राजनीति

बिहार में चमकी बुखार से मरे बच्चों की प्रेस कांफ्रेंस में सो रहे थे स्वास्थ्य मंत्री

Prema Negi
17 Jun 2019 5:03 AM GMT
बिहार में चमकी बुखार से मरे बच्चों की प्रेस कांफ्रेंस में सो रहे थे स्वास्थ्य मंत्री
x

चमकी बुखार से होने वाली बच्चों की मौतों का सिलसिला अभी भी थमा नहीं है। इलाज के अभाव में मर रहे बच्चों को देश लोग आक्रोशित हो रहे हैं। ऐसे में जब मंत्री महोदय प्रेस कांफ्रेंस में ऊंघते नजर आये तो लोगों का गुस्सा सोशल मीडिया पर भी फूट पड़ा...

जनज्वार। बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों की संख्या 100 का आंकड़ा पार कर चुकी है, अभी भी यह सिलसिला थम नहीं रहा है। मगर शासन-प्रशासन, नेता—मंत्री इसे लेकर कितना संवेदनशील और दुखी हैं, यह उनकी बयानबाजियों और हरकतों से समझ आ जाता है।

इसीलिए जनता ने कहना शुरू कर दिया है कि रस्मअदायगी के लिए मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई, जिसमें ​केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार ऊंघ रहे थे। यह प्रेस कांफ्रेंस केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन द्वारा आयोजित की गई थी, जिसमें उनके साथ केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे और बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय भी मौजूद थे।

के मुताबिक रविवार 16 जून को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन चमकी बुखार से लगातार हो रही मौतों के बाद SKMCH अस्पताल पहुंचे थे, जहां इस मसले पर एक प्रेसवार्ता आयोजित की गई। इसी प्रेस कांफ्रेंस में जब बच्चों की मौतों पर जब चर्चा हो रही थी, तब केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे झपकी लेते हुए कैमरे में कैद हो गए।

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे का प्रेस कांफ्रेंस में सोते हुए यह फोटो वायरल हो रहा है। लोग यह फोटो शेयर करते हुए उनकी संवेदनहीनता की लगातार आलोचना कर रहे हैं।

संबंधित खबर : बिहार में बच्चों पर टूटा चमकी बुखार का कहर, अब तक 83 की मौत

मुजफ्फरपुर के SKMCH में जब बच्चों के इलाज का जायजा लेने जब केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन व अश्विनी चौबे पहुंचे तो मरीज बच्चों के मां-बाप ने खूब हंगामा किया। एक युवक ने तो गुस्से में विरोधस्वरूप अपने कपड़े उतार दिये और अर्धनग्‍न होकर प्रदर्शन करने लगा। मरीजों के प​रिजनों ने मंत्रियों के सामने अपने बच्चों को बचा लेने की गुहार लगाई।

गौरतलब है कि जहां बच्चों की इतनी बड़ी तादाद में चमकी बुखार से मौतें हो रही हैं, वहीं शासन-प्रशासन अभी भी नहीं चेता है। बच्चों का फर्श पर लिटाकर इलाज किया जा रहा है। इलाज में तमाम तरह की लापरवाहियों की खबरें सामने आ रही हैं। सबसे बड़ी बात यह कि बच्चों की मौतों का सिलसिला अभी भी थमा नहीं है। इलाज के अभाव में मर रहे बच्चों को देश लोग आक्रोशित हो रहे हैं। ऐसे में जब मंत्री महोदय प्रेस कांफ्रेंस में ऊंघते नजर आये तो लोगों का गुस्सा सोशल मीडिया पर भी फूट पड़ा।

का ऊंघते जुए फोटो को ट्वीट करते हुए बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने लिखा है, 'सो लीजिए मंत्री जी, चुनाव ख़त्म हो चुका है। आप जीत चुके हैं और 20 दिनों तक जश्न मनाने के बाद आपको मुज़फ़्फ़रपुर आने का समय मिला, वह ही बहुत है। 100 से ज़्यादा मौतें और अभी भी अगर सरकार की नींद नहीं खुली तो फिर सिर्फ़ ईश्वर ही मालिक है।'

गुरु नाम के ट्वीटर हैंडल से ट्वीट किया गया है, 'सरकार बनाने के बाद जनता को कौन याद रखता है, वोट लेने के लिए करेगें "जय श्री राम" और वोट लेने के बाद जब समस्या आएगा तब भी करेंगे "जय श्री राम"।

वहीं राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के नेता उपेन्द्र कुशवाहा ने अश्विनी चौबे का फोटो ट्वीट करते हुए कमेंट किया है, “लगभग 200 परिवारों का आँगन सुना हो चुका है और हजारों बच्चे काल की गोद में है फिर भी डबल इंजन सरकार सो रही हैं। अब तो ईश्वर के भरोसे ही बिहार और देश की आस बची है।'

बिहार के मधेपुरा से पूर्व सांसद पप्पू यादव ने ट्वीट किया है, 'सोइये हुज़ूर! ये बच्चे आपके नहीं हैं। इसमें हिन्दू-मुसलमान की राजनीति नहीं हो सकती, तो जगकर आप क्या करेंगे? 5 साल बाद इसमें पाक की साजिश ढूंढ़ लीजियेगा। फिर वोट ले, ऐसे ही गधा बेच सो जाइयेगा। गरीब मां-बाप अपने बच्चों की बेमौत मौत पर रतजगा करें, उनकी आंखों की नींद उड़ जाये, आपको क्या फर्क?'

Next Story

विविध

Share it