Top
उत्तर प्रदेश

दलित ने बनाया था खाना इसलिए कोरोना संक्रमित 10 मरीजों ने खाने से किया इनकार

Janjwar Team
8 April 2020 8:54 AM GMT
दलित ने बनाया था खाना इसलिए कोरोना संक्रमित 10 मरीजों ने खाने से किया इनकार
x

प्राथमिक विद्यालय में क्वारंटीन किए गए दस लोगों को महंगा पड़ गया दलित रसोइया के हाथ से खाना खाने से इनकार करना, सभी के खिलाफ महामारी एक्ट और सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज...

जनज्वार। कोरोना वायरस के प्रसर को रोकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से घोषणा के बाद 21 दिन का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन जारी है। बावजूद इसके कोरोना संक्रमण और इससे हो रही मौतों के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। कोरोना के संदिग्ध मरीजों को क्वारंटीन में रखा जा रहा है। लेकिन उत्तर प्रदेश के बस्ती में कोरोना के संदिग्धों की ओर से फरमाइशें और उनके नखरे प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बनते जा रहे हैं।

रअसल मामला बस्ती के सल्टौवा ब्लॉक के सिसवा बरुआर गांव का है। जहां कोरोना संदिग्ध होने के चलते दस लोगों को प्राथमिक विद्यालय में क्वारंटीन किया है। लेकिन आरोप है कि इन लोगों ने विद्यालय की दलित रसोइया के हाथ से तैयार हुआ खाना खाने से इनकार किया और अपने घर से भोजन मंगवाकर खाया। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि राजकुमार की शिकायत पर एसओ भानपुर ने इन दस लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

संबंधित खबर : नीतीश सरकार के दावों की भागलपुर के डॉक्टरों ने खोली पोल, बोले-सेफ्टी किट नहीं है कैसे करें इलाज

त्रिका की खबर के मुताबिक, शिकायत में राजेश ने आरोप लगाया है कि गांव के 10 लोग सत्यराम, रविशंकर, राजू, राजेश, मनमोहन, जगप्रसाद, दिलीप कुमार, राम प्रकाल यादव, शिवकपूर व नितराम दिल्ली से गांव लौटे हैं। एसडीएम के निर्देशानुसार सभी को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की संभावना के मद्देनजर गांव के विद्यालय पर क्वारंटीन किया गया है।

के मुताबिक इन सभी के ख़िलाफ़ पुलिस ने महामारी एक्ट और सुसंगत धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज कर लिया है। इस मामले पर एसपी एमराज मीणा ने कहा कि क्वारंटीन किए गए सभी लोगों के लिए विद्यालय की रसोइया द्वारा भोजन बनाया गया लेकिन इनलोगों ने खाने से इनकार करते हुए घर का भोजन करने की बात कही।

संबंधित खबर : कोरोना से यूपी में कम उम्र की पहली मौत, बस्ती के 25 वर्षीय युवक ने गोरखपुर में तोड़ा दम

न्होंने आगे कहा कि प्रधान प्रतिनिधि ने सभी से घर से भोजन मंगाने पर उनके परिजनों को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की शंका जाहिर की। इन सभी ने कहा कि रसोईया दलित है इसलिए वे उसके हाथ का बना खाना नहीं खाएंगे।

Next Story

विविध

Share it