Top
राजनीति

अमेठी में लगे स्मृति ईरानी के गुमशुदगी के पोस्टर तो उन्होंने ट्वीटर पर मांग लिया सोनिया गांधी का हिसाब

Prema Negi
2 Jun 2020 12:01 PM GMT
अमेठी में लगे स्मृति ईरानी के गुमशुदगी के पोस्टर तो उन्होंने ट्वीटर पर मांग लिया सोनिया गांधी का हिसाब
x

सोशल मीडिया पर लोगों ने स्मृति से पूछा, सोनू सूद को तो बड़ी बधाइयां दे रहीं थी आप? और देनी भी चाहिए। तो अगर सोनू सूद और कांग्रेस के नेता घर से निकलकर जनता की सेवा कर सकते हैं, तो आप क्यों नहीं...

जनज्वार, लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पोस्टर वॉर फिर से बहाल होता दिख रहा है। अभी बीते दिन सपा के दो कार्यकर्ताओं ने लखनऊ के तमाम मुहल्लों में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और लोकल विधायक सुरेश श्रीवास्तव के लापता होने संबंधी पोस्टर चिपकाए थे। नतीजा यह रहा कि दोनों सपा कार्यकर्ताओं को मान भंग की धारा में पाबंद कर दिया गया। बाद में वकालत और तमाम समर्थन के बाद दोनों छूट गए।

ताजा मामला अमेठी का है, जहां की सांसद स्मृति ईरानी के लापता होने के पोस्टर मुख्यता अमेठी के कई घरों, दरवाजों और बिजली के खम्भों में चस्पा हैं। पोस्टर में लिखा है कि 'अमेठी से सांसद बनने के बाद (सालभर में 2 दिन) महज कुछ घण्टों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने वाली सांसद अमेठी स्मृति ईरानी जी आज कोरोना महामारी के दर्द से अमेठी की समस्त जनता भयभीत और त्रस्त है।'

पोस्टर में आगे लिखा है 'हम यह नहीं कहते आप गायब हैं, हमने आपको ट्विटर के माध्यम से अंताक्षरी खेलते हुए देखा है। हमने आपके माध्यम से एकांत व्यक्ति को लंच देते हुए देखा है, लेकिन अमेठी के सांसद होने के नाते से आज इस विपरीत समय में अमेठी की मासूम जनता अपनी आवश्यकताओं और परेशानियों के लिए आपको ढूंढ़ रही है। विगत कई महीनों की परेशानियों के बीच मे यूं ही अमेठी की जनता को निराश्रित छोड़ देना यह दर्शाता है कि शायद अमेठी आपके लिए टूर हब है। क्या अब आप अमेठी में सिर्फ कंधा ही देने आएंगी।'

यह भी पढ़ें : स्मृति ईरानी जी! बलात्कार पर पहली माफी पीएम मोदी से मंगवाईये क्योंकि वो दिल्ली को कहते हैं ‘रेप कैपिटल’

दरअसल ऑल इंडिया महिला कांग्रेस ने अमेठी की गौरीगंज विधानसभा के ब्लॉक शाहगंज स्थित एक बिजली के खम्भे में लगे इस पोस्टर की फ़ोटो अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की थी। इसमें लिखा गया था, 'अमेठी ढूंढ़ रहा है अपनी लापता सांसद स्मृति ईरानी जी को।'



?s=08

ऑल इंडिया महिला कांग्रेस की तरफ से हुए इस ट्वीट में 6 घण्टों के भीतर स्मृति ईरानी अपने ट्वीटर हैंडल से 6 ट्वीट कर जवाब देते हुए फिल्मी अंदाज में लिखती हैं, 'आपको मुझसे इतनी मुहब्बत थी ये पता नहीं था, चलें अब कुछ आपको भी हिसाब दिया जाए। महीने में 10 बार 14 दिन का हिसाब है मेरे पास... लेकिन ये बतायें सोनिया जी कितनी बार गई, इस दौरान अपने क्षेत्र में...'

ट्वीट नम्बर दो 'कलेक्टर अमेठी, सुल्तानपुर, रायबरेली से सतत संपर्क एक समन्वय के माध्यम से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ अमेठी के जन-जन तक पहुँचे ये प्रयास किया मैंने, बताए सोनिया जी ने स्वयं कितनी बार प्रयास किया अपने क्षेत्र से...'

ट्वीट नम्बर तीन 'लॉकडाउन में अमेठी में आपके नेताओं द्वारा जो वर्षों पुराना सपना दिखाया गया, गरीब जनता को उस मेडिकल कॉलेज का काम करवाया @myogiaditynath जी के आशीर्वाद से। बताएं आज तक अमेठी के मेडिकल कॉलेज का एक बार भी अभिनंदन क्यूं नहीं किया। खुश नहीं आप अमेठी के लिए...'



?s=08

ट्वीट नम्बर चार 'ब्लॉक शाहगढ़, विधानसभा गौरीगंज के खंभे पे कागज चिपकाया तो कम से कम अपना नाम तो लिख देते नीचे, इतना भी क्या शर्माना। कहीं ऐसा तो नहीं अमेठी को कंधा देने की शर्मनाक बात कहने वाले जानते हैं कि जनता उन्हें माफ नहीं करेगी...'

यह भी पढ़ें : ‘गरीबों के हिस्से के चावल से अमीरों के लिए सैनिटाइजर बनवा रही सरकार’

ट्वीट नम्बर पांच में वो लिखती हैं, 'अब तक 22,150 नागरिक बस से एवं 8322 ट्रेन से मात्र अमेठी जनपद में लौटे हैं वो भी पूरी कानूनी प्रक्रिया के बाद एक-एक व्यक्ति का नाम बता सकती हूं। क्या ऐसा ही हिसाब सोनिया जी रायबरेली के लिए दे सकती हैं...'

छठे ट्वीट में स्मृति लिखती हैं, 'अमेठी में कोरोना पहली बार तब आया जब आपके नेताओं ने लॉकडाउन के नियम तोड़े...अब आप चाहते हैं कि मैं कानून तोड़ के लोगों को घर से बाहर निकालने के लिए प्रोत्साहित करूँ, ताकि आप ट्विटर-ट्विटर खेल सकें। आपको अमेठी प्यारी न होगी, मुझे है लोगों के जीवन से खिलवाड़ करना बन्द करें।'



?s=08

सांसद स्मृति ईरानी के इस आखिरी ट्वीट पर कुछ अन्य यूजर ने रिट्वीट किया है, जिसमें यूजर ट्रू इंडियन नाम से लिखा गया है कि 'वो पहले सिंगल थीं... फिर उनकी सहेली ने अपने पति से मिलवाया, अब उनकी सहेली सिंगल है....पहचान कौन?

चौकीदार चोर है नाम का एक दूसरा यूजर लिखता है कि 'सोनू सूद को तो बड़ी बधाइयां दे रहीं थी आप? और देनी भी चाहिए। तो अगर सोनू सूद और कांग्रेस के नेता घर से निकलकर जनता की सेवा कर सकते हैं, तो आप क्यों नहीं? ये सब घर बैठकर अंताक्षरी खेलने के बहाने हैं। सोनू भाई करें तो ताली और कांग्रेस नेता करें तो गाली.... गज्जब दोमुंहा मुखौटा है।'

Next Story

विविध

Share it