Top
दुनिया

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच चीन ने भारतीय सीमा पर नियुक्त किया नया आर्मी कमांडर

Nirmal kant
5 Jun 2020 11:09 AM GMT
वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच चीन ने भारतीय सीमा पर नियुक्त किया नया आर्मी कमांडर

चीन ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ग्राउंड फोर्सेस की देखरेख के लिए एक नए आर्मी जनरल जू किइलिंग की नियुक्ति की है, वेस्टर्न थिएटर कमांड चीन की पांच कमानों में सबसे बड़ी है...

जनज्वार ब्यूरो। वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर जारी तनाव के बीच चीन ने भारत की सीमा पर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ग्राउंड फोर्सेस की देखरेख के लिए एक नए आर्मी जनरल जू किइलिंग की नियुक्ति की है। इस नई नियुक्ति की पुष्टि 1 जून को एक रिपोर्ट में सार्वजनिक किया गया था जिसमें बताया गया था कि लेफ्टिनेंट जनरल जू किइलिंग पीएलए के वेस्टर्न थिएटर कमांड की ग्राउंड फोर्स या आर्मी के नए कमांडर होंगे।

लेफ्टिनेंट जनरल जू जनरल झाओ ज़ोंग्की को रिपोर्ट करेंगे, जो वेस्टर्न थिएटर कमान के कमांडर हैं और ग्राउंड फोर्स या सेना, वायु सेना और रॉकेट फोर्स सहित सभी बलों की देखरेख करते हैं। कमान भारत की सीमा के लिए जिम्मेदार है और पांच थिएटर कमांड में से सबसे बड़ी है। थिएटर कमांड आमतौर पर जनरलों के नेतृत्व में होते हैं।

संबंधित खबर : ZEE NEWS ने पार कर दी चाटुकारिता की हद, चीनी सेना के घुसने पर चैनल पूछ रहा है राहुल गांधी से सवाल

नरल झाओ 2017 डोकलाम स्टैंड-ऑफ के दौरान वेस्टर्न थिएटर कमांडर भी थे। अक्टूबर 2017 में उन्हें कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं केंद्रीय समिति में भी नियुक्त किया गया। जनवरी में उनके प्रमोशन से पहले वह पूरे ईस्टर्न थियेटर कमांड के प्रमुख थे। ईस्टर्न थिएटर कमान में जनरल झाओ के समकक्ष जनरल ही वेदोंग पहले वेस्ट में पीएलए के ग्राउंड फोर्सेज के प्रभारी थे।

लएसी पर भारतीय और चीनी सेना मई की शुरुआत से आमने सामने हैं। स्थिति को हल करने के लिए 6 जून को लेफ्टिनेंट-जनरल स्तर पर वार्ता होगी। बुधवार को दो पूर्व भारतीय जनरलों ने कहा कि वर्तमान गतिरोध की घटनाएं पिछली घटनाओं से अलग थी जो पहले एक स्थान तक सीमित होती थीं। एलएसी पर चार अलग-अलग स्थानों पर स्टैंड ऑफ हैं और दो क्षेत्रों में हाइ लेवल की योजना बनाने का सुझाव दिया गया है।

सुरक्षा सलाहकार बोर्ड के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) एस.एल. नरसिम्हा ने कहा, मामले का तथ्य यह है कि कई तरह से आमने सामने आने से पहले किसी तरह की योजना बनाई गई है। पहले वे एक जगह पर होते थे। इस बार सिक्किम, पैंगोंग और गलवान में कई बार आमने-सामने हुए हैं। हम जिस तरह की संख्या देख रहे हैं, वह भी वैसी नहीं है जैसे पहले हमने देखी थी और आक्रामकता सामान्य से अधिक है।

त्तरी सेना के पूर्व कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डी.एस. हुड्डा ने कहा, सामान्य तौर हर साल आमने सामने होते हैं। वे इस तरह की घटनाओं का नेतृत्व नहीं करते थे। यह बहुत अधिक गंभीर मामला है। वे पूरी तरह से अच्छी तरह से तैयार हैं और बल द्वारा चीजों को करने के लिए तैयार हैं। हमने हिंसा के इस स्तर को कभी नहीं देखा है।

संबंधित खबर : भारत के लिए यह वक्त मोहरा बनने का नहीं, अमेरिका को इस्तेमाल कर चीन को सबक सिखाने का है!

वेस्टर्न थिएटर कमांड की स्थिति के मैनेजमेंट के लिए जिम्मेदारी की बात होगी और लेफ्टिनेंट जनरल जू और जनरल झाओ के डिसीजन मेकिंग में शामिल होने की संभावना है।

नवरी के महीने में भारत सेना के नॉर्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने एक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया था और चेंग्दू में कमांड मुख्यालय में जनरल झाओ के साथ मुलाकात की थी जिसका उद्देश्य सेनाओं के बीच कम्युनिकेशन में सुधार लाना था।

Next Story

विविध

Share it