समाज

उन्नाव में युवक की मौत के बाद प्रदर्शन कर रहे गांववालों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, मृतक की पत्नी को भी लाठियों से पीटा

Nirmal kant
10 Dec 2019 2:51 PM GMT
उन्नाव में युवक की मौत के बाद प्रदर्शन कर रहे गांववालों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, मृतक की पत्नी को भी लाठियों से पीटा
x

उन्नाव में युवक की मौत के बाद प्रदर्शन कर रहे थे परिजन और गांववाले, पुलिस ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, इस दौरान मृतक की पत्नी को भी नहीं छोड़ा, कई महिलाएं घायल....

उन्नाव से मनीष दुबे की रिपोर्ट

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के उन्नाव में पुलिसिया बर्बरता का एक और नया मामला सामने आया है। उन्नाव में एक युवक की मौत के बाद जब उसके परिजन और गांववाले सड़क पर प्रदर्शन कर रहे थे तभी पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज कर लिया। उन्नाव पुलिस यहीं नहीं रुकी बल्कि उन्होंने मृतक की पत्नी समेत कई महिलाओं को लाठियों से बुरी तरह पीटा। ये पूरी घटना कैमरे में कैद हो गई। लाचार महिलाओं को जहां अपनों को खोने का गम था वहीं उन्हें पुलिस की लाठियों की मार को झेलना पड़ा।

संबंधित खबर : कानपुर के नौबस्ता में लड़की से छेड़खानी, विरोध करने पर परिजनों को पीटकर उन्नाव और हैदराबाद कांड दोहराने की दी धमकी

ता दें कि इन दिनों प्रदेश के साथ ही उन्नाव में भी सरकार की तरफ से जिला अस्पताल व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर फायलेरिया मर्ज से जूझ रहे रोगियों को निःशुल्क दवा वितरित की जा रही है जिसके तहत पुरवा कोतवाली क्षेत्र के कटरा निवासी विजय बहादुर ने भी बीते सोमवार 9 दिसंबर को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से मिली दवा को लाया था। मंगलवार 10 दिसंबर की सुबह उसकी तबीयत बिगड़ गई और परिजन समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पुरवा लेकर पहुंचे जहां उसकी मौत हो गई। युवक की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। युवक की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाकर उन्नाव-पुरवा रोड जाम कर दिया और सरकार से 25 लाख रुपए मुआवजा की मांग कर हंगामा शुरू कर दिया।

जाम व हंगामे की सूचना मिलने पर मौके पर 6 थानों की फोर्स भेजी गई। एएसपी वीके पांडेय, एडीएम राकेश कुमार, एसडीएम आरपी चौरसिया व सीएमओ के पी सिंह समेत जिले के प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और परिजनों को समझाने का प्रयास किया।

स बीच भीड़ ने नारेबाजी की तो पुलिस अधिकारियों ने लाठीचार्ज करवा दिया। फिर क्या था पुलिसकर्मियों ने महिला सम्मान की संवेदनाओं को दरकिनार कर सभी को दौड़ाकर पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान आरोप है कि मृतक की पत्नी भी पुलिस की लाठीचार्ज का शिकार हुई। पुलिस के लाठीचार्ज में कई महिलाएं घायल हो गई हैं।

संबंधित खबर : उन्नाव के बाद कानपुर में दलित स्कूली छात्रा के सामूहिक दुष्कर्म से सुलग रहा उत्तर प्रदेश

लाठीचार्ज के दौरान भीड़ ने पथराव भी किया। लाठीचार्ज के वीडियो में खुद देखा जा सकता है कि उन्नाव पुलिस महिला सम्मान के प्रति कितना सजग है। लाठीचार्ज के दौरान भीड़ पुलिसकर्मियों से भिड़ भी गई। बड़ी मसक्कत के बाद भीड़ तितर-बितर हो पाई।

में एडीएम ने सरकार की तरफ से मिलने वाली आर्थिक मदद का परिवार को आश्वासन दिया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। इस दौरान करीब 4 घंटे तक उन्नाव पुरवा मार्ग जाम जाम रहा और बवाल चला। एडीएम राकेश कुमार ने बताया कि लाठीचार्ज जैसा कुछ भी नहीं रहा। किसी को भी चोट नहीं आई है। फैलेरिया दवा खिलाने का अभियान चल रहा है। अब तक जिले में 22 लाख से अधिक लोग दवा खा चुके हैं और स्वस्थ हैं। फिलहाल जांच के लिए शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। एडीएम ने कहा कि परिवार की मदद भी की जाएगी।

Next Story

विविध