दुनिया

Russia Ukraine War : NATO को चीन की सख्त चेतावनी, कहा - शीतयुद्ध की मानसिकता से बाज आओ, वरना बहुत बुरा होगा

Janjwar Desk
20 March 2022 10:58 AM GMT
Russia Ukraine War :  NATO को चीन की सख्त चेतावनी, कहा - शीतयुद्ध की मानसिकता से बाज आओ, वरना बहुत बुरा होगा
x
Russia Ukraine War : नाटो को विखंडित करने के बजाय उसका विस्तार हुआ है। नाटो ने युगोस्लाविया, इराक, सीरिया और अफगानिस्तान में सैन्य हस्तक्षेप किया। यूक्रेन संकट से कोई भी देश युद्ध के रास्ते के नतीजों का अनुमान लगा सकता है।

Russia Ukraine War : रूस और यूक्रेन के बीच 25वें दिन भी भीषण जंग जारी है। इस बीच चीनी डिप्लेमैट ( Chinese Diplomat ) ने कहा है कि नाटो ( NATO ) को अपने दावे पर अड़िग रहना चाहिए। चीन ( China ) ने वादा किया है कि वह पूर्व दिशा की ओर विस्तार नहीं करेगा। चीनी उप विदेशमंत्री ली युचेंग ने यूक्रेन ( Chinese Vice Foreign Minister Li Yucheng ) पर सैन्य कार्रवाई के जवाब में पश्चिमी देशों द्वारा रूस पर सख्त पाबंदियों की आलोचना की है। ली युचेंग ने कहा कि यूक्रेन युद्ध ( Ukraine War ) की जड़ में शीतयुद्ध की मानसिकता ( Cold War Mindset ) और ताकत की राजनीति है।

रूस को हाशिये पर धकेलने का भयानक परिणाम होगा

रूस के रुख का समर्थन करते हुए चीनी डिप्लोमैट ने कहा कि अगर नाटो ( NATO ) का विस्तार और होगा तो यह मॉस्को के करीब पहुंच जाएगा जहां से मिसाइल पांच से सात मिनट में क्रेमलिन को निशाना बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रमुख देश को खासतौर पर परमाणु संपन्न देश Russia को हाशिये पर धकेलने का भयानक परिणाम होगा जिसके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता।

यूक्रेन संकट से दुनिया के देश लगाएं युद्ध का अनुमान

चीनी उप विदेश मंत्री ( Chinese Vice Foreign Minister Li Yucheng ) ने व्लादिमीर पुतिन ( Vladimir Putin ) के बार-बार दोहराए गए रुख का समर्थन करते हुए कहा कि नाटो को विघठित करना चाहिए था। वॉरसा संधि के साथ इतिहास में भेजना चाहिए था। चीनी राजनयिक ने कहा कि नाटो को विखंडित करने के बजाय मजबूत और विस्तार किया गया है। इसने युगोस्लाविया, इराक, सीरिया और अफगानिस्तान देशों में सैन्य हस्तक्षेप किया। कोई देश युद्ध के रास्ते के नतीजों का अनुमान लगा सकता है। यूक्रेन संकट सभी के सख्त चेतावनी है।

Russia Ukraine War : बता दें कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने दो दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन से बातचीत में यूक्रेन के पक्षों को राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाने और चल रहे संवाद और वार्ता को जारी रखने का आह्वान किया था। जिनपिंग ने कहा था कि यूक्रेन और नाटो को भी रूस से संवाद करना चाहिए। ताकि यूक्रेन संकट का समाधान निकल सके।

Next Story

विविध