Top
राष्ट्रीय

महाराष्ट्रः मजदूरों को गांव ले जाने के नाम पर ठगी, पैसा लेकर रास्ते में छोड़ फरार हो जाते हैं ठग

Janjwar Team
18 April 2020 8:29 AM GMT
महाराष्ट्रः मजदूरों को गांव ले जाने के नाम पर ठगी, पैसा लेकर रास्ते में छोड़ फरार हो जाते हैं ठग
x

ये गिरोह मजदूरों से कहता है कि उसके पास यूपी, बिहार या मध्य प्रदेश जाने की सरकारी परमिशन है। ये ठग गांव ले जाने के नाम पर हर मजदूर से 4000 रुपये लेते हैं...

भिवंडी से सुरेश यादव की रिपोर्ट

जनज्वारः महाराष्ट्र के थाणे जिले के भिवंडी मे लॉकडाउन के दौरान रोजी-रोटी के लिए परेशान मजदूर अब जैसे तैसे अपने गांव जाना चाहते हैं। उनकी इसी मजबूरी और परेशानी का फायदा ठगी करने वाले लोग उठा रहे है।

मुबंई नासिक हाइवे से सटे गांव मे भारी संख्या मे वेयर हाउस हैं जिसमें लेबर, सिक्युरिटी और ड्राइवर की नौकरी करने वाले हजारों लोग लाकडाऊन के कारण बेरोजगार हो गए है। उनके पास राशन खत्म हो चुके है उनके सामने भुखमरी की समस्या है। इस परेशानी भर माहौल में एक ठगी करने वाले गिरोह मजदूरों की परेशानियों को और बढ़ा दिया है।

यह भी पढ़ें- इंदौर के कलेक्टर ने कहा- अगर ऐसा हो जाता तो इतना नहीं फैलता कोरोना

मुबंई नासिक हाइवे पर ठगबाज बाईक से घूम-घूम कर यह पता लगाते है कि मजदूर कहां फंसे पड़े है यह ठग उनके पास जाते है और विश्वास दिलाते है कि हमारे पास यूपी, बिहार या मध्य प्रदेश जाने की सरकारी परमिशन है। ये लोग कहते हैं कि इनका ट्रक फला तारीख को गांव जाएगी किसी को चलना हो तो चल सकता है लेकिन इसके लिए 4000 किराए देना होगा।

इस गिरोह के पास मजदूरो की फर्जी लिस्ट भी रहती है और इनके साथ कुछ मजदूर भी रहते है जिससे इनके झांसे मे दूसरे मजदूर आ जाते है और इनके पास पैसा जमा कर देते है।

यह भी पढ़ें- मजदूरों को लाठियां तो कोटा से रईसों के बच्चो के लिए बसें रवाना, अखिलेश ने पूछा – गरीबों को वापस लाने की क्या है योजना

मजूदरों को चलने की तारीख, समय और जगह बता दी जाती है। तय तराखी को गाड़ी मे पचास से साठ मजदूर भरकर यह गिरोह चल पड़ता है। 10 से 15 किलोमीटर ले जाते हैं और वहां पर पुलिस का डर दिखाकर बहाने से गाड़ी खाली करा लेते हैं और मौके से फरार हो जाते हैं। कई बार मजदूरों का पैसा जमा करने के बाद ही ठग फरार हो जाते है और लौटकर आते ही नही।

ऐसी ही एक ताजा घटना में पचास साठ लोगों को इस गिरोह ने ग्राम पंचायत वडपे के आस-पास से स्थित एक वेयर हाउस में बैठाया और कोई सात किलोमीटर दूर जाकर पडघा टोलनाके पर पुलिस का डर दिखाकर मजूदरों गाड़ी से नीचे उतार दिया और मौके से फरार गए।

यह भी पढ़ें- लॉकडाउन में गरीबों को लाठी-गोली और नेता जी के नाती की फॉर्महाउस में रंगारंग शादी

परेशानी के मारे मजदूरों ने किसी को इस घटना के बारे में नहीं बताया। इनमें कुछ मजदूर तो वापस आ गए और कुछ अपने गांव की ओर पैदल ही चले गए।

Next Story
Share it