Up Election 2022

Samajwadi Party : योगी के खिलाफ चुनाव आयोग पहुंची समाजवादी पार्टी, लगाए ये आरोप

Janjwar Desk
3 Feb 2022 9:55 AM GMT
UP Election 2022 : सपा ने वोटिंग के दौरान की शिकायत, बोले- उन्नाव में पीठासीन अधिकारी BJP को वोट देने के लिए कर रहे हैं मजबूर
x

सपा ने वोटिंग के दौरान की शिकायत, बोले- उन्नाव में पीठासीन अधिकारी BJP को वोट देने के लिए कर रहे हैं मजबूर

Samajwadi Party : सपा ने पत्र में योगी के बयानों का उल्लेख करते हुए लिखा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अभी आगरा में 10 मार्च के बाद बुलडोजर चलेगा की धमकी दी, इसके अलावा वे लगातार सपा के नेतृत्व को गुंडा, मवाली, माफिया बता रहे हैं...

Samajwadi Party : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव (UP E;ection 2022) के लिए चुनाव प्रचार तेजी से चल रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) बार-बार अपने भाषणों में इस बात को दोहरा रहे हैं कि 10 मार्च को नतीजे आने के बाद वह गर्मी उतार देंगे। योगी आदित्यनाथ के गर्मी वाले बयान को लेकर अब समाजवादी पार्टी ने चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है।

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने मुख्यमंत्री योगी के बयानों पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि चुनाव प्रचार में सत्ता पक्ष भाजपा के मुख्यमंत्री (Yogi Adityanath) विपक्ष के प्रति जिस भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं वह मर्यादित, संयमित और भद्र भाषा की श्रेणी में नहीं आता है। लोकतंत्र (Democracy) में इस तरह की भाषा का कोई औचित्य नहीं है।

सपा ने पत्र में योगी के बयानों का उल्लेख करते हुए लिखा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अभी आगरा में 10 मार्च के बाद बुलडोजर चलेगा की धमकी दी। इसके अलावा वे लगातार सपा के नेतृत्व को गुंडा, मवाली, माफिया बता रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी ने 1 फरवरी को मेरठ की सीवालखास और किठौर की सभाओं में कहा कि लाल टोपी मतलब दंगाई, हिस्ट्रीशीटर। मुख्यमंत्री ने कैराना मुजफ्फरनगर में कहा कि जो गर्मी दिखाई दे रही है, यह सब शांत हो जाएगी। गर्मी कैसे शांत होगी, मैं जानता हूं' जैसी भाषा का इस्तेमाल किया है। वह लगातार धमकाने वाली भाषा बोल रहे हैं।

पत्र में सपा ने आगे लिखा कि आप इस बात से सहमत होंगे कि चुनाव प्रचार की गहमागहमी में भी अपने विपक्षी के प्रति अशालीन भाषा को कतई उचित नहीं ठहराया जा सकता है। खासकर मुख्यमंत्री जैसे संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति से तो मर्यादाविहीन भाषा व्यवहार की कतई उम्मीद नहीं की जाती है। उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है और सत्ता पक्ष द्वारा आदर्श आचार संहिता का लगातार उल्लंघन, चुनाव की निष्पक्षता व स्वतंत्रता पर गहरा आघात करता है।


Next Story

विविध