Top
राजनीति

'जाहिल जमाती' के बाद दंगल गर्ल बबीता फोगाट ने राजीव गांधी पर की अभद्र टिप्पणी, सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल

Janjwar Desk
30 Aug 2020 3:41 AM GMT
जाहिल जमाती के बाद दंगल गर्ल बबीता फोगाट ने राजीव गांधी पर की अभद्र टिप्पणी, सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल
x

दंगल गर्ल बबीता फोगाट को राजीव गांधी पर अभद्र टिप्पणी के लिए लोगों ने सोशल मीडिया पर किया ट्रोल, कहा टिकट के लिए और कितना नीचे गिरोगी

'जाहिल जमाती' बयान के बाद हरियाणा में खेल उपनिदेशक बनायीं गयीं दंगल गर्ल बबीता फोगाट राजीव गांधी पर भाला फेंक टिप्पणी को लेकर चर्चा में, लोग बोले लिहाज करो बेशर्म

जनज्वार। पहलवानी छोड़कर राजनीतिक अखाड़े में उतरीं बबीता फोगाट अपनी बदजुबानी और उल्टी—सीधी बयानबाजी को लेकर अकसर सोशल मीडिया पर छायी रहती हैं। पिछले दिनों जमातियों को लेकर अभद्र टिप्पणी कर वह चर्चा के केंद्र में आयी थीं। एक बार फिर उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर ऐसी टिप्पणी की है, जिसके लिए वह ट्रोल हो रही हैं।

बबीता फोगाट ने खेल रत्न राजीव गांधी के नाम पर दिये जाने को लेकर सवाल खड़ा कर दिया। एक खिलाड़ी रह चुकीं बबीता फोगाट की यह टिप्पणी लोगों को खटक रही है। बबीता फोगाट ने ट्वीट किया है, 'क्या राजीव गांधी के नाम से इसलिए खेल रत्न पुरस्कार दिया जाता है कि उन्होंने एक बार भारत से खड़े-खड़े इटली में भाला फेंक दिया था।'

एक पूर्व और दिवंगत प्रधानमंत्री के नाम पर दिये जाने वाले खेल रत्न पर इस तरह ​विवाद खड़ा करना वाकई आश्चर्यजनक है, क्योंकि हर पुरस्कार किसी न किसी नाम से जुड़ा होता है, जैसे कि तमाम योजनायें। यहां तक कि स्थानों के नाम तक महापुरुषों के नाम से जुड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें : BJP नेता बबीता फोगाट ने जमातियों को कहा था जाहिल, अब FIR की लग गई गुहार तो भड़क गई बबीता

बबीता फोगाट के ट्वीट पर रियेक्ट करते हुए प्रशासनिक अधिकारी देव प्रकाश मीणा ने ट्वीट किया है, 'प्रधानमंत्री थे, युवा थे, देश के नायकों के नाम से पुरस्कार होते हैं, विश्व भर में ऐसा ही होता है। भाला फेंकने वाले को ईनाम दिया जाता है, उनके नाम से ईनाम नहीं दिया जाता है।'

रीना मिमरोट ने ट्वीट किया है, 'तू क्यों उड़ता भाला लेती है फोकटी, बेशर्म, हाँ वैसे वो तेरी बहन किस जमाती घर में घुसी थी या घर में घुसाई थी.... जाहिल।'

शिल्पी सिंह ने लिखा है, 'राजीव गांधी के बारे मे जिन्हे 1% भी जानकारी नही है वो भी अब ट्वीटर पर बडी बडी डींगे हांक रहे है, देश में बेरोजगारी ने सत्ताधारी बीजेपी नेताओ को भी अपनी चपेट मे ले लिया है जो निकम्मों की तरह कुछ भी लिखे जा रहे है जिनका तर्क से कोई संबध नही हैं!'

यह भी पढ़ें : कोरोना को लेकर RSS कार्यकर्ताओं को 'सूअर' कहने पर मुस्लिम युवक को जेल, तो तब्लीगियों को 'जाहिल सूअर' बताने पर बबीता फोगाट बाहर क्यों?

रवीश कुमार पेरोडी ने ट्वीट किया है, 'आमिर की नकली बेटी आप का फ्यूचर राजनीति में नही हैं। आपको कोई जानता भी नही था मगर आमिर खान ने आपको पहचान दी। फालतू try मत करो तुम्हे राजनीति की टिकट नहीं मिलेगी।'

मैं भी बेरोजगार आशीष नंदी ने कमेंट किया है, 'जिसको एक मुस्लिम ने प्रोमोट कर के इत्ती पहचान दिलवा दी वो घटिया फोकट मुस्लिमो की दुश्मन बन गयी और न जाने क्या क्या कहा सिर्फ गटर जैसी राजनीति में जबरदस्ती घुसने के लिए।'

यह भी पढ़ें : बबीता फोगाट विवाद में ट्विटर यूजर बोले- अब 'दंगल' नहीं 'दंगाई' फिल्म बनाओ आमिर खान

पंकज श्राप ने ट्वीट किया है, 'क्या कांडला पोर्ट का पोर्ट का नाम इसलिए दीनदायल के नाम पर रखा गया है, क्योकि उन्होंने कोलंबस की तरह भारत की खोज की थी?'

श्रुति कमेंट करती हैं, 'अगर दंगल मूवी ना आती तो आपको कोई नहीं जानता और राजीवजी ने लाए हुए टैकनोलजी के वजह से आज ये ट्विट कर रही हो नहीं तो मोदी के बनाए शौचालय में होती। वैसे @BabitaPhogat दिल्ली का फिरोजशाह कोटला जेटली के नाम से है तो क्या जेटली ने विकेट थी क्या? क्या सच में आप एक खिलाडी हैं?'

यह भी पढ़ें : आमिर खान ने जिस बबिता फोगाट को बनाया स्टार, उसने कहा- कोरोना से बड़ी समस्या 'जाहिल जमाती'

मनोज कुमार ने ट्वीट किया है, 'इसलिये क्योकि राजीव गांधी और उनके पूर्वजो ने सरकारी कम्पनियां बनायी थी, जिनको बेचकर तुम्हारा पापा, तुम लोगों का पेट पाल रहा है।'

जमातियों को लेकर बबीता फोगाट ने ट्वीट किया था, 'कोरोना वायरस भारत की दूसरे नंबर की सबसे बड़ी समस्या है। जाहिल जमाती अभी भी पहले नंबर पर बना हुआ है।'

रंजीतपाल सिंह ​छीना ने कमेंट किया है, 'आप जिस पार्टी के लिए,दिन रात सामाजिक मीडिया पर काम करती हैं उस पार्टी ने देश को क्या दिया सिर्फ और सिर्फ नफरत!'

हालांकि अब देश की जो हालत है उसके लिए बबीता किस जमाती को जिम्मेदार ठहरायेंगी यह अलग बात है। पिछले दिनों ही बबीता को हरियाणा में खेल उपनिदेशक बनाया गया है, जिसको लेकर भी सवाल उठे थे।

Next Story

विविध

Share it