Top
हरियाणा

हरियाणा के आत्मनिर्भर मंत्री-मुख्यमंत्री पीते हैं नॉर्वे की कंपनी का पानी, एक बोतल की कीमत है 345 से 475 रुपये

Nirmal kant
27 May 2020 10:12 AM GMT
हरियाणा के आत्मनिर्भर मंत्री-मुख्यमंत्री पीते हैं नॉर्वे की कंपनी का पानी, एक बोतल की कीमत है 345 से 475 रुपये
x

पानी कंपनी वॉस का दावा है कि इन बोतलों की निर्माण प्रक्रिया पूरी तरह से कार्बन न्यूट्रल है। वॉस अमेरिका ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया सहित विभिन्न देशों में सर्वाधिक ख्यातिप्राप्त मिनरल वाटर है, 500 एमएल पानी की एक बोतल की कीमत 345 रुपये से लेकर 475 रुपये तक बताई जाती है ...

मनीष दुबे की रिपोर्ट

जनज्वार ब्यूरो। क्या किसी ने 'वॉस' नाम की पानी कंपनी के बारे में सुना है। सुना भी होगा तो आंकड़ा प्रति 100 व्यक्तियों में इक्का-दुक्का ही जायेगा। हमने भी लॉकडाउन के बीच पहली दफा इसका नाम सुना है। सर्च किया तो जाना यह नॉर्वे स्थित पानी की बहुचर्चित कंपनी है। जो वहां वॉस आईवेन्ड म्युनिसिपैलिटी के नाम से ऑस्ट-एगडा काउंटी के वटनस्ट्राम गांव में बना नार्वेजियन आधारित ब्रांडेड पानी है।

2016 में नॉर्वे की इस कंपनी का एक थाई-चीनी कंपनी रिगनवुड ने अधिग्रहण कर लिया था। जिसके वर्तमान अध्यक्ष लीसा वांग और उपाध्यक्ष जॉन डी शुलमैन हैं। वॉस का मुख्यालय अमेरिका में है और यह एक अमेरिकी लिमिटेड कंपनी है। 2007 में एक महिला स्वास्थ्य पत्रिका की वाटर विशेषज्ञों द्वारा बोतलबंद पानी के बीच वॉस को पहले स्थान पर रखा गया था।

संबंधित खबर : जान हथेली पर लेकर घर लौट रहे मजदूर, सिर पर समान रख यमुना नदी कर रहें पार

साथ ही साथ कंपनी की बेलनाकार बोतलें नील क्राफ्ट द्वारा डिजाइन की गई हैं। पानी कंपनी वॉस का दावा है कि इन बोतलों की निर्माण प्रक्रिया पूरी तरह से कार्बन न्यूट्रल है। वॉस अमेरिका ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया सहित विभिन्न देशों में सर्वाधिक ख्यातिप्राप्त मिनरल वाटर है। 500 एमएल पानी की एक बोतल की कीमत 345 रुपये से लेकर 475 रुपये तक बताई जाती है।

आप सोच रहे होंगे कि मैं आपको यह सब क्यों बता रहा हूँ? तो इसलिए क्योंकि हम सबको आत्मनिर्भर बनना है, लोकल और वोकल को फॉलो करना है। और ये सब उन्हें ही करना है जो मजदूर हैं, गरीब हैं, दिहाड़ीदार या फिर मिडिल क्लास फैमिली चलाने वाले हैं। जिन्हें अपना परिवार और उसके दो वक्त के खाने की मुश्किलें हो रहीं हैं। जिन्हें वो फॉलो करें जो परिवार अपने बच्चों की तीन महीने की फीका माफ करने के लिए आंदोलनरत हैं। आये दिन सरकार से मांग कर रहे हैं।

ट्रेनों, बसों या अन्य तमाम साधनों में जूझ रहे लोगों को 41 से 45 डिग्री पारे में शरीर को सुखा देने के बाद भी पाउच नसीब नहीं हो रहा है। पानी पर त्राहिमाम है। हर आम इंसान पानी के लिए त्रासद जीवन जीने के लिए शापित होता जा रहा है। लेकिन देश के अनगिनत मंत्री मिनिस्टर विदेशी कंपनी का पानी पी रहे हैं। शायद वो इसलिए पी पा रहे है क्योंकि वो सभी खुद में आत्मनिर्भर हैं। 20 लाख करोड़ के आंकड़े शायद उन्हें पता हों।

संबंधित खबर : हरियाणा में पुलिस को मिले असीमित अधिकार, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने कहा बढ़ेंगे उत्पीड़न के मामले

रियाणा के भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की टेबल पर सजी ये पानी की बोतल उसी वॉस कंपनी की हैं जिनका जिक्र हमने ऊपर किया। इन बोतलों और उसमे भरे पानी की कीमत उतनी है जितनी किसी दिहाड़ीदार मिडिल क्लास आदमी की रोज के पारिवारिक खर्चे यानी राशन, दूध, नाश्ता से अधिक ही बैठती है। पर ये सत्ताधीश रसूखदार लोग तो इसी के काबिल हैं। ये राज्य और देश में राज करने वाले वो राजा हैं जो आम जनता का चूसा हुआ लहू रूपी पानी वॉस के रूप में पी रहे हैं।

दोही निवासी पेशे से इंजीनियर प्रदीप मिश्रा अपने एफबी वॉल पर सीएम मनोहर लाल मंत्रिमंडल की वॉस की बोतलों से सजी टेबलों की फ़ोटो शेयर करते हुए लिखते हैं कि 'ये सबकी टेबल के सामने जो पानी की बोतल है वो voss कंपनी की है, जो नार्वे की है। इस पानी की बोतल की शुरुआत 495 रुपये से होती है। ऐसे ही जानकारी के लिए बता रहा था।'

Next Story

विविध

Share it