Top
जनज्वार विशेष

ज्योति केस में जनज्वार फैक्ट चैक के बाद साइकिल गर्ल के पिता ने अफवाह फैलाने पर दर्ज कराई FIR

Janjwar Desk
6 July 2020 5:56 AM GMT
ज्योति केस में जनज्वार फैक्ट चैक के बाद साइकिल गर्ल के पिता ने अफवाह फैलाने पर दर्ज कराई FIR
x

बीमार पिता को दरभंगा तक साइकिल से ले जाने वाली ज्योति के बारे में फैलायी जा रही थी अफवाह कि उसकी रेप के बाद कर दी गयी है हत्या, जबकि जिस ज्योति की हुई है मौत उसका कारण भी है करंट लगना

सोशल मीडिया पर झूठी खबरें प्रसारित कर सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने तथा एक नाबालिग बच्ची के नाम का दुरुपयोग करने को लेकर कमतौल थाने में साइकिल गर्ल ज्योति के पिता मोहन पासवान ने दर्ज कराई है....

दरभंगा, जनज्वार। दरभंगा के पतोर गांव में ज्योति नाम की 13 वर्षीय किशोरी की हुई मौत के मामले में 'जनज्वार' का फैक्ट चेक बिल्कुल सही साबित हुआ है। सिरहुल्ली निवासी सायकिल गर्ल ज्योति स्वस्थ और सुरक्षित है। दरभंगा के डीएम डॉ एस. त्यागराजन और एसएसपी बाबूराम ने मीडिया को इसकी जानकारी दी। दरभंगा के कमतौल थाने में सायकिल गर्ल ज्योति के पिता मोहन पासवान ने गलत अफवाह फैलाने को लेकर एक एफआईआर दर्ज करा दी है।

जनज्वार ने 4 जुलाई को फैक्ट चेक कर प्रकाशित किया था कि साइकिल गर्ल ज्योति की निर्मम तरीके से हत्या और रेप की जो खबर फैलायी जा रही है वह अफवाह है। जनज्वार ने अपने फैक्ट चेक में पाया था कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे मैसेज महज अफवाह हैं। हमने लिखा 'दरभंगा में मरी लड़की का न रेप हुआ न गला रेता गया और न ही वो है सायकिल वाली ज्योति।'

जनज्वार ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए यह बात लिखी 'मृतका के साथ दुष्कर्म का साक्ष्य नहीं पाया गया। करंट लगने से मौत की बात सामने आई है।' हमने पुलिस की तरफ से दिए गए इस बयान का उल्लेख भी किया कि प्रथमदृष्टया बच्ची का शव बिजली के तार से थोड़ी दूरी पर पाया गया था। यह भी हो सकता है कि किशोरी के शव को वहां से दूर करने की नीयत से ऐसा किया गया हो। पुलिस सभी पहलुओं की जांच कर रही है।

मीडिया से बात करते हुए 5 जुलाई को एसएसपी बाबूराम ने कहा कि साइकिल गर्ल ज्योति कुमारी पूरी तरह स्वस्थ और सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर झूठी खबरें प्रसारित कर सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने तथा एक नाबालिग बच्ची के नाम का दुरुपयोग करने को लेकर कमतौल थाने में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। यह प्राथमिकी साइकिल गर्ल ज्योति के पिता मोहन पासवान ने दर्ज कराई है।

सोशल मीडिया पर यह अफवाह फैला दी गई थी कि अपने पिता को सायकिल से गुरुग्राम से दरभंगा लाने वाली ज्योति कुमारी के साथ ही ऐसा हुआ है। साथ ही बिना पोस्टमार्टम रिपोर्ट आए और बिना पुलिस जांच पूरा हुए सोशल मीडिया पर दुष्कर्म और हत्या की अफवाह फैला दी गई थी।

संबंधित खबर : फैक्ट चेक : दरभंगा में मरी लड़की का न रेप हुआ, न रेता गया गला और न ही वो है साइकिल वाली ज्योति

जनज्वार ने अपने फैक्ट चेक में स्पष्ट कर दिया था कि घटना साइकिल वाली ज्योति के साथ नहीं हुई है, बल्कि यह दूसरे जगह की दूसरी बच्ची है। जनज्वार ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इंगित तथ्यों के आधार पर कहा था कि सोशल मीडिया पर चल रहीं सारी अफवाहें गलत हैं और इनसे सामाजिक सद्भाव बिगड़ने की संभावना हो जाती है।

दरभंगा के एसएसपी बाबूराम ने यह भी कहा है कि खबर की सच्चाई जानने के लिए मेनस्ट्रीम मीडिया को देखा जा सकता है। सोशल मीडिया में चल रही किसी भी खबर की सत्यता जाने बिना उस पर यकीन न करें। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि साइकिल गर्ल के पिता द्वारा दर्ज कराई गई नामजद प्राथमिकी में 'पोलिटिकल पोस्ट' ग्रुप चलाने वाले एडमिन शाहिद सोइगल को आरोपित किया गया है। उस पर आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने का प्रयास निंदनीय है।

उन्होंने फिर दोहराया कि पतोर गांव की जिस बच्ची का शव बरामद हुआ है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसके साथ दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में करंट को मौत का कारण बताया गया है। एक आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। शेष को भी एक-दो दिनों में गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि संबंधित थाना प्रभारी को कर्तव्यपालन में कोताही के लिए निलंबित कर दिया गया है।

4 जुलाई को प्रकाशित जनज्वार के फैक्ट चेक में यह बात भी कही गई थी कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आए बिना और पुलिस जांच पूरी हुए बिना बड़े-बड़े नेता राजनीतिक नेता अपनी राजनीति चमका रहे हैं। साथ ही हत्या-दुष्कर्म की बात कर रहे हैं। हमने गंवई नेताओं की ओर भी आशंका जताई थी कि घटना वाले दिन लोगों को भड़काने में इनकी भूमिका हो सकती है।

डीएम डॉ एस. त्यागराजन ने कहा 'सिरहुल्ली की ज्योति बिल्कुल स्वस्थ और सुरक्षित है। दूसरा मामला पतौर ओपी का है। इसपर पुलिस कार्रवाई कर रही है। उसके परिवार को 4.75 लाख रुपये मुआवजे की राशि भी प्रदान की गई है।'

जनज्वार ने फैक्ट चेक में सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों पर सवाल भी उठाया था कि बिना तथ्यों को जाने वे लोग कैसे किसी चीज को वायरल कर रहे हैं। हमने यह भी सवाल उठाया था कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आए बगैर और पुलिस जांच पूरा हुए बिना ऐसे लोग दुष्कर्म और हत्या की बात कैसे वायरल कर रहे हैं।

बहरहाल जनज्वार ने एक बार फिर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी का निर्वहन किया है और सही तथ्यों को लोगों के सामने रखा है। ऐसे मामले अत्यंत संवेदनशील होते हैं और सही तथ्यों को जांचे-परखे बिना सोशल मीडिया पर डालने और वायरल करने से सामाजिक सद्भाव बिगड़ने का खतरा हो जाता है।

दरभंगा के पतौर सहायक थाना के पतौर गांव में 1 जुलाई को एक 13 वर्षीय बच्ची का शव बरामद किया गया था, जिसके बाद ग्रामीण उग्र हो गए थे और आरोपित पूर्व सैनिक के घर पर धावा बोल दिया था। उग्र लोगों ने थाने पर भी हंगामा किया था, जिसे काफी मशक्कत के बाद लोगों को समझा-बुझाकर किसी तरह एसएसपी द्वारा शांत कराया गया था।

Next Story

विविध

Share it