Top
समाज

पंजाबी गायक सिद्धू के खिलाफ FIR दर्ज कराने वाले एडवोकेट ने अब लगाया धमकाने का आरोप

Nirmal kant
26 Feb 2020 8:09 AM GMT
पंजाबी गायक सिद्धू के खिलाफ FIR दर्ज कराने वाले एडवोकेट ने अब लगाया धमकाने का आरोप
x

एडवोकेट अरोड़ा ने बताया कि लेकिन एक बार फिर से गायक ने उन्हें स्टेज से धमकी दी है। गायक ने गीत में धमकी भरे शब्दों का प्रयोग किया है। ऐसा लग रहा है कि वह उन्हें धमका रहा है...

चंडीगढ़ से मनोज ठाकुर की रिपोर्ट

जनज्वार ब्यूरो। पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के एडवोकेट एचसी अरोड़ा ने पंजाबी गायक मूसेवाला पर धमकी देने का आरोप लगाते हुए डीजीपी पंजाब को एक पत्र लिख कर उचित कार्यवाही की मांग की है। इससे पहले अरोड़ा ने गायक खिलाफ हिंसा को बढ़ावा देने के वीडियो सोशल मीडिया पर डालने के आरोप में मामला दर्ज कराया है। इस मामले में मूसेवाल जमानत पर है।

पत्र में यह लिखा अरोड़ा ने

कुछ देर पहले ही अरोड़ा ने डीजीपी को लिखे अपने पत्र में बताया कि पंजाबी गायक मूसेवाल अब जमानत पर है। क्योंकि उन पर जिन धाराओं में मामला दर्ज है, वह जमानमी है। अरोड़ा ने बताया कि लेकिन एक बार फिर से गायक ने उन्हें स्टेज से धमकी दी है। गायक ने गीत में धमकी भरे शब्दों का प्रयोग किया है। ऐसा लग रहा है कि वह उन्हें धमका रहा है। एचसी अरोड़ा ने गायक के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की है।

संबंधित खबर : सिख धर्म के संतों में ठनी, ढडरियांवाला ने अकाल तख्त के जत्थेदारों को दी बहस की चुनौती

पहले भी विवादित रहा गायक

मूसेवाला पर इससे पहले सिख इतिहास के सुनहरी पन्नो में अंकित माता भाग कौर के नाम के दुरुपयोग का आरोप लगा हुआ है। मामला श्री अकाल तख्त साहिब पहुंचा था। इस पर उन्होंने एक वीडियो जारी कर माफी मांगी थी। लेकिन इसके बाद फिर से सिद्धू मुसेवाला ने अपने विदेशी दौरे के दौरान फिर वही गाना गया, जिस गाने पर उसने वीडियो जारी कर श्री अकाल तख्त साहिब से माफी मांगी थी।

अकाल तख्त साहिब पर पेश होने का किया था वायदा

बाद में उन्होंने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह को पत्र लिख अकाल तख्त साहिब के आगे नतमस्तक होने व विदेश से लौटकर परिवार सहित श्री अकाल तख्त साहिब में पेश होने का वादा किया था। सिद्धू मुसेवाला ने श्री अकाल तख्त साहिब से किये इस वादे को तो पूरा नहीं किया।

पंजाबी गीतों में शराब और हिंसा का महिमामंडन करने के लगता है आरोप

पंजाबी गीतों में शराब को बढ़ावा देने और हिंसा का महिमामंडन करने के आरोप लगते हैं। एडवोकेट ने बताया कि इससे प्रेरित हो युवा वर्ग नशे व हिंसा की ओर बढ़ रहा है। यह बहुत ही चिंताजनक बात है। क्योंकि बहुत से युवा गायकों को अपना आदर्श मान बैठते हैं। वह उसी तरह का जीवन जीना शुरू कर देते हैं जिस तरह का उनका फेवरेट सिंगर जीता है।

पंजाब व हरियाणा कोर्ट का निर्णय है, नशे व हिंसा को नहीं दिया जाएगा बढ़ावा

न्होंने बताया कि पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट ने एक आदेश दिया था कि गीतों में नशा व हिंसा का किसी भी हालत में समर्थन नहीं किया जाएगा। इस तरह के बोल गीतों में प्रयोग न किए जाए जिससे इन सामाजिक बुराईयों का महिमा मंडन होता होता हो।

इस गीत पर है विवाद

मूसेवाला ने गीत गाया था कि पकियां पकियां पकियां गन बीच पंच गोलियां तेरे बीरा लई रखिया , यानी इस गीत के कहने का मतलब है कि मेरी गन में पांच गोलियां है। यदि तेरे पांचों भाईयों ने विरोध किया तो उन्हें एक एक गोली मार दी जाएगी। यह गीत हालांकि 2013 में गाया गया था। लेकिन 27 नवंबर को इसे यू ट्यूब पर अपलोड किया गया। तब से लेकर अभी तक इस पर विवाद मचा हुआ है।

है मूसेवाल

सिद्धू मूसेवाल पंजाब के मानसा जिले के मूसा गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने लुधियाना के गुरु नानक देव इंजीनियरिंक कालेज से 2016 में इंजीनियरिंग की है। पढ़ाई पूरी कर वह कनेड़ा चले गए। वहां उन्होंने अपना पहला गीत जी वैगन जारी किया। दो साल बाद उन्होंने भारत में गाना शुरू किया।

संबंधित खबर : पंजाब के दरबार साहिब में महिलाओं को की​र्तन करने की इजाजत

गायकों की भी जिम्मेदारी बनती है

माजसेवा करतार सिंह ने कहा कि गायकों की भी समाज के प्रति जिम्मेदारी बनती है। उन्हें इस तरह के शब्दों का प्रयोग अपने गीतों में करने से बचना चाहिए जिससे समाज में दिक्कत पैदा हो। आखिरकार सफल होने के लिए आप गलत तरीके तो इस्तेमाल नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि मूसेवाला को चाहिए कि वह आदर्श पेश करें और आगे बढ़ कर इस विवाद पर माफी मांगते हुए इसे समाप्त करें। इससे पंजाब के दूसरे गायकों को भी सीख मिलेगी। उन्होंने कहा कि गीतों में हिंसा और शराब का महिमामंडल थोड़े समय की सफलता तो दे सकता है, लेकिन इसके दम पर पंजाबी म्यूजिक इंडस्ट्री में लंबे समय तक नहीं टिका जा सकता।

Next Story

विविध

Share it