Top
दिल्ली

क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'? जिसकी वजह से दिल्ली का दिलशाद गार्डन इलाका हुआ ''कोरोना' मुक्त

Janjwar Team
11 April 2020 4:20 AM GMT
क्या है ऑपरेशन शील्ड? जिसकी वजह से दिल्ली का दिलशाद गार्डन इलाका हुआ कोरोना मुक्त
x

शील्ड के तहत दिलशाद गार्डन और पुरानी सीमापुरी के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू लगाया गया था। दिल्ली पुलिस और दिल्ली सरकार ने मिलकर इस योजना को सफल बनाने के लिए काम किया

जनज्वार: दिल्ली सरकार के 'ऑपरेशन शील्ड' ने दिलशाद गार्डन में कोरोनावायरस के प्रसार को पूरी तरह से रोक दिया है। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि पिछले 10 दिनों में कोई नया मामला दर्ज नहीं किया गया है।

राष्ट्रीय राजधानी की घनी आबादी वाले इलाके दिलशाद गार्डन में विदेश से लौटी एक महिला द्वारा मोहल्ला क्लिनिक के डॉक्टर सहित कम से कम आठ लोग संक्रमित हुए थे।

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि सरकार ने वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए ऑपरेशन शील्ड (एसएचआईईएलडी) यानी कि सीलिंग, होम क्वारंटीन, आइसोलेशन और ट्रैकिंग, आवश्यक आपूर्ति, स्थानीय स्वच्छता और डोर-टू-डोर चेकिंग का उपयोग किया।

कुल 123 मेडिकल टीमों ने 4,032 घरों में रहने वाले 15,000 से अधिक लोगों की जांच की और कोरोनोवायरस संदिग्धों को अस्पताल में भर्ती कराया।

यह भी पढ़ें- निजामुद्दीन मरकज से छत्तीसगढ़ लौटे 159 जमातियों की लिस्ट में 108 निकले हिंदू, उच्च न्यायालय ने जांच के दिए आदेश

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 38 वर्षीय एक महिला अपने 19 वर्षीय बेटे के साथ 10 मार्च को सऊदी अरब से दिल्ली लौटी थी। 12 मार्च को उसे बुखार और खांसी हुई और वह मोहल्ला क्लिनिक में एक डॉक्टर के पास गई। 15 मार्च को महिला को जीटीबी अस्पताल ले जाया गया जहां से डॉक्टरों ने उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल में रेफर कर दिया।

17 मार्च को उसका कोरोनावायरस परीक्षण पॉजिटिव आया और 18 मार्च को अधिकारियों ने पता लगाया कि वह सऊदी अरब से लौटने के बाद लगभग 81 लोगों से मिली थी।

20 मार्च को उसके भाई और मां का परीक्षण भी पॉजिटिव आया। स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि 21 मार्च को उसकी दो बेटियों में संक्रमण फैल गया और 22 मार्च को क्लिनिक के डॉक्टर का पहली बार पॉजिटिव परीक्षण आया।

यह भी पढ़ें- कोरोना फैलाने की अफवाह में झारखंड में गई एक और जान

सकारात्मक परीक्षण के तुरंत बाद, दिलशाद गार्डन में ऑपरेशन शील्ड शुरू किया गया। स्वास्थ्य विभाग ने कहा, "दिल्ली सरकार ने दिलशाद गार्डन को एक नियंत्रण क्षेत्र बना दिया और मोहल्ला क्लिनिक के डॉक्टर सहित महिला से संक्रमित आठ अन्य लोगों का परीक्षण करने के बाद इस ऑपरेशन को सक्रिय कर दिया गया।"

स्वास्थ्य विभाग ने कहा, "शील्ड के तहत दिलशाद गार्डन और पुरानी सीमापुरी के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू लगाया गया था। दिल्ली पुलिस और दिल्ली सरकार ने मिलकर इस योजना को सफल बनाने के लिए काम किया।"

शाहदरा के जिला प्रशासन अधिकारी एस.के.नायक ने पूरे ऑपरेशन पर नजर रखी। उन्होंने कहा, जब महिला की रिपोर्ट पॉजीटिव आई तो प्रशासन उसके परिवार से उन लोगों के नाम और पते मांगने के लिए उनके आवास पर पहुंचा, जो 10 मार्च को उनके सऊदी अरब से लौटने के बाद से उनसे मिलने आए थे।

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश में कोरोना से अब तक 2 डॉक्टरों की मौत, डरकर 50 डॉक्टरों ने दिया एक साथ इस्तीफा

नायक ने कहा, "उनका बेटा सहयोग नहीं कर रहा था इसलिए हमें जानकारी हासिल करने के लिए स्थानीय पुलिस की मदद लेनी पड़ी। हमने उनके घर के पास लगे सीसीटीवी कैमरों से फुटेज का भी इस्तेमाल किया ताकि यह जान सकें कि किन-किन लोगों को निगरानी में रखने की जरूरत है।"

मीडिया से बात करते हुए, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिलशाद गार्डन ऑपरेशन शील्ड का पहला सफल कार्यान्वयन था। जैन ने कहा, "कई लोगों के पॉजिटिव पाए जाने के बाद दिलशाद गार्डन इलाके में बड़े पैमाने पर कोविड -19 का प्रकोप होने की आशंका थी। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की कड़ी मेहनत और इस ऑपरेशन की बदौलत यह इलाका कोरोनावायरस मुक्त हो पाया।"

Next Story

विविध

Share it