Top
सिक्योरिटी

'अब तक छप्पन 2' के अस्सिटेंट डायरेक्टर ने की आत्महत्या

Prema Negi
12 July 2018 9:21 AM GMT
अब तक छप्पन 2 के अस्सिटेंट डायरेक्टर ने की आत्महत्या
x

शुरुआती जांच में आत्महत्या का कारण बताया जा रहा है लंबे समय से काम न मिलना, दोस्त—मित्रों ने कहा सफलता का स्वाद चखने के बाद मिल रही असफलता को नहीं सहन कर पा रहे थे रविशंकर

जनज्वार। "अब तक छप्पन 2" के अस्सिटेंट डायरेक्टर रविशंकर आलोक ने कल बुधवार 11 जुलाई को दोपहर 2 बजे के करीब आत्महत्या कर ली।

मूल रूप से पटना के रहने वाले रविशंकर आलोक मुम्बई में सात बंगला इलाके में रहते थे। 32 वर्षीय संभावनाशील अस्सिटेंट डायरेक्टर और राइटर ने आत्महत्या जैसा खतरनाक कदम क्यों उठाया पुलिस इसकी जांच कर रही है।

मीडिया में आई जानकारी के मुताबिक पुलिस को उनकी डैड बॉडी के पास या फिर घर में कोई सुइसाइड नोट नहीं मिला है। जानकारी के अनुसार रविशंकर के मां-बाप उनके साथ ही मुंबई में रह रहे थे, जो थोड़े दिन पहले पटना लौटै थे। युवा पटकथा लेखक रविशंकर का भाई उनके साथ में रहता है, लेकिन घटना के समय वह भी वहां नहीं था।



?ref_src=twsrc^tfw|twcamp^tweetembed|twterm^1017167605944279040&ref_url=https://www.amarujala.com/entertainment/bollywood/film-ab-tak-chhappan-assistant-director-ravi-shankar-alok-commit-suicide

उनकी मौत पर दुख व्यक्त करते हुए पत्रकार और मुंबई में स्क्रीन राइटर्स एसोसिएशन के पदाधिकारी धनंजय कुमार लिखते हैं, रविशंकर ने आत्महत्या क्यों की? क्या हुआ उसके साथ, यह तो पुलिस जांच में पता चलेगा, लेकिन एक सच्चाई यह भी है, मुम्बई शहर में एज ए स्क्रीनराइटर गुजारा करना आसान नहीं है। स्क्रीनराइटर्स एसोसिएशन के बीस हजार से अधिक मेंबर हैं, लेकिन मुश्किल से 100 लेखकों का जीवन बिना अभाव चलता होगा। काम की समस्या और काम करने के बाद पारिश्रमिक मिलने में समस्या अच्छे अच्छों का हौसला पस्त कर देता है। लेकिन दुख की बात है। चमकती फिल्म इंडस्ट्री इस अँधेरे को दूर कर पाने में अक्षम है।

धनंजय कुमार लिखते हैं, स्क्रीनराइटर एसोसिएशन से भी रविशंकर दूसरे नाम से जुड़े हुए थे।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक रविशंकर आलोक ने नाना पाटेकर अभिनीत 'अब तक छप्पन ' में राइटर की भूमिका निभाई थी। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक कुछ फिल्मों में रविशंकर ने अस्सिटेंट डायरेक्टर की भूमिका भी निभाई थी।

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक रविशंकर के भाई का कहना है कि वह लंबे समय से काम न मिलने के कारण डिप्रेशन में थे। शायद डिप्रेशन ही उनकी आत्महत्या की बड़ी वजह रहा। खबरें यह भी हैं कि पिछले एक साल से रविशंकर के पास कोई काम नहीं था। उनके पास न जरूरत पूरी करने के लिए रुपए थे और न ही घर का किराया देने के लिए।

पुलिस इस मामले की गहन छानबीन कर रही है। गौरतलब है कि नाना पाटेकर अभिनीत फिल्म 'अब तक छप्पन 2' साल 2015 में रिलीज हुई थी, जिसे दर्शकों ने खासा सराहा था। उनके जानने वालों का कहना है कि बहुत छोटी उम्र में सफलता का स्वाद चखने के बाद अब काम न मिलने के कारण रविशंकर जरूर डिप्रेशन में ही गए होंगे। इसीलिए उन्होंने आत्महत्या जैसा घातक कदम उठाया होगा।

Next Story

विविध

Share it