Top
उत्तर प्रदेश

बुंदेलखंड : फसल कटाई के लिए मजदूर न मिलने पर किसान ने लगाई फांसी

Nirmal kant
11 April 2020 4:46 PM GMT
बुंदेलखंड : फसल कटाई के लिए मजदूर न मिलने पर किसान ने लगाई फांसी
x

मृतक किसान के परिजनों ने बताया कि खेत में खड़ी गेहूं की फसल पक गई है और पिछले दो दिनों से फसल कटाई के लिए शुक्ला मजदूरों की तलाश कर रहे थे....

जनज्वार। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की देहात कोतवाली क्षेत्र के जारी गांव में शनिवार सुबह फसल कटाई के लिए मजदूर न मिलने पर एक किसान ने पेड़ से फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली।

पर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) लाल भरत कुमार पाल ने बताया, जारी गांव में रामभवन शुक्ला उर्फ लाला (52) का शव गांव के बाहर एक पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटका पाया गया है। घरवालों की सूचना पर शव को उतारकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है।

संबंधित खबर : मनरेगा मजदूरों से करायी जाए हरियाणा, पंजाब में गेहूं की कटाई - गुलाम नबी आजाद

मृतक किसान के परिजनों ने बताया कि खेत में खड़ी गेहूं की फसल पक गई है और पिछले दो दिनों से फसल कटाई के लिए शुक्ला मजदूरों की तलाश कर रहे थे। आज सुबह भी मजदूरों की तलाश में वह घर से गए थे, लेकिन लॉकडाउन की वजह से मजदूर ढूंढ़े नहीं मिल रहे, जिसके चलते शायद उन्होंने पेड़ से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।

दें कि बांदा जिले में अब तक दो कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से एक ठीक हो चुका है, जबकि एक का इलाज चल रहा है। लॉकडाउन का असर न केवल प्रवासी मजदूरों पर पड़ा है बल्कि खेती और किसानी पर भी इसका बड़ा असर देखने को मिल रहा है किसान परेशान हैं।

संबंधित खबर : भूख से तड़पते मजदूर अपने साथी की मौत से हुए आक्रामक, जला दिया शेल्टर होम ही

देश में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों के चलते लॉकडाउन को आगे बढ़ाए जाने की पूरी संभावना जताई जा रही है। 21 दिनों का लॉकडाउन 14 अप्रैल को ख़त्म हो रहा है। अगर लॉकडाउन की समय सीमा को आगे बढ़ाया जाता है तो इससे किसानों को और मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

Next Story

विविध

Share it