Top
शिक्षा

बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल

Janjwar Team
14 March 2020 2:30 AM GMT
बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल
x

कोरोना 19 वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए एहतियात के तौर पर सूबे के सभी सरकारी व निजी स्कूलों तथा कॉलेज व कोचिंग संस्थानों को 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है....

पटना से आलोक कुमार की रिपोर्ट

जनज्वार। बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि सरकार के अधीन चलने वाले कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में जो परीक्षाएं इस महीने में शिड्यूल हैं, उन्हें स्थगित किया जा रहा है। सरकारी स्कूलों के साथ-साथ सूबे के सभी निजी स्कूल व कोचिंग संस्थान भी 31 मार्च तक बंद रहेंगे। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव महाजन ने कहा कि स्कूल बच्चों के लिए बंद किए गए हैैं। शिक्षकों को स्कूल आना है। स्कूल बंद रहने के दौरान मिड डे मील की राशि बच्चों के परिजनों के खाते में डाल दी जाएगी।

सीबीएसई व आईसीएसई बोर्ड की चल रही परीक्षाओं के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में संबंधित बोर्ड को निर्णय लेना है।सभी सिनेमा हॉल, पार्क, चिडिय़ाघर व संग्रहालय भी 31 मार्च तक बंद कर दिए गए हैं। इस बीच गांधी मैदान में होने वाले बिहार दिवस के तीन दिवसीय आयोजन को भी रद कर दिया गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई उच्चस्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि जनता को घबराने की जरूरत नहीं है। ये कदम एहतियातन उठाए जा रहे हैं।

संबंधित खबर : कोरोना वायरस के चलते दिल्ली के सभी स्कूल, सिनेमा हॉल 31 मार्च तक रहेंगे बंद

पार्क-जू व हॉल भी बंद, बिहार दिवस आयोजन रद

बैठक में निर्णय हुआ कि सूबे के सभी सिनेमा हॉल, पार्क, चिड़ियाघर व संग्रहालय 31 मार्च तक बंद रहेंगे। सामूहिक आयोजन पर रोक रहेगी। गांधी मैदान में होने वाले बिहार दिवस के तीन दिवसीय आयोजन को भी रद कर दिया गया है।

को रोटेशन में बुलाने पर विचार संभव

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि सरकारी दफ्तरों में रोटेशन के आधार पर कर्मियों को बुलाया जाए। अगर 10 कर्मी किसी दिन आते हैैं तो उन्हें अगले दिन नहीं बुलाया जाए। सरकारी दफ्तरों में कंजेशन न हो, इसका ध्यान रखा जाए। मुख्य सचिव ने बताया कि सोमवार को इस बारे में अलग आदेश जारी किया जाएगा।स्वास्थ्य विभाग ने कर्मियों की छुट्टियां रद कर दी हैं। पटना मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल सहित सभी अस्‍पतालों में डॉक्टरों की छुट्टियां रद कर दी गई हैं। आइसीयू में बेड बढ़ाए जा रहे हैं।

नॉनवेज पर रोक नहीं

मुख्‍य सचिव ने स्‍पष्‍ट किया कि ये कदम एहतियातन उठाए गए हैं। सोमवार को फिर इसकी समीक्षा की जाएगी।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई इस हाई लेवल मीटिंग में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, प्रदेश के स्वास्थ्यमंत्री मंगल पांडेय सहित कई उच्चाधिकारी शामिल थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में कोरोना से बचाव के लिए किए जा रहे उपायों की जानकारी ली। इसके साथ ही इसे लेकर क्या कदम उठाए जाने चाहिए, इसकी भी चर्चा की गई।

मुख्‍यमंत्री ने कहा- डरने की जरूरत नहीं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर डरने की आवश्यकता नहीं है। सरकार पूरी तरह से सतर्क है। उन्‍होंने कहा कि सरकार के कदम एहतियाती और लोगों को जागरुक करने के लिए हैं। मोबाइल व अन्य संचार माध्यमों से लोगों को इसके बारे में जानकारी दी जा रही है। सरकार के स्तर पर जरूरी उपाय किए गए हैैं। बिहार में विदेश से आने वाले लोगों की पटना एवं बोधगया एयरपोर्ट पर सख्त स्क्रीनिंग भी की जा रही है।बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि उच्च स्तरीय बैठकों के जरिए सरकार लगातार हालात की समीक्षा कर रही है। अंतरराष्ट्रीय सीमा और एयरपोर्ट पर विशेष चौकसी बरती जा रही है।

कैंडल लाइट विरोध मार्च रद्द

साई समुदाय राजधानी पटना में बुद्धा स्मृति पार्क के पास मोमबत्ती जलाकर विरोध करें और मोमबत्ती की रोशनी में देश में शांति,भाई व बहनचारा एवं बंधुत्व की गंगा बहाने लगे।14 मार्च को सीएए, एनपीआर, एनआरसी के खिलाफ कैंडल लाइट विरोध मार्च का आयोजन यूनाइटेड क्रिश्चियन फोरम द्वारा किया गया था।भारतीय संविधान के बुनियादी ढांचे को तोड़ने-मड़ोरने की कोशिश दिनों-दिन गहरी होती जा रही है। जो कार्य आजादी के 73 सालों में कभी किसी व्यक्ति से नहीं पूछा गया कि कैसे इस देश का नागरिक है; उसका प्रमाणिक दस्तावेज दिखाएं।

संबंधित खबर : पंजाब में पहला कोरोना वायरस केस मिला पॉजिटिव, सरकार अलर्ट

रकार द्वारा पारित संशोधित सीएए,एनआरसी और एनआरपी देश को खतरे में दिया है। इन तीनों का एक दूसरे से संबंध में है। अब ईसाई कलीसिया भी एनआरसी और एनपीआर का विरोध करने 14 मार्च को सड़क पर उतरने का मन बना लिया है। ईसाई समुदाय राजधानी पटना में बुद्धा स्मृति पार्क के पास मोमबत्ती जलाकर विरोध करें और मोमबत्ती की रोशनी में देश में शांति,भाई व बहनचारा एवं बंधुत्व की गंगा बहाने लगे।हस्ताक्षर अभियान चल रहा था कि यूनाइटेड क्रिश्चियन फोरम के संयोजक फादर अमल राज ने कहा कि कैडल लाइट विरोध रैली स्थगित कर दी गयी है।

Next Story

विविध

Share it