Top
उत्तर प्रदेश

नर्सिंग छात्राओं का आरोप- Lockdown में जबरन करवाया जा रहा है काम, छुट्टी मांगने पर देते हैं धमकी

Manish Kumar
30 April 2020 8:29 AM GMT
नर्सिंग छात्राओं का आरोप- Lockdown में जबरन करवाया जा रहा है काम, छुट्टी मांगने पर देते हैं धमकी
x

छात्राओं का आरोप है कि‍ एक स्टूडेंट को जब कोरोना जैसे लक्षण मिले तो हॉस्पिटल की तरफ से कोई देखने नहीं आया जिसके बाद उन्होंने पुलिस को संपर्क किया....

पवन जायसवाल की रिपोर्ट

जनज्वार। वाराणसी के लंका थाना अंतर्गत सुन्दरपुर स्‍थि‍त संतुष्टि हॉस्पिटल में नर्सिंग छात्राओं ने अस्पताल के मालिक पर जबरन काम करने का आरोप लगाया है। छात्राओं का आरोप है कि‍ लॉकडाउन में भी उनसे हॉस्पिटल में काम कराया जा रहा है और सुरक्षा के भी कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं।

नर्सिंग छात्राओं का आरोप है कि जब हॉस्पिटल के प्रबंधक से इस बारे मे बात की जाती है तो वह सीधा नकार देते हैं और धमकी देते हैं कि काम पर नहीं आना है तो 50 हजार रुपये फाइन देना होगा.

भी पढ़ें- 4 तारीख से अपने घरों को लौट सकेंगे लॉकडाउन में फंसे मजदूर, लेकिन इन शर्तों के साथ

छात्राओं का आरोप है, 'हमारे साथ के काम कराने वाली नर्सिंग की एक छात्रा मे कोरोना के लक्षण देखने नजर आ रहे थे उसकी जब तबियत लेकिन जब हॉस्पिटल के मालिक को इस बारे में जानकारी दी गई तो उन्होंने अपना पल्ला झाड़ लिया.'

छात्राओं ने बताया कि इसके बाद उन लोगों ने इसकी लिखित सूचना पुलिस को दी है। इसके बाद पुलिस ने बीमार छात्रा को बीएचयू इलाज के लिए भेज दिया है।

यह भी पढ़ें- कोरोना टेस्टिंग किट में बड़ा घोटाला, एयरपोर्ट पर 2 कंपनियों के मुलाजिमों के झगड़े से हुआ खुलासा

छात्रा श्वेता राय ने प्रबंधकों पर आरोप लगाते हुए कहा, '' हमने कई बार प्रबंधकों से छुट्टी के लिए बात की लेकिन वह सीधे धमकी पर उतर आते हैं और कहते हैं कि काम पर नहीं आओगी तो 50 हजार फाइन देना होगा. श्वेता ने बताया कि उनके माता-पिता भी हॉस्पिटल के चेयमेन से बात कर चुके हैं लेकिन उन्होंने एक नहीं सुनी.

ने आरोप लगाया, 'चेयरमैन की पत्नी भी हमें धमकी देती है कि तुमसे 50 हजार लेंगे और फैकेल्टी में बात करके तुम्हारी मार्क्सशीट खराब कर देंगे'

एक अन्य छात्रा मधु मल ने कहा, हम घर जाना चाहते हैं लेकिन हमसे ड्यूटी करवाई जा रही है. हमारी एक साथी को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी लेकिन उसे देखने प्रबंधन का कोई आदमी नहीं आया.

Next Story

विविध

Share it