता की पोल खोल कर रख दी है। मिर्जापुर के देहात कोतवाली क्षेत्र के नेवढ़िया गांव में जहरीली शराब पीने से 4 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में राजा तिवारी, महेश मल्लाह, सुरेश दलित व छेदी निषाद सभी निवासी नेवढ़िया गांव के शामिल हैं। घटना की जानकारी होने पर गांव पहुंची पुलिस ने दो शव को कब्जे में ले लिया है। जबकि दो शवों का परिजन दाह संस्कार कर चुके थे। बताया गया कि राजा तिवारी व सुरेश की मौत 27 फरवरी को ही हो गई थी जबकि महेश व छेदी कि 28 फरवरी की रात 2 बजे हुई है।

घटना के बाद हरकत में आई पुलिस ने अवैध शराब के अड्डे पर छापेमारी कर भारी मात्रा में शराब बरामद करते हुए एक को हिरासत में ले लिया है। मृतक परिजनों की तहरीर पर शराब बनाने और बेचने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने कहा कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मौके पर कमिश्नर योगेश्वर राम मिश्रा, आईजी पीके श्रीवास्तव, एएसपी संजय वर्मा, सीओ सिटी प्रभात राय सहित अन्य मौजूद रहे। परिवार के लोगों ने बताया कि सभी ने 27 फरवरी को गांव निवासी गोपी मिश्रा के यहां जाकर शराब पिया था। हालत बिगड़ने पर राजा तिवारी व सुरेश को मंडलीय अस्पताल ले जाया गया था। हालत में थोड़ा सुधार होने पर घर लाया गया। शनिवार की शाम 5 बजे राजा की मौत हो गई, जबकि रात 10 बजे सुरेश की मौत हो गई। वही महेश व छेदी की 28 फरवरी की रात में मौत हुई है।


संजय वर्मा अपर पुलिस अधीक्षक नगर ने बताया है कि "शराब पीने से महेश और छेदी की मौत हुई है। राजा व सुरेश की मौत कैसे हुई है जांच कराई जा रही है। उनका शव जला देने से पुष्टि नहीं हो पाई है। हालांकि उसने भी शराब पी थी। वहीं देहात कोतवाली के नेवढ़िया में शराब पीने के बाद बीमार हुए दो लोगों की मौत के बाद जहां परिजनों का आरोप रहा है कि जहरीली शराब से मौत हुई तो वहीं मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारणों का पता चलेगा। उन्होंने मामले में मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश दिए हैं।

दूसरी ओर नेवढिया गांव में जहरीली शराब पीने से 4 लोगों की मौत की सूचना पर सपा जिलाध्यक्ष देवी प्रसाद चौधरी, पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक, यादव, रोहित शुक्ला ने नेवढिया गांव पहुंचकर घटना की जानकारी ली है तथा पोस्टमार्टम हाउस पर पहुंचकर परिजनों से मुलाकात कर दु:ख जताया। सपा जिलाध्यक्ष देवी प्रसाद चौधरी ने जिला प्रशासन पर सवालिया निशान खड़ा करते हुए कहा कि जिले भर में अवैध शराब की बिक्री हो रही है। आबकारी विभाग और पुलिस प्रशासन इस पर कड़ा कदम उठाएं और दोषियों को दंडित करें। उन्होंने जिला प्रशासन से मृतक परिजनों को उचित मुआवजा देने की मांग की है।

बताया जाता है कि शराब से मौत की सूचना पर पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक नगर, क्षेत्राधिकारी सदर ने पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर मृतकों के परिजनों से पूछताछ की तो परिजनों द्वारा बताया गया कि 27 फरवरी 2021 को मृतकों द्वारा मदिरा का सेवन के पश्चात तबियत खराब होने पर जिला अस्पताल में इलाज हेतु ले जाया गया। अस्पताल से इलाज के उपरांत डिस्चार्ज होकर वे घर आ गये, तथा पुन: तबियत खराब हो गयी और रविवार/सोमवार की रात्रि में मृत्यु हो गयी। मण्डलायुक्त विन्ध्यांचल मण्डल, पुलिस महानिरीक्षक विन्ध्यांचल परिक्षेत्र, जिलाधिकारी मिर्जापुर, द्वारा भी घटनास्थल का स्थलीय निरीक्षण किया गया है। रमेशचन्द्र मल्लाह पुत्र कल्लू मल्लाह के प्रार्थना पत्र के आधार पर पुलिस ने इस मामले में अभियोग पंजीकृत कर एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है तथा अवैध शराब बरामद किया गया है।

मृतको के शवों का पोस्टमार्टम वरिष्ठ चिकित्सकों के पैनल द्वारा एवं पोस्टमार्टम की विडियो ग्राफी करायी जा रही है। हल्का उपनिरीक्षक तथा वीट आरक्षी द्वारा अपने अपने कर्तव्यों का सम्यक निर्वहन न करने तथा उच्चाधिकारीगण द्वारा दिये गये निर्देशो का पालन न करने पर पुलिस अधीक्षक मिर्जापुर द्वारा उन्हें निलंबित कर दिया गया है। घटनास्थल पर अपर पुलिस अधीक्षक नगर के नेतृत्व में सक्षम पुलिस अधिकारियों की टीम को मौजूद रहकर प्रभावी कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया है।

कच्ची शराब के निर्माण के लिए कुख्यात है जमुनहिया, पड़रा हनुमान गांव

चार लोगों की अवैध जहरीली शराब से मौत के बाद नेवढ़िया गांव में ग्रामीणों ने शराब की खाली बोतल मौके से न केवल पुलिस को सौंप, बल्कि गांव में शराब बनाये जाने की भी बात बताई है। बताते चलें कि देहात कोतवाली का जमुनहिया, पड़रा हनुमान आदि क्षेत्र कच्ची शराब के निर्माण के लिए पूरे जिले में कुख्यात है। इसी प्रकार लालगंज और राजगढ़ कंजड़ बस्ती से लगाय कई जंगली इलाकों, नगर के शुक्लहां, नटवां, आदि में भी अवैध शराब का कारोबार संचालित होता आ रहा है। कुछ वर्ष पूर्व मड़िहान के जंगल में अवैध शराब का कारखाना पकड़ा जा चुका है। जहां शराब पैकिंग के साथ बनाने के उपकरण और भारी मात्रा में लहन आदि बरामद हुए थे।


मिर्जापुर जिले के चील्ह में हो चुकी है जहरीली शराब से कई लोगों की मौत

जिले के नेवढ़िया गांव में अवैध शराब से 4 की मौत कोई पहली घटना नहीं है, गौर करें तो वर्ष 2011/12 में तकरीबन 15 लोगों की चील्ह थाना क्षेत्र में जहरीली शराब से मौत हो चुकी है। इसे लेकर न केवल उस वक्त काफी हंगामा मचा था, बल्कि इस घटना से आज भी कई पीड़ित परिवार उबर नहीं पाए हैं। जहरीली शराब ने कई परिवार से उनका सहारा छीन लिया है जो उस घटना को आज भी भूले नहीं भूला पाते हैं। इसी प्रकार देहात कोतवाली क्षेत्र में ही कुछ लोग जहरीली शराब के सेवन से पूर्व के वर्षों में बीमार पड़ गए थे। बावजूद इसके पुलिस महकमा और आबकारी विभाग जिले में फल फूल रहे इस कारोबार को जड़ से समाप्त करने के बजाए केवल खाना पूर्ति ही करता आया है।

Next Story

विविध

Share it