Top
झारखंड

झारखंड की पहली कोरोना पॉजिटिव बनीं धर्म का प्रचार करने आई मलेशियाई महिला

Raghib Asim
31 March 2020 1:32 PM GMT
झारखंड की पहली कोरोना पॉजिटिव बनीं धर्म का प्रचार करने आई मलेशियाई महिला
x

रांची के हिंदपीढी इलाके में रह रही एक महिला का कोरोना टेस्ट पाॅजिटिव आया है. वह महिला मलेशिया की रहने वाली है और यहां धर्मप्रचार के लिए आयी थी. वह तबलीगी जमात से जुड़ी है...

राहुल सिंह की रिपोर्ट

जनज्वार। झारखंड में आज कोरोना का पहला ज्ञात मामला सामने आया है. रांची के हिंदपीढी इलाके में रह रही एक महिला का कोरोना टेस्ट पाॅजिटिव आया है. वह महिला मलेशिया की रहने वाली है और यहां धर्मप्रचार के लिए आयी थी. वह तबलीगी जमात से जुड़ी है.

ल ही पुलिस ने रांची की एक मसजीद पर छापेमारी की थी और लाॅकडाउन में वहां छिपे 22 लोगों को हिरासत में लिया था. इनमें 17 विदेशी नागरिक शामिल हैं. विदेशी मलेशिया, इंग्लैंड, इंडोनेशिया, दक्षिण अफ्रीका, पोलैंड के रहने वाले हैं. कार्रवाई के बाद उनका वीजा व पासपोर्ट जब्त कर लिया गया था. इनमे ंचार महिलाएं थीं. बाहर से आने पर नियमतः इन विदेशी नागरिकों की जांच नहीं हुई थी, ऐसे में प्रशासन ने उन्हें क्वारंटाइन सेंटर में भेज दिया था और जांच कराने की प्रक्रिया आरंभ की गयी. उनमें एक महिला की रिपोर्ट आज पाॅजिटिव आयी है. इसके बाद आज उक्त महिला को खेलगांव के क्वारंटाइन सेंटर से रिम्स में भर्ती कराया गया है.

संबंधित खबर : बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर कोरोना पॉजिटिव, पिता ने माना पार्टी में 400 लोगों से मिली थी

स मामले के सामने आने के बाद राज्य प्रशासन में हड़कंप मच गया है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एक कोरोना संकट को लेकर एक अहम बैठक कर रहे हैं. वहीं, अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि लाॅकडाउन का पालन सख्ती से किया जाए.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा है कि एक मामला पाॅजिटिव आया है और उसे आइसोलेशन में डाला जाएगा. उन्होंने कहा कि उसके संपर्क में आए अन्य लोगों की जांच करायी जाएगी. गुप्ता ने कहा कि अबतक झारखंड में एक भी केस नहीं आया था, लेकिन अब यह पहला केस आया है.

संबंधित खबर : कोराना में सांसद-विधायक फंड की घोषणा कर रहे ऐसे, जैसे अपनी जमीन-जायदाद बेचकर दे रहे हों दान

जानकारी के अनुसार, 17 मार्च को आठ विदेशी नागरिक रांची आए थे और फिर 18 मार्च को नौ और विदेशी नागरिक रांची जाए. इनके दिल्ली से यहां आने की बात बतायी गयी है. ये लोग 13 से 15 मार्च तक दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तबलीगी जमात में शामिल हुए और उसके बाद बारी-बारी से रांची पहुंचे. मीडिया में यह रिपोर्ट लगातार आ रही है कि निजामुद्दीन के जमात में शामिल लोग देश के विभिन्न हिस्सों में गए हैं और इससे इस महामारी के विस्फोटक होने का भय बना गया है.

संबंधित खबर : कोरोना जांच से भाग रही झारखंड सरकार, 3.25 करोड़ आबादी में सिर्फ 179 लोगों की जांच

रांची के डीसी राय महिमापत रे एवं एसएसपी अनीश गुप्ता ने कोरोना पाॅजिटिव के पहले केस के सामने आने की बात बताते हुए लोगों से आग्रह किया है कि वे किसी भी अफवाह पर ध्यान नहीं दे और सोशल मीडिया पर इस संबंध में कोई पोस्ट नहीं करें. दोनों अधिकारियों ने समस्या होने की स्थिति में जिला प्रशासन से संपर्क करने की अपील की है और कहा है कि हम इस मामले में तमाम एहतियात बरत रहे हैं और आवश्यक उपाय कर रहे हैं.

Next Story

विविध

Share it