राजनीति

सुधीर चौधरी, रजत शर्मा और रुबिका लियाकत के खिलाफ फर्जी व नफरत फैलाने वाली खबरों के मामले में हुई शिकायत

Prema Negi
7 April 2020 6:04 AM GMT
सुधीर चौधरी, रजत शर्मा और रुबिका लियाकत के खिलाफ फर्जी व नफरत फैलाने वाली खबरों के मामले में हुई शिकायत
x

शिकायतकर्ता ने जनज्वार को बताया कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल तब्लीगी जमात को लेकर जी न्यूज, इंडिया टीवी, एबीपी न्यूज हिंदी और मराठी में लगातार नफरत फैलाने वाली खबरें प्रसारित कर रहे हैं...

जनज्वार, मुंबई। शुक्रवार 3 अप्रैल को महाराष्ट्र के धुले जिले के पुलिस अधीक्षक चिन्मय पंडित के पास एक शिकायत दर्ज की गयी है। शिकायत में कहा गया कि कोरोना महामारी के संकट काल में कुछ मीडिया घरानों और उनके एंकरों द्वारा नफरत फैलाने और मुस्लिमों के खिलाफ आम जनता का भड़काने की कोशिश हो रही है।

शिकायत में आगे कहा गया कि महामारी की खबरों को दिखाते हुए मुस्लिम धर्म के महत्वपूर्ण लोगों के खिलाफ अबशब्द बोला जा रहा है। साथ ही महामारी के संकट के बीच फंसे लोगों को हिंदू-मुसलमान की सांप्रदायिक मानसिकता को उकसाने का काम भी मीडिया घरानों के ये नामी एंकर कर रहे हैं।

संबंधित खबर : ZEE मीडिया ने कहा- जमातियों ने पुलिस पर किया पथराव, पुलिस बोली- झूठ फैला रहे हो, डिलीट करो

हाराष्ट्र के उत्तर पश्चिमी जिला ​धुले के व्यापारी शोएब शेख असफाक ने जिले के पुलिस अधीक्षक चिन्मय पंडित के समक्ष लिखित शिकायत दर्ज कराते हुए बताया कि जी न्यूज के एंकर सुधीर चौधरी, इंडिया टीवी प्रमुख व एंकर रजत शर्मा, एबीपी के प्रमुख अशोक सरकार, एबीपी की एंकर रोमाना इसरार खान व एबीपी की ही रुबिका लियाकत खान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्यवाही की जाए।

रजत शर्मा, रूबिका लियाकत और सुधीर चौधरी के खिलाफ फेक और नफरत फैलाने वाली खबरें प्रसारित करने के लिए दर्ज करवायी गयी है शिकायत

स मामले के शिकायतकर्ता शोएब शेख असफाक ने 'जनज्वार' से हुई बातचीत में कहा कि 3 अप्रैल को की गई इस शिकायत के मामले में अभी पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया है, लेकिन एसपी चिन्मय पंडित ने आश्वस्त किया है कि मेरी शिकायत पर आज मुकदमा दर्ज कर लिया जाएगा। असफाक ने जिला प्रशासन से हुई बातचीत के आधार पर कहा कि शनिवार व रविवार को छुट्टी और सोमवार को त्योहार होने की वजह से मुकदमा नहीं दर्ज हो पाया, लेकिन आज होने की उम्मीद है।

संबंधित खबर : टीवी एंकर सुधीर चौधरी ने किया ‘जिहाद’ का पोस्टमॉर्टम, सोशल मीडिया पर ऐसे उड़ा उनका मजाक

पेशे से व्यापारी और महाराष्ट्र के धुले जिले के निवासी शोएब शेख असफाक ने कहा, 'ये तमाम चैनल जिस तरह से तब्लीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद के खिलाफ अपशब्द बोल रहे हैं, वह बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। अगर लॉकडाउन नहीं होता तो हजारों लोग इसके खिलाफ सड़कों पर होते। इन तीनों चैनलों जिनका जिक्र मैंने अपनी शिकायत में किया है, उनकी ​खबरें रातों दिन कोरोना महामारी के संकट में फंसी जनता को सांप्रदायिक बना सिर्फ नफरत सिखा रहे हैं।

संबंधित खबर : फर्जी खबर दिखाने के मामले में जी न्यूज हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में मांगेगा माफी

शिकायतकर्ता शोएब ने बताया, '​​तब्लीगी जमात सिर्फ भारत में नहीं है, दुनिया के 195 देशों में इसकी शाखाएं हैं। इसके प्रमुख मौलाना साद सिर्फ भारतीय मुस्लिम समाज में नहीं, बल्कि विश्वभर में सम्मानित हैं। उनको ऐसे पेश करना जैसे भारत के खिलाफ कोई साजिश की हो, इसे हम लोग किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। जैसे देश में हजारों लोग फंसे हुए हैं, वैसे भी निजामुद्दीन तब्लीगी जमात के लोग भी फंसे हुए थे।

संबंधित खबर : सुधीर चौधरी आखिर इतने क्यों ‘सुलगे’ कि वह दिल्ली की जनता को बोल पड़े ‘मुफ्तखोर’

पूरी जमात के लोग सरकार, आईबी से लेकर हर तरह के प्रशासनिक अमले से लगातार संपर्क में रहे, इसलिए चैनल अपना सांप्रदायिक एजेंडा तत्काल बंद करें। दुख, तकलीफ और महामारी के समय में अपनी टीआरपी के लिए देश को बांटने की साजिश को कोई भी इंसाफपसंद आदमी बर्दाश्त नहीं करेगा।'

न चैनलों के खिलाफ शिकायती पत्र को अशफाक ने धुले पुलिस अधीक्षक के अलावा सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश, मुख्य सचिव महाराष्ट्र, राज्यपाल महाराष्ट्र, मुख्यमंत्री महाराष्ट्र, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री, जिलाधिकारी धुले, अपर पुलिस अधीक्षक धुले, पुलिस निरीक्षक चासंगी रोड पुलिस स्टेशन को भी प्रेषित किया है।

Next Story

विविध