दुनिया

Russia Ukraine War के तीसरे दिन और तेज हुए हमले, यूक्रेन का दावा मार गिराए 300 रूसी सैनिक, 200 को बनाया बंधक

Janjwar Desk
26 Feb 2022 7:22 AM GMT
Russia Ukraine War का तीसरे दिन और तेज हुए हमले, यूक्रेन का दावा मार गिराए 300 रूसी सैनिक, 200 को बनाया बंधक
x

यूक्रेन की राजधानी कीव में बमबारी

Russia Ukraine War : रूस और यूक्रेन के बीच तीसरे दिन भी युद्ध जारी है, राजधानी कीव में एक और जहां जंग चल रही है वहीं दूसरी दोनों राष्ट्र प्रमुखों के बीच जुबानी जंग भी चल रही है....

Russia Ukraine War : रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध तीसरे दिन भी जारी है। तीसरे दिन रूस ने हमले और तेज कर दिए हैं। यूक्रेन की राजधानी कीव (Kyiv) में बमबारी और धमाके हो रहे हैं। इस बीच यूक्रेन (Ukraine Crisis) बड़ा दावा किया है कि उसने रूस (Russian Army) के 3500 सैनिकों को मार गिराया है जबकि 200 से अधिक को बंधक बना लिया है। इससे पहले कीव में एक मिलिट्री यूनिट पर रूस की ओर से हमला किया गया। वहीं दूसरी ओर यूक्रेन में अब भी बड़ी संख्या में भारतीय फंसे हुए हैं।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्डोमिर जेलेंस्की (Voldomyir Zelensky) ने अपनी जनता से कहा कि यूक्रेनी सेना के घुटने टेकने से जुड़ी बातें अफवाह हैं। वे लोग आखिरी दम तक लड़ेंगे। वे मजबूती से रूस का मुकाबल कर रहे हैं।

वहीं संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में भारत और चीन ने यूक्रेन पर हमले की निंदा करते हुए वोट से परहेज कर दिया। यूक्रेन पर यूएनएनसी में संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि टी.एस. तिरुमूर्ति (T.S. Tirumurthi) ने कहा कि यूक्रेन में जो हुआ भारत उससे बेहद परेशान है। आग्रह है कि हिंसा और शत्रुता को तत्काल खत्म कर सभी प्रयास किए जाएं। नागरिकों के जीवन की सुरक्षा के लिए अभी तक कोई समाधान नहीं निकाला गया है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि ने कहा कि सभी सदस्य देशों को रचनात्मक तरीके से आगे बढ़ने के लिए सिद्धांतों का सम्मान करने की जरूरत है। मतभेदों और विवादों को निपटाने के लिए संवाद ही एकमात्र जवाब है। हालांकि ये इस समय कठिन लग सकता है। इस बात से खेद है कि कूटनीति का रास्ता छोड़ दिया गया है, पर हमें उसपर लौटना होगा। इन सभी कारणों से भारत ने इस प्रस्ताव पर परहेज करने का विकल्प चुना है।

इससे पहले शुक्रवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने देश के नाम संबोधन में कहा कि हमारी नीती बिल्कुल स्पष्ट है और इरादे भी। हम यूक्रेन पर कब्जा नहीं करना चाहते इसलिए यूक्रेन की फौज को चाहिए कि वो फौरन सरेंडर करे। यूक्रेन के तमाम लोगों को भी वहां की सरकार ने बंधक बना लिया है। वोल्दोमिर जेलेंस्की की सरकार ड्रग एडिक्ट और नाजियों का गिरोह है।

Next Story

विविध