Top
समाज

झारखंड में डायन के संदेह में मां-बेटी की हत्या, तो राजस्थान में बुजुर्ग महिला के गुप्तांग में भरी लाल मिर्च

Prema Negi
29 Jun 2019 8:36 AM GMT
झारखंड में डायन के संदेह में मां-बेटी की हत्या, तो राजस्थान में बुजुर्ग महिला के गुप्तांग में भरी लाल मिर्च
x

प्रतीकात्मक तस्वीर

झारखंड के चाईबासा में एक महिला को डायन-बिसही के नाम पर मौत के घाट उतार दिया गया तो उसकी बेटी का बलात्कार कर उसका गला रेत हत्या कर दी गई, वहीं अजमेर में 70 साल की बुजुर्ग महिला को डायन कह पड़ोसियों ने मारपीट कर गुप्तांग में भर दी लाल मिर्च...

जनज्वार। झारखंड न सिर्फ भुखमरी और मॉब लिंचिंग, बल्कि अंधविश्वास के कारण होने वाली हत्याओं और हिंसा में भी 'कीर्तिमान' स्थापित कर रहा है। आए दिन यहां डायन के नाम पर महिलाओं के साथ होने वाले अत्याचारों की घटनायें देश के किसी भी हिस्से से ज्यादा होती हैं। इसका सबसे बड़ा कारण गरीबी और अपनी गरीबी के लिए किसी भी तरह के अंधविश्वास पर लोगों की अंधभक्ति है। झारखंड और बिहार तो अंधविश्वास, जादू-टोने के जद में बुरी तरह जकड़ा हुआ है।

भी थोड़े दिन पहले सहरसा के सोनवर्षाराज में एक विधवा महिला पर डायन का आरोप लगाकर मारपीट के बाद जबरन सिर के बाल मुंडवाने समेत मानव मल पिलाने का जघन्य मामला थमा भी नहीं था कि अब झारखंड के चाईबासा में एक महिला को डायन-बिसही के नाम पर मौत के घाट उतार दिया गया तो उसकी बेटी का बलात्कार कर उसका गला रेत दिया गया।

जानकारी के मुताबिक चाईबासा स्थित गुदड़ी के रोवाउली गांव की घटना डायन-बिसाही के संदेह में धारदार हथियार से मां-बेटी की हत्या कर दी गयी। खबर है कि महिला की जवान बेटी का गला रेतने से पहले उसके साथ बलात्कार किया गया। 50 वर्षीय मालती देवी और उसकी 25 साल की बेटी रायबती खंडाइत की डायन कहकर जब हत्या कर दी गई तो बाकी परिजनों ने किसी तरह हत्यारों से वनग्राम मजुनिया में छिपकर अपनी जान बचायी। मां-बेटी हत्याकांड के 24 घंटे बाद जब पुलिस वहां पहुंची तो बाकी परिजन सामने आये।

डायन के नाम पर जान से मार दी गई महिला मालती देवी के पति सुभाष खंडाइत ने डीएसपी व थाना प्रभारी को घटना की जानकारी देते हुए कहा कि 26 जून की शाम को तकरीबन चार बजे जब उनकी पत्नी नहाने जा रही थी तो गांव के ही रामविलास खंडाइत ने उस पर डंडे से वार कर दिया, जिससे वह बेहोश हो गयी। जब मालती की बेटी रायबती ने मां को बेहोश देखा तो वह मां को किसी तरह घर के अंदर लायी।

कौल सुभाष खंडाइत इस घटना के बाद 26 जून की ही शाम 6 बजे सीताराम उनके घर पहुंचा और उसके बाद रामविलास और उसका चचेरा भाई टीपू भी घर के अंदर आ गया। वो लोग मेरी पत्नी और बेटी को डायन बता रहे थे। टीपू ने धारदार हथियार दाऊली सीताराम खंडाइत के हाथ पर पकड़ाई और उसने मालती देवी पर दाऊली से हमला कर उसका गला रेत दिया।

