Top
हरियाणा

कोरोना से मौत होने पर शव को नहीं छू सकते परिजन, हरियाणा सरकार ने जारी किए आदेश

Nirmal kant
10 April 2020 3:30 AM GMT
कोरोना से मौत होने पर शव को नहीं छू सकते परिजन, हरियाणा सरकार ने जारी किए आदेश
x

आदेश के उल्लंघन को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (1860 में 45) के तहत दंडनीय अपराध माना जाएगा। सरकार ने आदेश का कड़ाई से पालन कराने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किये गये....

जनज्वार ब्यूरो चंडीगढ़। कोविड-19 प्रभावित शवों का निपटान करे के लिए सरकार ने आदेश जारी किए हैं। शव के अंतिम संस्कार के लिए कई मानक तय किए हैं। सरकार के आदेश के मुताबिक जिस बैग में शव रखा गया है, उसे थोड़ा सा खोलकर परिवारजनों को मृतक के अंतिम दर्शन करवाने चाहिए। शव को नहलाने, चूमने या आंलिगन करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। अंतिम संस्कार के समय धार्मिक ग्रंथों को पढऩे, पवित्र जल का छिडक़ाव या कोई भी ऐसा कार्य करने की अनुमति होगी जिसमें शव को छूने की आवश्यकता न पड़े।

देश के मुताबिक अंतिम संस्कार के उपरांत परिवार के सदस्यों को अपने हाथों को अच्छे से धोना चाहिए। राख से कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा नहीं है इसलिए अस्थि प्रवाह के लिए उसे एकत्रित किया जा सकता है। सरकार के आदेश के मुाताबिक नगरपालिकाओं द्वारा हरियाणा नगर निगम अधिनियम, 1994 और हरियाणा नगरपालिका अधिनियम, 1973 के प्रासंगिक प्रावधानों का अनुपालन भी किया जाएगा।

संबंधित खबर : मीडिया जब कोरोना को मुसलमानों से जोड़ रहा था, उसी वक्त मुस्लिमों ने उठाई हिंदू पड़ोसी की अर्थी, नहीं आए रिश्तेदार

कोरोना वायरस को रोकने के लिए सरकार की ओर से यह गाइडलाइन तैयार की गयी है। सरकार ने नगर निगमों के सभी आयुक्तों, नगर परिषदों के कार्यकारी अधिकारियों और नगर समितियों के सचिवों को स्वास्थ्य सेवाएं महानिदेशालय, (ईएमआर डिवीजन) स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा कोविड शव प्रबंधन के संबंध में जारी किए गए दिशानिर्देशों एवं प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करते हुए कोरोना वायरस प्रभावित शवों का निपटान करने के लिए अधिकृत किया है।

सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि किसी व्यक्ति, संस्था और संगठन द्वारा किसी भी संबंधित आदेश के उल्लंघन को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (1860 में 45) के तहत दंडनीय अपराध माना जाएगा। यह भी आदेश दिए गए हैं कि नगर निगम आयुक्त इस कार्य के लिए संयुक्त आयुक्त या अधीक्षक अभियंता या कार्यकारी अभियंता के स्तर के वरिष्ठ अधिकारी को नोडल अधिकारी पदनामित करेगा जबकि कार्यकारी अधिकारी और सचिव इस संबंध में अपने-अपने क्षेत्र में नोडल अधिकारी होंगे।

न्होंने बताया कि दिशानिर्देशों के अनुसार स्टैण्डर्ड इन्फेक्शन कंट्रोल प्रैक्टिस में हाथों को बार-बार साफ करना, व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण का उपयोग (जैसे, जल प्रतिरोधी एप्रन, दस्ताने, मास्क, आईवियर)करना, नुकीली चीजों का सुरक्षित रूप से निपटान करना, शव रखे जाने वाले बैग, पीडि़तों पर इस्तेमाल किए गए उपकरणों एवं कपड़ों को कीटाणुरहित करना और आस-पास की सतहों को साफ एवं कीटाणुरहित करना शामिल है।

'इसके अलावा आइसोलेशन एरिया, शवगृह एवं एम्बुलेंस में शवों की देखभाल के लिए चिह्नित सभी कर्मचारियों और श्मशान घर एवं कब्रिस्तान में कार्यरत कर्मचारियों में संक्रमण को रोकने के लिए किए जाने वाले उपायों के संबंध में प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।'

संबंधित खबर : कोरोना संकट - IIT कानपुर ने तैयार किया 100 रुपये से भी कम कीमत का पीपीई किट

न्होंने बताया कि निगम आयुक्तों को शोक संतप्त परिवारों को शवों के माध्यम से कोविड-19 के फैलने बारे और इसकी रोकथाम के लिए किए जाने वाले उपायों बारे जानकारी देने के लिए संयुक्त आयुक्त या अधीक्षक अभियंता या कार्यकारी अभियंता को नोडल अधिकारी के रूप में पदनामित करने के निर्देश दिए गए हैं।

धिकारियों द्वारा संतप्त परिवार को बताया जाएगा कि सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए श्मशान घर में बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति से बचना चाहिए क्योंकि ऐसे में संक्रमण के फैलने की संभावना अधिक रहती है। 10 वर्ष से कम आयु के बच्चों और 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों को शव से सीधे सम्पर्क में आने से बचना चाहिए और उन्हें श्मशान घर में नहीं ले जाना चाहिए।

Next Story

विविध

Share it