Top
समाज

दलित महिला ने पड़ोसी को आधी रात को घर में घुसने से रोका तो जिंदा जलाकर मार डाला

Prema Negi
7 Feb 2020 2:33 PM GMT
दलित महिला ने पड़ोसी को आधी रात को घर में घुसने से रोका तो जिंदा जलाकर मार डाला
x

प्रतीकात्मक फोटो

महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के सिल्लोड तहसील के अंधारी गांव में दलित महिला का पड़ोसी आधी रात को जबरन घर में घुसने का कर प्रयास कर रहा था तो उसने उसे रोका, रोकने पर पड़ोसी ने दलित महिला को आग के हवाले कर दिया...

जनज्वार। दलितों, महिलाओं के पक्ष में समाज, शासन-प्रशासन जितना मुखर होने के दावे करता है उन पर अत्याचार की घटनायें उतनी ज्यादा बढ़ती जाती हैं। इससे पता चलता है कि हमारा समाज महिलाओं-दलितों के मामले में पहले से भी कहीं ज्यादा दकियानूसी और क्रूर हुआ है। नहीं तो एक दलित महिला का अपने घर में घुसने देने से मना करने पर किसी को इतना क्यों खलता कि उसे जिंदा जलाकर मार डालता।

यह भी पढ़ें —अंधविश्वास : परम्परा के नाम पर जहां दलित महिलाओं को पोल पर बांधकर बैलगाड़ियों से खींचा, उसका उद्घाटन किया भाजपाई सीएम के सचिव ने

ह घटना रविवार 2 फरवरी की रात को सामने आयी। जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के सिल्लोड तहसील के अंधारी गांव में दलित महिला का पड़ोसी आधी रात को जबरन घर में घुसने का कर प्रयास कर रहा था तो उसने उसे रोका, रोकने पर पड़ोसी ने दलित महिला को आग के हवाले कर दिया। 95 फीसदी जली हालत में महिला को अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गयी।

यह भी पढ़ें : ओडिशा में डायन के शक में बुजुर्ग महिला को कुल्हाड़ी से उतार दिया मौत के घाट

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक औरंगाबाद के सिल्लोड तहसील के अंधारी गांव में रविवार 2 फरवरी की रात एक 50 वर्षीय दलित महिला को जिंदा जला दिया गया था। महिला को 95 फीसदी जली हालत में गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के सुपरिंटेंडेंट सुरेश हार्वडे ने मीडिया को बताया कि इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई। महिला की मौत होने के बाद उसे आग के हवाले करने वाले पड़ोसी संतोष मोहिते को मंगलवार 4 फरवरी को पुलिस ने गिरफ्तार कर उसके खिलाफ मामला दर्ज किया।

भी पढ़ें – अंधविश्वास की हाईट : सूर्यग्रहण पर परिजनों ने जिंदा बच्चों को ही दफना दिया जमीन में

सिल्लोड (ग्रामीण) पुलिस थाना निरीक्षक किरण बिडवे ने मीडिया को जानकारी दी कि पड़ोसी मोहित ने महिला के घर में जबरन घुसने की कोशिश की। जब महिला ने उसे अपने घर से निकालने का प्रयास किया तो दोनों के बीच कहासुनी हुई। इसी कहासुनी में मोहित जबर्दस्ती दलित महिला के घर में घुस गया और वहां रखी केरोसीन की केन उठाकर महिला पर उड़ेल उसको आग के हवाले कर दिया। महिला को आग लगाने के बाद आरोपी ने बाहर से दरवाजा बंद कर दिया और खुद वहां से भाग गया। महिला की चीख सुनकर पड़ोस में रहने वाले दूसरे लोग आए और महिला को औरंगाबाद का सरकारी अस्पताल पहुंचाया गया। 95 फीसदी जली दलित महिला की अस्पताल में इलाज के दौरान मंगलवार 4 फरवरी को मौत हो गयी।

संबंधित खबर : झारखंड में पंचायत ने चार महिलाओं को डायन बताकर खौलते पानी से सिक्का निकालने की दी सजा

जानकारी के मुताबिक दलित महिला की दो बेटियां हैं, मगर वह घर में अकेली रहती थी। दलित महिला के घर में रात के लगभग 11 बजे घुसने का मोहित का इरादा क्या था, इसकी जांच पुलिस कर रही है।

को आग के हवाले करने वाले आरोपी मोहित को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 10 फरवरी तक के लिए पुलिस हिरासत में रखा गया है। आरोपी के खिलाफ पुलिस ने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) कानून की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Next Story
Share it