मीडिया में आई जानकारी के मुताबिक पश्चिमी सिंहभूम जिले के अति-नक्सल प्रभावित इलाके गुदड़ी थाना क्षेत्र के रोवाउली गांव के सुभाष खंडाइत की बीवी और बेटी को डायन कहकर मौत के घाट उतार दिया गया। सुभाष खंडाइत के मुताबिक उनका परिवार 3-4 साल से घर पर मां मनसा की पूजा करता आ रहा है। 24 जून को गांव के ही रामबिलास की पत्नी झूमते हुए हमारे घर आयी और मां मनसा की फोटो के सामने बैठ गई और सुभाष की पत्नी और बेटी को डायन बताया।

गौरतलब है कि रामबिलास के परिवार में पिछले वर्षों में बीमारी के चलते दो लोगों की मौत हो गयी थी, जिसे वो लोग जादू-टोने के कारण होने वाली मौत कह रहा था। गांव में अफवाह फैलायी जा रही थी कि मालती देवी और उसकी बेटी रायबती डायन हैं, और उन्होंने ही टोना कर रामबिलास के परिजनों की जान ली है।

यह भी पढ़ें : डायन कहकर विधवा महिला को खिलाया मानव मल, मारपीट के बाद काट डाले बाल

सुभाष खंडाइत कहते हैं, मेरी पत्नी की हत्या के बाद सीताराम और रामविलास मेरी बेटी को जबरन कमरे के अंदर ले गये। मुझे आशंका है कि दोनों ने अंदर जाकर मेरी बेटी का बलात्कार किया। कुछ समय बाद दोनों कमरे से बाहर निकले, मैंने अंदर जाकर बेटी को देखा और उसे पानी पिलाया। मैं अपनी बेटी रायबती को पानी पिला ही रहा था कि कुछ देर बाद सीताराम फिर घर के अंदर घुसा और उसने दाऊली से मेरी बेटी का गला काट दिया। गला रेतने के बाद उसने मेरी बेटी के दोनों हाथ काट दिये।

बेटी और पत्नी का आंखों के सामने इतना जघन्य कत्ल देखने के बाद सुभाष खंडाइत और उसका बेटा बंटी खंडाइत अपनी जान बचाने के लिए वहां से भागकर वनग्राम मुजनिया में किसी के घर में छिप गये। दोनों बाप-बेटे दूसरे दिन 27 जून को चक्रधरपुर थाना क्षेत्र के जामिद गांव में रहने वाले अपने किसी रिश्तेदार के घर पहुंचे और अपनी पत्नी-बेटी की हत्या की जानकारी पुलिस को दी।

सुभाष खंडाइत को डर है कि वे घर वापस लौटे तो उनकी भी हत्या हो सकती है। हमलावर परिवार ने उनके पूरे परिवार को खत्म करने की धमकी दी है। अब वे अपनी पत्नी और बेटी का अंतिम संस्कार भी अपने रिश्तेदार के गांव में ही करेंगे, वापस लौटे तो उन्हें भी मार दिया जायेगा।

हीं एक अन्य घटना में राजस्थान के अजमेर के नसीराबाद थाना क्षेत्र में 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला को पहले तो पड़ोसियों ने डायन कहकर पीटा और फिर उसके गुप्तांगों में लाल मिर्च पाउडर डालकर उसे घसीटा। इस मामले में आरोप है कि पड़ोस में रहने वाले कुछ लोग उसे डायन बताकर उसके साथ दुर्व्यवहार करते थे।

14 जून को जब बुजुर्ग महिला अपने घर पर अकेली थी तो पड़ोसी के महिला-पुरुष उसके घर आ धमके और उसे पीटते हुए पहले तो उसके गुप्तांगों में लाल मिर्च पाउडर डाला और घसीटते हुए बाहर ले गये। जब पड़ोस का परिवार बुजुर्ग को जमकर पीट रहा था तो वह लगातार यही कह रहा था कि यह डायन है। यह हमारी बहू को भी खा गई। जब बुजुर्ग महिला बदहवास हालत में चीखी-चिल्लाई तो आरोपी घटनास्थल से भाग गये। बाद में वृद्धा के परिजन और कुछ स्थानीय लोग उसे गोद में उठाकर पुलिस थाने ले गये, जहां से उसे उपचार के लिए अस्पताल भेजा गया।

Next Story

विविध

Share it