Top
उत्तर प्रदेश

लॉकडाउन में बरेली में फंसा था लखनऊ का रोडवेजकर्मी, परेशान होकर कर ली खुदकुशी

Nirmal kant
10 April 2020 8:54 AM GMT
लॉकडाउन में बरेली में फंसा था लखनऊ का रोडवेजकर्मी, परेशान होकर कर ली खुदकुशी
x

रोडवेज कर्मचारी अनुराग दीप गुप्ता ने जनता कर्फ्यू के दिन से ही बरेली में फंसे हुए थे। लॉकडाउन की वजह से एक टाइम का ही खाना खा रहे थे। परेशान होकर उन्होंने आत्महत्या कर ली.....

जनज्वार। कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए इस समय देशव्यापी लॉकडाउन जारी है। पीएम मोदी की ओर से घोषित किए गए तीन सप्ताह के इस लॉकडाउन का आज लॉकडाउन का 17वां दिन है। हालांकि देशभर में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। वहीं इस लॉकडाउन से आम लोगों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

रअसल बरेली में फंसे लखनऊ के एक रोडवेज कर्मचारी अनुराग दीप गुप्ता ने इससे परेशान होकर आत्महत्या कर ली। अनुराग दीप गुप्ता बरेली में जनता कर्फ्यू के दिन से ही फंस गए थे। करीब 16 दिन की कोशिश के बाद भी जब वह घर नहीं लौट सके तो हताश होकर उन्होंने गेस्ट हाउस में आत्महत्या कर ली।

संबंधित खबर : कोरोना संकट- IIT कानपुर ने तैयार किया 100 रुपये से भी कम कीमत का पीपीई किट

बरों के मुताबिक 29 वर्षीय अनुराग बरेली के क्लासिक गेस्ट हाउस में रुके थे। 18 मार्च को काम के सिलसिले में बरेली पहुंचे थे। गेस्ट हाउस मैनेजर मोहम्मद नदीम के मुताबिक, अनुराग ने बताया था कि वह बसों में टिकट चेकिंग का काम करते हैं। 22 को जनता कर्फ्यू लग गया। 23 को यूपी में लॉकडाउन हो गया जिससे वह बरेली में ही फंस गए थे।

ने कई बार पुलिस और विभागीय अफसरों से लखनऊ लौटने के लिए परमिशन देने का आग्रह किया, लेकिन वायरस के खतरे का हवाला देकर इजाजत नहीं मिली। लखनऊ लौटने की नाकामी से वह चुपचाप रहने लगे थे। बुधवार 8 मार्च की सुबह फांसी लगाने की जानकारी गेस्ट हाउस स्टाफ को तब हुई जब खाने के लिए ऑर्डर लेने के लिए कमरे में एक कर्मचारी गया, लेकिन दरवाजा नहीं खुला।

संबंधित खबर : दलित ने बनाया था खाना इसलिए कोरोना संक्रमित 10 मरीजों ने खाने से किया इनकार

स घटना को लेकर पुलिस अधिकारी गजेंद्र सिंह ने कहा, 'अनुराग तनाव में थे। उन्होंने मरने से पहले अपने मोबाइल का डेटा डिलीट कर दिया था।' गेस्ट हाउस मैनेजर नदीम के मुताबिक, 'कई बार आग्रह के बाद भी अनुराग एक वक्त ही खाना खा रहे थे और परेशान रहते थे।'

Next Story

विविध

Share it