Top
आर्थिक

मूडीज के विश्लेषकों ने कहा- चालू वित्त वर्ष 2020-21 में 0% रहेगी भारत की आर्थिक विकास दर

Nirmal kant
8 May 2020 10:37 AM GMT
मूडीज के विश्लेषकों ने कहा- चालू वित्त वर्ष 2020-21 में 0% रहेगी भारत की आर्थिक विकास दर
x

मूडीज ने कहा कि ग्रामीण परिवारों के बीच लंबे समय तक वित्तीय तनाव, कमजोर रोजगार सृजन और हाल ही में गैर-बैंक वित्तीय संस्थानों के बीच एक क्रेडिट संकट ने जीडीपी ग्रोथ के और अधिक कमजोर पड़ने की संभावना को बढ़ा दिया है...

जनज्वार ब्यूरो। रेटिंग एजेंसी मूडीज के विश्लेषकों ने शुक्रवार को कहा कि कोरोनोवायरस के प्रकोप के प्रभाव से भारत की आर्थिक विकास दर में कमी आएगी, जिससे देश के चालू वित्त वर्ष में 0% जीडीपी ग्रोथ देखने को मिलेगी।

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते वित्तीय वर्ष 2021 में कोई वृद्धि देखने को नहीं मिलेगी और वित्तीय वर्ष 2022 में 6.6 प्रतिशत जीडीपी ग्रोथ से बाउंस बैक देखने को मिलेगा जबकि वित्तीय वर्ष 2021 में राजकोषीय घाटा 5.5 प्रतिशत बढ़ेगा।

संबंधित खबर : नोबेल विजेता अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी का स्पष्ट सुझाव, अर्थव्यवस्था पटरी पर लाने के लिए लोगों को सीधे पैसे दे सरकार

रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में फैले कोविड 19 ने भी टिकाऊ राजकोषीय समेकन की संभावनाओं को काफी कम कर दिया है। नवंबर में मूडीन ने बीएए2 (मूडीज की इंवेस्टर्स सर्विस मंदी के कारण ग्रोथ के अनुमान को घटा दिया था और कहा था कि वह देश के ऋण स्तरों की बारीकी से निगरानी करेगा। बीएए2 दूसरा सबसे कम इंवेस्टमेंट ग्रेट स्कोर है।

एजेंसी ने आगे कहा कि ग्रामीण परिवारों के बीच लंबे समय तक वित्तीय तनाव, कमजोर रोजगार सृजन और हाल ही में गैर-बैंक वित्तीय संस्थानों के बीच एक क्रेडिट संकट ने और अधिक कमजोर पड़ने की संभावना को बढ़ा दिया है।

माचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मूडीज ने कहा कि यदि मामूली जीडीपी वृद्धि उच्च दरों पर वापस नहीं आती है तो सरकार बजट घाटे को कम करने में बहुत महत्वपूर्ण बाधाओं का सामना करना पड़ेगा। सरकार कर्ज के बोझ में वृद्धि का सामना करेगी।

भारत ने अब तक 1.7 ट्रिलियन रुपये (22.53 बिलियन डॉलर) की प्रोत्साहन योजना की रूपरेखा तैयार की है, जिससे लाखों गरीबों को राहत देने के लिए प्रत्यक्ष नकद हस्तांतरण और खाद्य सुरक्षा के उपाय प्रदान किए जा रहे हैं और छोटे और मध्यम व्यवसायों के लिए मदद के लिए एक दूसरे पैकेज के लिए जल्द ही उम्मीद की जा रही है।

मूडीज ने दोहराया कि नकारात्मक आउटलुक इशारा करता है कि निकट अवधि में वृद्धि की संभावना नहीं है।

अगर हम समय के साथ राजकोषीय मैट्रिक्स को स्थिर और मजबूत करने की संभावना में महत्वपूर्ण वृद्धि देखते हैं, हम रेटिंग आउटलुक को 'स्थिर' में बदलने की संभावना रखेंगे।

ने कहा कि भारत की रेटिंग में गिरावट की संभावना होगी यदि हम उम्मीद करते हैं कि इसका राजकोषीय मेट्रिक्स भौतिक रूप से कमजोर होगा।

संबंधित खबर : भारत के रेडिमेड कपड़ा उद्योग में जा सकती हैं 1 करोड़ नौकरियां, मंदी से उबरने में लग जायेंगे सालों

धिकारियों का कहना है कि देश में आठ सप्ताह के लंबा लॉकडाउन कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने में मदद कर रहा है। देश में केवल 56,342 संक्रमण के मामले सामने आए हैं और 1886 लोगों की मौतें हुईं हैं।

मूडीज ने कहा, कम विकास और सरकारी राजस्व सृजन, कोरोनोवायरस-संबंधी राजकोषीय प्रोत्साहन उपायों के साथ मिलकर, उच्च सरकारी ऋण अनुपात को बढ़ावा देगा, अगले कुछ वर्षों में हमारे पास जीडीपी का लगभग 81 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है।

Next Story

विविध

Share it