समाज

चीन में फैले कोरोना वायरस से अबतक 56 लोगों की मौत, कितना चिंतिंत है भारत ?

Nirmal kant
25 Jan 2020 12:09 PM GMT
चीन में फैले कोरोना वायरस से अबतक 56 लोगों की मौत, कितना चिंतिंत है भारत ?
x

कोरोना वायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है जो सामान्य जुकाम से लेकर श्वांस तंत्र को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है। कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर व्यक्ति में बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, हांफना जैसे लक्षण नजर आते हैं...

जनज्वार। चीन ने फैले कोरोनावायरस को लेकर हाई अलर्ट जारी कर दिया है। चीन में स्वास्थ्य अधिकारियों ने 15 नई मौतों की सूचना दी है जिससे अब मौतों संख्या 26 तक पहुंच गई है। चीन के शहर शंघाई डिजनीलैंड को बंद कर दिया गया है। चीन के उन अस्पतालों ने सरकार से मदद की गुहार लगाई है जिनमें कोरोना वायरस की पुष्टि हुई या कोरोना वायरस मौते हो चुकी हैं। इस वायरस से अबतक के सबसे कम उम्र के पीड़ित की पहचान मध्य चीन में 36 वर्षीय व्यक्ति के रूप में की गई है।

अकेले वुहान में पंद्रह नई मौतें

चीन के हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में पंद्रह और लोगों की मौत हो गई है जिनमें से ग्यारह पुरुष और चार महिलाएं हैं। कोरोना वायरस के प्रकोप का उपरी केंद्र वुहान शहर है। हुबेई के स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा जारी किए गए नए आंकड़ों से मौतों से 60 प्रतिशत तक की वृद्धि हो गई है। वुहान के बाहर हुई 41 मौतों में से की मौत हुई है। कोरोनावायरस के संक्रमण से पीड़ितों की उम्र 55 से 87 वर्ष के बीच थी।

वायरस का संक्रमण यूरोप और ऑस्ट्रेलिया तक पहुंच गया है। संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया में भी नए मामलों की पुष्टि की गई है।

संबंधित खबर : अगले 8 सालों में चीन को पछाड़ भारत बन जायेगा दुनिया का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश

चीन स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक चीन में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या लगभग 1,300 हो गई जिनमें से 400 से अधिक नए मामलों का उपचार चल रहा है। मरने वालों की संख्या बढ़ने से चीन सरकार ने प्रभावित जगहों के आस-पास के 12 शहरों में यात्रा करने से लोगों को रोक दिया है।

चीन के मुख्य शहर वुहान को पूरी तरह से बंद (लॉक डाउन) कर दिया गया है। चीन के हुबेई प्रांत की सरकार ने वुहान शहर में कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए स्थानीय लोगों के शहर छोड़ने पर अस्थायी रुप से रोक लगा दी है।कोरोनावायरस से लोगों की मौत के बाद करीब 11 मिलियन की आबादी वाले वुहान शहर में रेलवे, प्राइवेट ट्रांसपोर्ट समेत सभी प्रकार के यातायात बंद कर दिए गए हैं। कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित वुहान हुआ है। अकेले वुहान में पंद्रह मौतों की पुष्टि हुई है।

हान में न तो हवाई परिचालन होगा और न ही बस एंव ट्रेनों का संचालन। अकेले वुहान में 600 इस वायरस से प्रभावित हुए हैं। चीन के शहरों में रह रही करीब 4.1 करोड़ की आबादी प्रभावित हो रही है। प्रभावित शहरों दवा की दुकानों को छोड़कर सब कुछ बंद करने का आदेश दे दिया गया है।

क्या है कोरोनावायरस

कोरोना वायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है जो सामान्य जुकाम से लेकर श्वांस तंत्र को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है। कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर व्यक्ति में बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, हांफना जैसे लक्षण नजर आते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इस वायरस को '2019-एनकोव' नाम दिया है।

भारतीय एयरपोर्टों पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कुछ लोगों को निगरानी में रखा गया है। मुंबई और नई दिल्ली स्थित एम्स में भी कोरोना वायरस के लिए अलग से वार्ड बनाये गए हैं। कोरोनावायरस से चीन में रह रहे भारतीय लोग भी प्रभावित हो रहे हैं।

समय से हांगकांग में रह रहे भारतीय नागरिक समर अनार्य कहते हैं, 'पहले ही सार्स (Severe acute respiratory syndrome) की विभीषिका झेल चुके हांगकांग में इस वायरस के बाद दहशत का माहौल है। 2003 में फैले सार्स में सिर्फ 2 महीनों में हांग कांग में करीब 300 लोगों की मृत्यु हो गई थी और हज़ारों अन्य भी प्रभावित थे। इस बार भी अफरातफरी का आलम ये है कि हांगकांग प्रशासन की पूरी तैयारी, चीन ही नहीं दुनिया में कहीं से भी आ रहे सभी यात्रियों की पूरी जांच पड़ताल के बावजूद लोग सतर्क हैं, बाज़ार से मेडिकल मास्क ख़त्म हो गए हैं।

संबंधित खबर : चीनी कंपनियां नहीं रहीं अब सिर्फ कॉपी पेस्ट कर उत्पाद बनाने वाली

सार्स ने भी इससे पहले चीन में आतंक मचाया था। कोरोना वायरस की आनुवंशिक समानताएं सार्स (SARS) से हैं। सार्स के कारण चीन और हांगकांग में वर्ष 2002-2003 में करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी।

Next Story

विविध

Share it