Top
हरियाणा

हरियाणा में पुलिस को मिले असीमित अधिकार, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने कहा बढ़ेंगे उत्पीड़न के मामले

Prema Negi
22 May 2020 8:00 AM GMT
हरियाणा में पुलिस को मिले असीमित अधिकार, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने कहा बढ़ेंगे उत्पीड़न के मामले
x

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि पुलिस के एसएचओ लेबल के अधिकारी तक को असीमित अधिकार मिलना सही नहीं है, इससे लोगों को दिक्कत आ सकती है...

जनज्वार ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने एक नोटिफिकेशन जारी कर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 60 (ए) के तहत अब पुलिस स्टेशनों के थाना प्रभारी जो सब - इंस्पेक्टर से नीचे रैंक के नहीं हों, कोर्ट में सीधे शिकायत कर सकते हैं। अब लॉकडाउन तोड़ने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जा सकती है। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि इससे इससे मुकदमे दर्ज कराने की संख्या बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें : दाढ़ी देखकर वकील को मुस्लिम समझ पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित

34 साल पहले फरवरी, 1986 से हरियाणा सरकार द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी कर प्रदेश में धारा 188 को गैर-ज़मानती घोषित किया गया जो आज तक हरियाणा में लागू है। हरियाणा में इस धारा के तहत पुलिस बिना वारंट के किसी उलंघनकर्ता को गिरफ़्तार कर सकती है, एवं गैर-ज़मानती अपराध होने के कारण उसकी ज़मानत भी कोर्ट द्वारा ही हो सकती है।

यह भी पढ़ें : बीते 24 घंटों में प्रवासी मजदूरों पर देशभर में हुआ बर्बर पुलिसिया लाठीचार्ज, TWITTER पर हो रही निंदा

कानून के जानकार व पंजाब हरियााण के एडवोकेट हेमंत ने बताया कि थाना प्रभारी न्यूतम सब इंस्पेक्टर और अधिकतम इंस्पेक्टर रैंक के पुलिसकर्मी होते हैं, जोकि राजपत्रित (गजटेड) अधिकारी नहीं है, राज्य सरकार को इस सम्बन्ध में या तो ज़िले के अतिरिक्त उपायुक्त(एडीसी) जो इसके लिये अधिकृत करना चाहिये था। क्योंकि एडीसी जिला आपदा प्रबंधन अथॉरिटी का मुख्य कार्यकारी अधिकारी होता है।

यह भी पढ़ें : डॉक्टर ने मास्क की कमी पर उठाए थे सवाल, पुलिस बुरी तरह पीटते हुए दोनों हाथ बांधकर ले गयी थाने

दि यह संभव नहीं है तो जिला स्तर के अधिकारी जैसे जिला राजस्व अधिकारी (डीआरओ) अथवा पुलिस उपाधीक्षक (मुख्यालय) को इस सम्बन्ध में अधिकृत किया जाना चाहिये।

यह भी पढ़ें : वकील को पीटने के बाद मध्यप्रदेश पुलिस ने माफी मांगते हुए कहा-हमने दाढ़ी देखकर सोचा आप मुस्लिम हो

धारा 188 के संबंध में शिकायतकर्ता या तो सरकारी आदेश जारी करने वाला अधिकारी या उससे उच्च अधिकारी हो सकता है। इसी आधार पर आपदा प्रबंधन कानून में भी वरिष्ठ राजकीय अधिकारी ही शिकायतकर्ता होने चाहिए। मानवाधिकार कार्यकर्ता दीपक शर्मा ने बताया कि इस एसएचओ को काफी पावर मिल जायेगी। इससे आम आदमी को दिक्कत आ सकती है। यह सही नहीं है। इसे लेकर वह जल्दी ही एक अपील दायर करेंगे। उन्होंने बताया कि पहले ही कई जगह पुलिस की ज्यादाती की घटनाएं सामने आयी हैं। सोशल मीडिया पर इस तरह की कई वीडियो देखी जा सकती है।

यह भी पढ़ें : यमुनानगर में प्रवासी मजदूरों पर पुलिस लाठीचार्ज के बाद घिरी भाजपा सरकार तो अब कर रही वादों पर वादे

बताया कि यह सही है कि इस वक्त आपदा प्रबंधन अधिनियम लागू है। लॉकडाउन का पालना करना जरूरी है, लेकिन फिर भी सभी के न्यूनतम अधिकार तो सुरक्षित रहने की चाहिये। ऐसा न ही हो सकता कि हर किसी के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया जाये। एडवोकेट हेमंत ने भी बताया कि एचएचओ को यह पावर देना सही नहीं है।

यह भी पढ़ें : नोएडा पुलिस की गुंडागर्दी, राशन के लिए लाइन में खड़ी महिलाओं पर बरसाईं लाठियां

न्होंने कहा कि इस बारे में सरकार को एक बार फिर से विचार करना चाहिये। यदि संभव हो तो इसमें बदलाव किया जाना चाहिये।

Next Story

विविध

Share it