Top
मध्य प्रदेश

वकील को पीटने के बाद मध्यप्रदेश पुलिस ने माफी मांगते हुए कहा-हमने दाढ़ी देखकर सोचा आप मुस्लिम हो

Nirmal kant
20 May 2020 8:03 AM GMT
वकील को पीटने के बाद मध्यप्रदेश पुलिस ने माफी मांगते हुए कहा-हमने दाढ़ी देखकर सोचा आप मुस्लिम हो
x

पुलिस अधिकारी ने कथित तौर पर फोन पर पीड़ित वकील दीपक बुंदेले से कहा, 'उन सभी लोगों को शर्म आती है कि जिन्होंने जाने बिना अपने एक हिंदू भाई के साथ ऐसा कुछ किया। जब भी कोई हिंदू-मुस्लिम दंगा होता है पुलिस हमेशा हिंदुओं का समर्थन करती है, मुस्लिमों को भी यह पता है। लेकिन जो कुछ बी आपके साथ हुआ वह अज्ञानता के कारण हुआ। उसके लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं....

जनज्वार ब्यूरो। मध्यप्रदेश के बैतुल में इस्लामाफोबिया और पुलिस की मनमानी का मामला सामने आया है। 23 मार्च को एक वकील दीपक बुंदेले को राज्य की पुलिस ने तब बेरहमी से पीटा था जब वह उपचार के लिए सरकारी अस्पताल जा रहा था। एक महीने बाद वह अपनी शिकायत वापस लेने के लिए पुलिस के दबाव में है। पुलिस अधिकारियों ने अपने बचाव में बुंदेले से कहा कि उसकी पिटाई इसलिए की गई क्योंकि उन्होंने गलत तरीके से उकी पहचान एक मुस्लिम व्यक्ति के रूप में की थी।

'द वायर' से बात करते हुए बुंदेले ने कहा कि 23 मार्च को शाम 5.30 बजे से 6 बजे के बीच जब उसे रोका गया तो वह अस्पताल जा रहा था। तब देशव्यापी लॉकडाउन लागू नहीं हुआ था लेकिन बैतुल में धारा 144 लागू कर दी गई थी। मैं पिछले 15 वर्षों से मधुमेह और रक्तचाप का रोगी हूं। चूंकि मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा था, इसलिए मैंने अस्पताल जाकर कुछ दवाएं लेने का फैसला किया लेकि पुलिस ने मुझे बीच में ही रोक दिया।

संबंधित खबर : मध्यप्रदेश - 160 किलोमीटर पैदल चलने के बाद मजदूर की पत्नी ने सड़क किनारे दिया बच्चे को जन्म

दाढ़ी रखने वाले बुंदेले ने कहा कि उन्होंने पुलिस कर्मियों को समझाया कि उन्हें अपनी दवाइंया लेनी हैं, लेकिन उसमें से एक ने बिना यह सुने कि मैं क्या कहने की कोशिश कर रहा हूं, मुझे थप्पड़ मार दिया।

'मैंने उनसे कहा कि उन्हें संवैधानिक सीमा के भीतर काम करना चाहिए, और अगर पुलिस ऐसा सोचती है तो मैं भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत हिरासत में लेने के लिए तैयार हूं। यह सुनकर पुलिस कर्मियों ने अपना आपा खो दिया और भारतीय संविधान व मेरा उत्पीड़न करना शुरु कर दिया। कुछ समय के भीतर कई पुलिस अधिकारी आए और मुझे लाठी से पीटना शुरू कर दिया।

बुंदेले ने आरोप लगाया कि जब उन्हें (पुलिस को) बताया कि वह पेशे से वकील हैं तभी जाकर उन्होंने पीटना बंद किया। लेकिन उस समय मेरे कान से गहरा खून बहने लगा था। दीपक ने इसके बाद अपने दोस्त और भाई को अस्पताल ले जाने के लिए बुलाया और एक मेडिकोलीगल केस (एमएलसी) रिपोर्ट प्राप्त की। 24 मार्च को उन्होंने जिला पुलिस अधीक्षक डी.एस. भदोरिया और राज्य के पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी के पास शिकायत दर्ज कराई।

इसके बाद मुख्यमंत्री, राज्य के मानवाधिकार आयोग, मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और शीर्ष सरकारी अधिकारियों को पत्र लिखे। बुंदेले ने यह भी बताया कि उन्होंने 23 मार्च की घटना के सीसीटीवी फुटेज के लिए एक आरटीआई आवेदन दायर किया था, लेकिन जानकारी से इनकार कर दिया गया था।

'मुझे यह कहते हुए जवाब मिला कि मैंने स्पष्ट रूप से वह कारण नहीं बताया है जिसके लिए मैंने आरटीआई अनुरोध किया था। लेकिन मुझे अनौपचारिक रूप से कहा गया है कि सरकारी फाइलों से सीसीटीवी फुटेज को डिलीट कर दिया गया हो।'

न्होंने आरोप लगाया कि तबसे पुलिस शिकायत वापस लेने के लिए काफी कोशिशें कर रही है। सबसे पहले कुछ शीर्ष अधिकारियों ने मुझसे कहा कि अगर वे अपनी शिकायत वापस ले लेते हैं तो वे इस घटना के लिए माफी मांग सकते हैं। इसके बाद कुछ लोगों ने मुझे और मेरे भाई (वो भी वकील हैं) से कहा कि अगर वे शांतिपूर्ण ढंग से लॉ प्रैक्टिस करना चाहते हैं तो शिकायत करना बंद कर देना चाहिए।

