Top
मध्य प्रदेश

राजस्थान के बाद अब मध्यप्रदेश में टिड्डियों का आतंक, किसानों हो सकता है भारी नुकसान

Nirmal kant
20 May 2020 2:04 PM GMT
राजस्थान के बाद अब मध्यप्रदेश में टिड्डियों का आतंक, किसानों हो सकता है भारी नुकसान
x

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि टिड्डियों का आगमन शाम को लगभग छह से आठ बजे के बीच होता है तथा सुबह साढ़े सात बजे तक दूसरे स्थान के लिए प्रस्थान करने लगता है...

जनज्वार ब्यूरो। मध्यप्रदेश के कई हिस्सों में राजस्थान से होते हुए टिड्डी झुंडों ने अपनी अपनी आमद दर्ज करा दी है, जिससे फसलों के नुकसान की आशंका बढ़ गई है। वहीं प्रशासन द्वारा मुनादी कराकर किसानों को आपदा के प्रकोप से निपटने के लिए सर्तक किया जा रहा है। कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, टिड्डी के झुंड राजस्थान से होता हुआ नीमच, मंदसौर, आगर मालवा व झाबुआ पहुंच रहा है।

संबंधित खबर : बीमार बेटे को चारपाई पर लेकर लुधियाना से मध्य प्रदेश पैदल ही चल पड़ा भूखा-प्यासा पिता

टिड्डियों का कारवां कई किलोमीटर लंबा है। ये खेतों में उतरकर फसलों को नुकसान पहुंचा सकती हैं। आगर मालवा जिले के कृषि विभाग के उपसंचालक आर.पी. कनेरिया ने कहा है कि टिड्डी के झुंड लगभग 15 किलोमीटर तक छाए हुए हैं, इसलिए किसानों को सलाह दी गई है कि वे सतर्क रहें। जैसे ही टिड्डियों का कोई झुंड पास आता है तो वे शोर करें, झुंड भाग जाएगा।

जिलों में टिड्डियों के झुंड के आने का खतरा है, वहां के किसानों को मुनादी कराने के साथ सतर्क किया जा रहा है। उनसे कहा गया है कि टिड्डियों को भगाने के लिए ध्वनि-विस्तार यंत्र, जैसे- मांदल, ढोलक, डीजे, ट्रैक्टर का साइलेंसर निकालकर आवाज करना, खाली टीन के डिब्बे, थाली इत्यादि स्थानीय स्तर पर तैयार रखें, सामूहिक प्रयास से ध्वनि-विस्तारक यंत्र का उपयोग करें। ऐसा करने से टिड्डी झुंड नीचे नहीं आकर, फसल या वनस्पति पर न बैठते हुए आगे चला जाएगा।

संबंधित खबर : वकील को पीटने के बाद मध्यप्रदेश पुलिस ने माफी मांगते हुए कहा-हमने दाढ़ी देखकर सोचा आप मुस्लिम हो

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि टिड्डियों का आगमन शाम को लगभग छह से आठ बजे के बीच होता है तथा सुबह साढ़े सात बजे तक दूसरे स्थान के लिए प्रस्थान करने लगता है। ऐसी स्थिति में टिड्डी का प्रकोप होने पर तत्काल बचाव के लिए उसी रात की सुबह तीन बजे से लेकर साढ़े सात बजे तक रासायनिक दवाओं का छिड़काव कर टिड्डी झुंड पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

ताया गया है कि टिड्डी झुंड खेतों या पेड़ों, हरियाली में बैठते हैं एवं पूर्ण फसलों को नष्ट करता है। इस आपदा पर प्रभावी नियंत्रण के लिए अनुविभाग स्तर एवं जिला स्तर व राज्य स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं।

Next Story
Share it