समाज

मोदी सरकार से निर्भया गैंगरेप आरोपियों की फांसी का Live Telecast करने की इस NGO ने उठायी मांग

Prema Negi
11 Jan 2020 11:14 AM GMT
मोदी सरकार से निर्भया गैंगरेप आरोपियों की फांसी का Live Telecast करने की इस NGO ने उठायी मांग
x

लाइव फांसी की मांग करते हुए केंद्र सरकार को लिखा, निर्भया के बलात्कार आरोपियों की फांसी का लाइव प्रसारण होने से देश में महिला सुरक्षा पर वैश्विक चिंताओं को दूर करने का सही अवसर प्रदान होगा...

जनज्वार। निर्भया केस से जुड़े आरोपियों को फांसी दिये जाने को लेकर देश में एक व्यापक ​बहस छिड़ गयी है। अनेक राजनीतिक, सामाजिक संगठन इसका विरोध करते हुए जहां कह रहे हैं कि फांसी किसी समस्या का समाधान नहीं है तो अनेक संगठनों, राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस फांसी से गुनाहगार सबक लेंगे और निर्भया जैसी दरिंदगी दोहराने से पहले सौ बार सोचेंगे।

ब इसी कड़ी में एक सामाजिक संगठन सामने आया है, जिसने मांग की है कि निर्भया गैंगरेप के आरोपियों की फांसी का प्रसारण लाइव किया जाये। महिला अधिकार कार्यकर्ता और परी की संस्थापक योगिता भयाना का कहना है कि निर्भया के बलात्कार आरोपियों की फांसी का लाइव प्रसारण होने से देश में महिला सुरक्षा पर वैश्विक चिंताओं को दूर करने का सही अवसर प्रदान होगा।

गौरतलब है कि निर्भया गैंगरेप केस में दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों बलात्कार आरोपियों का डेथ वॉरंट जारी कर दिया है, जिसके बाद अब उन्हें 22 जनवरी की सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी।

यह भी पढ़ें : भाजपा सरकार आने के बाद 176 फीसदी बढ़े दुष्कर्म के मामले, भारत में हर रोज 90 महिलाओं से दुष्कर्म

निर्भया केस को लेकर पूरे देश में बहस जारी है और फांसी की सजा को तमाम महिला ​अधिकार कार्यकर्ता सही ठहरा रहे हैं, वहीं कुछ मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि फांसी से किसी समस्या को जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता। अगर बलात्कार की मानसिकता को खत्म करना है तो इसके लिए समाज को तमाम ऐसे कदम उठाने होंगे, जिससे समाज की सोच बदले।

ब इसी बीच एक एनजीओ परी ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री से मांग की है कि चारों दोषियों की फांसी का सीधा प्रसारण यानी LIVE Telecast किया जाए। महिला अधिकार कार्यकर्ता और परी की संस्थापक योगिता भयाना ने इस संबंध में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को एक पत्र भी लिखा है।

याना ने केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखे पत्र में कहा है, निर्भया के दोषियों को फांसी का लाइव प्रसारण देश में महिला सुरक्षा पर वैश्विक चिंताओं को दूर करने का सही अवसर प्रदान करता है। इसलिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से आग्रह है कि वह निर्भया गैंगरेप के सभी दोषियों को फांसी की सजा के लाइव प्रसारण के लिए स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय मीडिया को अनुमति दे।

संबंधित खबर : स्मृति ईरानी जी! बलात्कार पर पहली माफी पीएम मोदी से मंगवाईये क्योंकि वो दिल्ली को कहते हैं ‘रेप कैपिटल’

योगिता भयाना ने एक ट्वीट भी किया है जिसमें वह लिखती हैं, 'भारत, दुनिया की नजर में बलात्कारियों का देश ना बन जाए, इसलिए ये जरूरी है कि निर्भया के दरिंदों की फांसी को लाइव टीवी में दिखाकर बलात्कार की मंशा रखने वालों को एक कड़ा सन्देश दिया जाये| @PrakashJavdekar जी समय आ गया है कि इस ऐतिहासिक क्षण को मीडिया में लाइव दिखाकर इतिहास रचा जाये।'

गौरतलब है कि कुछ समय पहले निर्भया बलात्कार कांड के चारों आरोपियों को फांसी की सजा दिये जाने की मांग को लेकर कई महिलाओं ने हाथों में रस्सी लेकर प्रदर्शन किया था। उस प्रदर्शन की अगुवाई योगिता भयाना ने ही की थी। यह प्रदर्शन महिलाओं ने तिहाड़ जेल के गेट नंबर 4 के बाहर किया था। इस प्रदर्शन के दौरान महिलाओं ने हाथों में रस्सी लेकर खुद दोषियों को फांसी देने की मांग की थी। योगिता भयाना ने तब कहा था कि वो खुद चारों दोषियों को फांसी पर लटकाना चाहती हैं और इसके लिए उन्होंने तिहाड़ जेल के डीजी को मांगपत्र भी सौंपा था।

Next Story

विविध