संबंधित खबर : बीमार बेटे को चारपाई पर लेकर लुधियाना से मध्य प्रदेश पैदल ही चल पड़ा भूखा-प्यासा पिता

हालांकि बुंदेले को इन बातों से कोई फर्क नहीं पड़ा। उन्होंने 24 मार्च को एसपी को दी अपनी शिकायत में जिला पुलिस से घटना के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध किया। उस आधार पर कुछ पुलिस अधिकारी 17 मई को उनके घर आए। उन्होंने दीपक को बताया कि यह गलत पहचान का मामला था और पुलिस अधिकारियों ने सोचा कि वह एक मुस्लिम है।

दीपक कहते हैं, मेरे बयान को दर्ज करने के लिए पुलिस अधिकारियों को पांच मिनट से ज्यादा समय नहीं लगना चाहिए था लेकिन लगभग तीन घंटे लग गए क्योंकि वे मुझे शिकायत वापस लेने के लिए मनाने की कोशिश करते रहे।

'द वायर' के अनुसार दीपक बुंदेले ने वॉयर रिकॉर्डिंग को साझा किया जिसमें कथित तौर पर पुलिस अधिकारियों को यह कहते हुए सुना जा रहा है कि उनपर हमला कुछ अधिकारियों की ओर से एक गलती थी जिन्होंने दाढ़ी के कारण सोचा कि वह एक मुस्लिम है। फिर वो आगे कहते हैं कि पुलिस आमतौर पर सांप्रदायिक दंगों की स्थिति में हिंदुओं का सपोर्ट करती है।

थित पुलिस अधिकारियों को यह कहते हुए सुना जा रहा है कि हम उन अधिकारियों की ओर से माफी मांगते हैं जिन्होंने (दीपक बुंदेले पर) हमला किया। घटना के कारण हम वास्तव में शर्मिंदा हैं। यदि आप चाहते हैं कि मैं उन अधिकारियों को आपके सामने ला सकता हूं और उन्हें व्यक्तिगत रूप से मांगने के लिए कह सकता हूं।

'मैं आपसे यह लिखने के लिए दिल से अनुरोध कर रहा हूं कि पुलिस ने मेरे साथ अभद्र व्यवहार नहीं किया और न ही मेरे साथ मारपीट की। प्लीज हमारे अनुरोध से सहमत हों, हम समझते हैं कि हम गांधी के देश में रह रहे हैं, हम सभी गांधी के बच्चे हैं...आपकी जाति से मेरे कम से कम 50 दोस्त हैं।'

बुंदेले ने जोर देकर कहा कि उनके या उनके किसी पुलिस अधिकारी के खिलाफ कुछ भी व्यक्तिगत नहीं है और उन्होंने अपनी शिकायत वापस लेने से इनकार कर दिया, तो पुलिस अधिकारी ने कहा, 'उन सभी लोगों को शर्म आती है कि उन्होंने पहचान जाने बिना एक हिंदू भाई के साथ ऐसा कुछ किया। हम आपके खिलाफ कोई दुश्मनी नहीं रखते हैं। जब भी कोई हिंदू-मुस्लिम दंगा होता है पुलिस हमेशा हिंदुओं का समर्थन करती है, मुस्लिमों को भी यह पता है। लेकिन जो कुछ बी आपके साथ हुआ वह अज्ञानता के कारण हुआ। उसके लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं।

बुंदेले ने स्पष्ट किया कि उस दिन कोई हिंदू-मुस्लिम दंगा नहीं हुआ था, और पूछा गया कि क्या उन्हें गलत तरीके से मुस्लिम होने के कारण पीटा गया था। पुलिस अधिकारी सहमत हुए और कहा, 'हाँ बिल्कुल। आपकी लंबी दाढ़ी थी। वह शख्स (जिसने आपके साथ मारपीट की) वह कटार (कट्टर) हिंदू है ... हिंदू-मुस्लिम दंगों में जब भी किसी मुस्लिम को गिरफ्तार किया जाता है, तो वह उन्हें बेरहमी से पीटता है, हमेशा।'

संबंधित खबर : छिंदवाड़ा की इस महिला नर्स के साहस को सलाम, खुद गर्भवती है और क्वारंटाइन सेंटर में दे रही सेवा

सके बाद बुंदेले कहते हैं कि वह भोपाल में 10 वर्षों तक एक प्रमुख पत्रकार के साथ एक पेशेवर पत्रकार रहे और 2017 में लॉ प्रैक्टिस के लिए बैतुल वापस आ गए। दीपक बुंदेले ने आगे कहा कि वह अपनी शिकायत को वापस नहीं लेगें। उन्होंने पहले ही राज्य के शीर्ष अधिकारियों से मामले में कार्रवाई का अनुरोध किया और इसलिए अब शिकायत का पीछा करेंगे।

बुंदेले ने कहा, इस मामले के खिलाफ अभी भी एक एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। जिस तरह से पुलिस अधिकारियों ने माफी मांगी, मैं हैरान रह गया। यहां तक ​​कि अगर मैं मुस्लिम था, तो पुलिस को बिना किसी कारण के उन पर हमला करने का अधिकार क्या है।

Next Story

विविध

Share it