राजनीति

नये साल पर मोदी सरकार का तोहफा : 19 रुपये महंगा किया रसोई गैस सिलेंडर

Nirmal kant
1 Jan 2020 1:13 PM GMT
नये साल पर मोदी सरकार का तोहफा : 19 रुपये महंगा किया रसोई गैस सिलेंडर
x

नये साल पर रसोई गैस और रेलवे में यात्री किराया बढ़ा, बिना सब्सिडी वाले घरेलू सिलेंडर पर 19 रुपये बढ़ा, रेलवे ने भी बढ़ाया यात्री किराया....

जुनैद अंसारी की रिपोर्ट

जनज्वार। ये साल के जश्न के बीच मंहगाई का जोरदार झटका लगा है। घर की महिलाओं का बजट खराब होने वाला है। नये साल के दिन से बिना सब्सिडी वाले घरेलू सिलेंडर पर 19 रुपए से लेकर 21.50 रुपये तक मंहगा हो गया है। जश्न के बाद से घरेलू सिलेंडर ने सभी को नए साल की शुभकामनाएं देते हुए अपनी याद दिलाई है। यह लगातार पांचवां महीना है जब घरेलू सिलेंडर का दाम बढ़ा है। साल का डबल धमाका हुआ है रेलवे ने भी अपने किराये में बढ़ोतरी कर दी है। 1 पैसा से लेकर 4 पैसा प्रति किलोमीटर तक टिकट के दाम बढ़ा दिया गया है। दूरी जितनी अधिक होगी किराया उतना बढ़ेगा।

रिवजन के बाद गैस कम्पनियों ने गैर-सब्सिडी वाले घरेलू गैस सिंलेडर के दाम 19 रुपये बढ़ा दिया है। अब घरेलू सिलेंडर 749 रुपये का हो गया है। जबकि कमर्शियल सिलेंडर (19 किलो) पर 29.50 रुपये का इजाफा हुआ है। कारोबारियों को अब सिलेंडर के लिए 1325.00 रुपये चुकाने होंगे। वहीं पांच किलो वाले छोटा सिलेंडर पर सात रुपये की बढ़ोतरी के बाद यह 276 रुपये का पड़ेगा। इस बार घरेलू गैस उपभोक्ताओं के खातों में 238.10 रुपये की सब्सिडी आएगी। बढ़े हुए दाम नए साल के दिन से लागू कर दिए हैं।

संबंधित खबर : गैस सिलेंडर की ​सब्सिडी लेकर कितने फायदे में हैं आप?

दिल्ली में 14.2 किलो वाला सिंलेडर 714 रुपये, कोलकाता 747 रुपये, मुंबई 668.50 रुपये और चन्नेई 734 रुपये हो गया है। पिछले पांच महीनों में लगातार गैस के दाम बढ़े हैं। सितंबर की बात करें तो घरेलू सिल्डर 611 रूपये था जो लगातार बढ़ते-बढ़ते नए साल पर 749 रुपय़े का हो गया है। इस तरह रसोई पर पिछले पांच महीने में घरेलू सिल्डर पर 137 रुपये तो कमर्शियल सिलेंडर पर 230 रुपये का अतिरिक्त भार पड़ा है।

साल पर जनता को मंहगाई की मार झेलनी पड़ रही है। जहां रेलवे ने बेसिक किराए पर बढ़ोतरी किया तो गैस के दाम से किचन का बजट पूरी तरह बिगड़ने वाला है। अंतर्राष्ट्रीय बजार में कीमतों तेजी के कारण दाम में वृद्धि की गई है।

दामों में बढ़ोत्तरी के फैसले को लेकर जनज्वार ने दिल्ली से सटे गाजियाबाद के हर्जपुर के लोगों से बात की। इस दौरान हर्जपुर की एक महिला ने कहा कि इसका असर हमारे किचन पर पड़ेगा , पहले से ही इतनी महंगाई है। सरकार नौकरी नहीं दे रही और जो नौकरी कर रहे उनकी सैलरी नहीं बढ़ती है और मंहगाई लगातार बढ़ रही है। लगता है सरकार हमें मार ही डालेगी।

संबंधित खबर : तैयार रहें अब 1 हजार का हो जाएगा गैस सिलेंडर

क दूसरी महिला ने कहा, 'हम कैसे अपने बच्चों को पढ़ाएं, कहां से खाना खिलाएं, इतनी महंगाई है। बढ़ती महंगाई से लगता है कि अगर सारा पैसा सामान खरीदने में लगा दें तो बच्चों को कैसे पढ़ाएं और अगर बच्चों को पढ़ाते हैं तो खाना कैसा खाएं।

क महिला ने कहा एक तरफ बढ़ती महंगाई है तो दूसरी तरफ नौकरियों की कमी, जो लोग नौकरी कर रहें है तो उनकी तनख्वाह इतनी नहीं हैं कि सारे काम कर सकते हैं।

Next Story

विविध