Top
राजनीति

CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान दो समूहों में झड़प के दौरान एक दूसरे पर फेंके गए बम, 2 लोगों की मौत

Nirmal kant
29 Jan 2020 11:53 AM GMT
CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान दो समूहों में झड़प के दौरान एक दूसरे पर फेंके गए बम, 2 लोगों की मौत
x

सीएए और एनआरसी को लेकर विवाद के बाद पश्चिम बंगाल में दो समूहों के बीच झड़प, दो लोगों की मौत की खबर, एक व्यक्ति घायल...

जनज्वार। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में बुधवार को सीएए के खिलाफ विरोध में कार्यक्रम और प्रस्तावित एनआरसी को लेकर दो समूहों के बीच झड़प हो गई। इस झड़प में दो लोगों की मौत हो गई जबकि एक व्यक्ति घायल हो गया।

सीएए के विरोध में आयोजित कार्यक्रम को लेकर मुर्शिदाबाद के जलंगी में दो पक्षों के बीच बहस छिड़ जाने के बाद यह घटना हुई। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर बम फेंके और बम फेंके। झड़प के दौरान कई दोपहिया वाहनों और कारों में तोड़फोड़ की गई और आग लगा दी गई।

संबंधित खबर : पूरे स्कूल के खिलाफ ‘देशद्रोह’ का मामला दर्ज : गणतंत्र दिवस पर CAA-NRC के खिलाफ किया था नाटक का मंचन

टीएमसी सांसद अबू ताहेर ने इस बात से इनकार किया कि उनकी पार्टी झड़प में शामिल थी। उन्होंने आरोप लगाया कि हिंसा कांग्रेस और माकपा के समर्थकों द्वारा की गई थी। ताहेर ने कहा मैंने पुलिस से घटना को देखने का अनुरोध किया है और दोषियों को तुरंत गिरफ्तार करने को कहा है।

रिष्ठ कांग्रेस नेता और विधायक मनोज चक्रवर्ती ने घटना में अपनी पार्टी के शामिल होने से इनकार किया और सच्चाई का पता लगाने के लिए घटना की न्यायिक जांच की मांग की।

धिकारी ने कहा कि घायलों को मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज और अस्पताल ले जाया गया है। पिछले साल के दिसंबर माह में राज्यभर में सीएए के विरोध प्रदर्शनों के दौरान मुर्शिदाबाद जिले में हिंसा और आगजनी हुई थी।

शासित केरल और कांग्रेस शासित पंजाब, राजस्थान के बाद पश्चिम बंगाल चौथा राज्य है जहां नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया गया। पश्चिम बंगाल विधानसभा ने 6 सितंबर 2019 को एनआरसी के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया था।

संबंधित खबर : सुप्रीम कोर्ट क्या CAA और NRC को लेकर सरकार से अलग दे पाएगा कोई फैसला?

मुर्शिदाबाद के जलंगी पुलिस स्टेशन के सब इंपेक्टर उत्पल दास ने जनज्वार को बताया कि हिंसा हुई है। हिंसा को पुलिस की ओर से काबू किया जा रहा है। इस मामले में दो लोगों की मौत हुई है।

स घटना को लेकर लोकसभा चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार रहे हुमायून कबीर ने जनज्वार से कहा कि हिंसा के पीछे सरकार की नाकामयाबी दिखती है। जहां पूरे देश में भाजपा शासित राज्यों में कानून का राज कायम है वहीं गैर भाजपा शासित राज्यों में सरकारें लोगों को सही जानकारी नहीं दे पा रही है। जिस कारण इस तरह की घटनाएं हो रही हैं।

Next Story
Share it