राष्ट्रीय

Sameer Wankhede : समीर वानखेड़े के पिता ने नबाब मलिक पर ठोका मानहानि का केस, मीडिया में बयान देने से रोकने की भी मांग

Janjwar Desk
7 Nov 2021 5:24 AM GMT
Sameer Wankhede : समीर वानखेड़े के पिता ने नबाब मलिक पर ठोका मानहानि का केस, मीडिया में बयान देने से रोकने की भी मांग
x

(क्रूज ड्रग केस के बाद से ही नबाब मलिक और समीर वानखेड़े के बीच जंग छिड़ गई है) File pic.

Sameer Wankhede : समीर वानखेड़े आर्यन खान, नवाब मलिक के दामाद समीर खान समेत बॉलीवुड से जुड़े तमाम केसों में जांच अधिकारी थे। हालांकि, उनसे आर्यन खान समेत 6 केस वापस लेने का फैसला लिया गया है।

Sameer Wankhede : बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान (Shahrukh Khan) के बेटे आर्यन खान की ड्रग मामले में गिरफ्तारी (Aryan Khan Drug Case) के बाद से ही महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक एनसीबी के अधिकारी समीर वानखेडे (Sameer Wankhede) और उनके परिवार पर कई तरह के आरोप लगा रहे हैं। नबाब मलिक (Nawab Mallick) वानखेड़े के परिवार पर भी मुखर होकर आरोप लगा रहे हैं और उनकी जाति पर भी सवाल उठा चुके हैं।

इन सबके बीच अब नबाब मलिक (Nabab Mallik) के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में मानहानि का केस हुआ है। समीर वानखेड़े के पिता ध्यानदेव वानखेड़े (Dhyan dev Wankhede) ने नवाब मलिक के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay Highcourt) का दरवाजा खटखटाया है और मानहानि का केस दर्ज करवाया है।

बता दें कि समीर वानखेड़े मुंबई एनसीबी (NCB) के जोनल डायरेक्टर हैं जो आर्यन खान, नवाब मलिक के दामाद समीर खान समेत बॉलीवुड से जुड़े तमाम केसों में जांच अधिकारी थे। हालांकि, पिछले दिनों उनसे आर्यन खान समेत 6 केस वापस लेने का फैसला लिया गया था।

एनसीबी ऑफिसर समीर वानखेड़े के पिता ध्यानदेव कचरुजी वानखेड़े ने महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में मानहानि का दावा ठोका है। बीते महीने मुंबई क्रूज ड्रग मामले के सामने आने के बाद से ही एनसीबी जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े नवाब मलिक के निशाने पर हैं और मलिक उनपर फर्जी जाति प्रमाणपत्र बनाने का आरोप तक लगा चुके हैं।

वानखेड़े के वकील, अरशद शेख (Arshad Shekh) ने कहा, 'मलिक वानखेड़े परिवार को लगातार फ्रॉड कह रहे हैं और उन्हें मुस्लिम बताकर उनकी धार्मिक मान्यताओं पर सवाल कर रहे हैं।' उन्होंने कहा कि वानखेड़े परिवार के हर सदस्य को रोजाना मलिक फ्रॉड कह रहे हैं और ध्यानदेव वानखेड़े की बेटी यास्मीन के करियर को भी प्रभावित कर रहे हैं, जो पेशे से एक वकील हैं।

अंतरिम राहत के तौर पर ध्यानदेव ने अपने और परिवार के खिलाफ लिखे गए आर्टिकलों, ट्वीट्स, इंटरव्यूज को डिलीट करने के आदेश देने की भी मांग की है। इस अर्जी में यह भी कहा गया है कि वानखेड़े परिवार के खिलाफ यह पूरा मामला मलिक के दामाद की इस साल जनवरी में हुई गिरफ्तारी के बाद ही शुरू हुआ।

ध्यानदेव ने मलिक से हर्जाने के तौर पर 1.25 करोड़ रुपये की मांग भी की है। वानखेड़े ने यह अर्जी छुट्टियों के दौरान दर्ज कराई है। इस याचिका पर सोमवार को सुनवाई होगी। बता दें कि आज नवाब मलिक ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस करने का ऐलान किया है।

वानखेड़े के वकील ने कहा है कि मलिक ने वादी और उसके परिवार के सदस्यों के नाम, चरित्र, प्रतिष्ठा और सामाजिक छवि को अपूरणीय क्षति पहुंचाई है। इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, अर्जी में ध्यानदेव ने मलिक, उनके पार्टी के सदस्यों और उनके निर्देशों पर काम करने वाले बाकी सभी पर उनके या उनके परिवारवालों के लिए कुछ भी लिखने और मीडिया में बोलने से रोकने के लिए आदेश की मांग की है।

Next Story

विविध