समाज

मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड का आरोपी बृजेश ठाकुर था पत्रकारिता का सरकारी मेहमान

Prema Negi
30 July 2018 1:45 PM GMT
मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड का आरोपी बृजेश ठाकुर था पत्रकारिता का सरकारी मेहमान
x

सही और ईमानदारी से काम करने वाले पत्रकारों और उनके संस्थानों के लिए भले ही पीआईबी कार्ड बनाने में भारत सरकार दस टोटके लगा दे, लेकिन बृजेश ठाकुर जैसे मीडिया अपराधियों का जलवा इतना बड़ा था कि वह राज्य और केंद्र दोनों जगह से सरकारी मान्यता प्राप्त पत्रकार था...

पटना से वरिष्ठ पत्रकार संजय कुमार की रिपोर्ट

पटना। मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म मामले में प्रातः कमल का नाम सामने आया है। इससे जुड़े मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के मीडिया मुगल का खेल का भी खुलासा हुआ है। ब्रजेश ठाकुर मीडिया में कई नामों से जाना जाता है, जो जालसाजी दर्शाता है।

मीडिया में आयी खबर के अनुसार प्रातः कमल अखबार से जुड़े लोग ब्रजेश ठाकुर को मैनेजर बताते हैं, तो वहीं इसी अखबार का दिल्ली संवादादाता ब्रजेश कुमार यानी ब्रजेश ठाकुर ही है। इसने ब्रजेश कुमार के नाम से प्रेस इंफोरमेशन ब्यूरो,पीआईबी प्रेस कार्ड (क्रम संख्सा-422,पीआईबी एकरिडेटेड मीडिया पर्सन लिस्ट 2018) बनवा रखा है। pib ने अपनी मीडिया लिस्ट शाम में हटा दिया।

संबंधित खबर : मुजफ्फरपुर कांड : टैबलेट खिलाकर होता था बलात्कार, होश आने पर नहीं रहते थे बच्चियों के शरीर पर कपड़े

अब ब्रजेश pib के लिस्ट में नहीं है। समझा जाता है कि pib ने यह मीडिया रिपोर्ट पर कदम उठाया है। तो वहीं, अखबार के प्रिंट लाइन में दिल्ली संवाददाता का नाम में ब्रजेश ठाकुर यानी सिर्फ ‘ब्रजेश’ प्रिंट है।

यहीं तक ये सीमित नहीं है, बिहार सरकार के जनसंपर्क विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकारों की सूची में भी ये शामिल हैं। प्रातः कमल का पटना संवाददाता के हैसियत से कार्ड बनवाये हुए है (कार्ड न. 869/16 जो 3.8.2016 को जारी हुआ है)।

पीआईबी (दिल्ली से) और पीआरडी (पटना से) दोनों जगह से संवाददाता का कार्ड बनवाने के पीछे क्या मकसद है यह वहीं जाने। यही नहीं बिहार सरकार के जनसंपर्क विभाग द्वारा गठित प्रेस मान्यता समिति में सदस्य भी है, पता नहीं किस हैसियत से। ब्रजेश ठाकुर ने अपने प्रातः कमल अखबार के संपादक बेटे को पटना से प्रकाशित अंग्रेजी अखबार ‘न्यूज नेक्सट’ का पटना संवाददाता बनाकर बिहार सरकार के जन संपर्क विभाग से मान्यता प्राप्त कार्ड बनवा दिया। ‘न्यूज नेक्सट’ का मालिक/ संपादक अपनी बेटी निकिता आनंद को बना रखा है।

ब्रजेश ठाकुर ने मीडिया का साम्राज्य स्थापित कर खूब मीडिया का पावर खेल खेला है। अब आप खुद सोचें मुजफ्फरपुर के प्रातः कमल का संपादक पटना आकर अपने ही घर के दूसरे अंग्रेजी अखबार के लिए पटना से रिपोर्टिंग भी कर लेता है। यही हाल ब्रजेश ठाकुर का है, वे भी दिल्ली और पटना के संवाददाता बन रिपोर्टिंग करते हैं।

इस प्रातः कमल की बात करें तो इस अखबार से जुड़े लोग बताते है कि 63,000 प्रति छपने वाले इस अखबार में मैनेजर और मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म मामले का मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के पिता राधा मोहन ठाकुर ने यह अखबार शुरू किया था।

यह 12 पन्ने का एक दैनिक अखबार है, जो साल 1982 से प्रकाशित हो रहा है। अपने को उत्तर बिहार का लोकप्रिय अखबार कहता हैं। फिलहाल, अखबार का संपादक राहुल आनंद है जो ब्रजेश ठाकुर का बेटा है। एक समय में ब्रजेश ठाकुर 16 अखबार के एक मालिक होते थे।

इस रैकेट का खुलासा वरिष्ठ पत्रकार अनिल चमड़िया ने 1986 में कोलकाता से प्रकाशित होने वाले रविवार में और सुरेंद्र किशोर ने जनसत्ता में किया था। अखबार के आड़ में ये बहुत कुछ करता है।

Next Story

विविध