आंदोलन

कृषि कानूनों के एक साल पूरा होने पर अकाली दल का दिल्ली में हल्ला बोल, पुलिस ने कई रास्ते किए बंद

Janjwar Desk
17 Sep 2021 5:52 AM GMT
कृषि कानूनों के एक साल पूरा होने पर अकाली दल का दिल्ली में हल्ला बोल, पुलिस ने कई रास्ते किए बंद
x

कृषि कानूनों के एक साल पूरा होने पर अकाली दल संसद मार्च कर रहा है (file pic)

शिअद ने गुरुद्वारा रकाब गंज से संसद तक होने वाले अपने इस प्रदर्शन को 'ब्लैक फ्राइडे प्रोटेस्ट मार्च' का नाम दिया है, विरोध मार्च के मद्देनजर दिल्ली के शंकर रोड इलाके में भारी संख्या में सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए गए हैं..

जनज्वार। तीन नए कृषि कानूनों (Farm laws) के विरुद्ध देश के विभिन्न किसान संगठनों के नेतृत्व में महीनों से किसानों का आंदोलन (protest) चल रहा है। दिल्ली के सिंघु और गाजीपुर बार्डर पर किसान लंबे समय से मोर्चाबंदी और नाकाबंदी किए हुए हैं। पिछले दिनों हरियाणा (Haryana) के करनाल में भी किसानों ने बड़ा आंदोलन खड़ा कर दिया था।

इन सबके बीच शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) आज कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में प्रदर्शन कर रहा है। बता दें कि नए कृषि कानूनों के विरोध में पार्टी की सांसद हरसिमरत कौर (Harsimrat kaur) ने मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था।

एक तरफ सरकार (Modi Government) इन कानूनों की वापसी पर तैयार नहीं तो दूसरी तरफ किसान इन कानूनों की वापसी से कुछ भी कम पर मानने को तैयार नहीं, लिहाजा गतिरोध बना हुआ है। इस बीच कृषि कानूनों को एक साल भी पूरा हो गया है। शिरोमणि अकाली दल केंद्र के तीन कृषि कानूनों का एक साल पूरा होने पर यह प्रदर्शन कर रहा है।

शिरोमणि अकाली दल की ओर से कहा गया है कि कृषि कानूनों के खिलाफ आज वे दिल्ली (Delhi) में जोरदार प्रदर्शन करेंगे। शिअद ने गुरुद्वारा रकाब गंज से संसद (Parliament) तक होने वाले अपने इस प्रदर्शन को 'ब्लैक फ्राइडे प्रोटेस्ट मार्च' का नाम दिया है। शिअद के विरोध मार्च के मद्देनजर दिल्ली के शंकर रोड इलाके में भारी संख्या में सुरक्षाकर्मी तैनात (Security forces posted) कर दिए गए हैं और नई दिल्ली जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। इसके साथ ही दिल्ली मेट्रो के पंडित श्री राम शर्मा और बहादुरगढ़ शहर मेट्रो स्टेशनों के एंट्री/एग्जिट गेट भी बंद कर दिए गए हैं।

जानकारी के अनुसार, अकाली दल ने गुरुवार को कहा था कि विरोध मार्च (protest march) गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब से संसद भवन तक निकाला जाएगा जिसका नेतृत्व शिअद प्रमुख सुखबीर बादल और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल करेंगी। तीनों कृषि कानून 17 सितंबर 2020 को संसद में पारित हुए थे और हरसिमरत ने इनके विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था।

नई दिल्ली के डीसीपी (DCP) दीपक यादव ने बताया कि तीन कृषि कानूनों के एक साल पूरे होने पर आज दिल्ली में शिरोमणि अकाली दल के नेतृत्व में गुरुद्वारा रकाबगंज से संसद तक होने वाले मार्च को देखते हुए गुरुद्वारा रकाबगंज पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

डीसीपी ने बताया कि नई दिल्ली जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। कोरोना वायरस (Corona virus) के प्रसार को रोकने और नियंत्रित करने के मौजूदा दिशानिर्देशों के मद्देनजर विरोध मार्च की अनुमति नहीं दी गई है।

डीसीपी ने बताया कि अकाली दल के सदस्य यहां पर इकट्ठा हुए हैं, इनके नेताओं से अभी हमारी बातचीत चल रही है, हमने इन्हें स्पष्ट रूप से बता दिया है कि प्रदर्शन की इजाजत (permission of demonstration) नहीं है।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने भी किसानों के विरोध को देखते हुए झड़ौदा कलां बॉर्डर को बैरिकेड्स (barricades) लगाकर बंद कर दिया है। ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) ने ट्वीट कर लोगों से इस मार्ग के प्रयोग से बचने की सलाह दी है। वहीं, अकाली दल के इस विरोध प्रदर्शन से पहले झंडेवालान-पंचकुइयां मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है और रोड पर भारी जाम लग गया है।

Next Story

विविध