राजनीति

पंजाब में दिल्ली का बिजली मॉडल: बैंस बंधु जोड़ रहे डिफॉल्टरों के कटे कनेक्शन

Janjwar Team
12 March 2020 8:43 AM GMT
पंजाब में दिल्ली का बिजली मॉडल: बैंस बंधु जोड़ रहे डिफॉल्टरों के कटे कनेक्शन
x

सिमरजीत बैंस पंजाब में लोक इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष है और लुधियाना से विधायक है, वह मुद्दों को लेकर खासे सक्रिय रहते हैं, इससे पहले उन्होंने पंजाब में नशे के खिलाफ जोरदार आंदोलन चलाया था, उन्होंने नशे के लिए कई बड़े नेताओं पर आरोप लगाया था...

जनज्वार ब्यूरो। सिमरजीत बैंस ने पंजाब में बिजली कनेक्शन जोड़ने की मुहिम शुरू कर दी है। जालंधर में उन्होंने डिफॉल्टर के कटे बिजली कनेक्शन जोड़कर सरकार के प्रति विरोध जताया है। सिमरजीत बैंस ने बताया कि वह न सिर्फ बिजली मीटर जोड़ रहे हैं बल्कि सरकार ने यदि डिफॉल्टर कनेक्शन धारकों के खिलाफ मामला दर्ज किया तो उनका केस लड़ने के लिए भी वकील से लेकर सारे खर्च उठाने का वायदा कर रहे हैं।

न्होंने बताया कि पहला चरण पूरा होने के बाद दूसरे चरण में पंजाब के फगवाड़ा को शामिल किया जाएगा। इसके लिए वह और उनके कार्यकर्ता लोगों से लगातार संपर्क साध रहे हैं। लोग उनकी इस मुहिम में जुड़ रहे हैं। यही वजह है कि उन्हें बहुत से लोगों का सक्रिय साथ मिल रहा है। उन्होंने बताया कि हम इस मुहिम को पंजाब में बड़ा आंदोलन बनाना चाह रहे हैं।

संबंधित खबर : पंजाब में हिंदू नेताओं पर 80 के दशक की तरह क्या फिर से बढ़ रहे सिख हमले?

दिल्ली में भी मुख्यमंत्री केजरीवाल ने विरोध स्वरूप बिजली कनेक्शन जोड़ने की मुहिम शुरू की थी। उन्होंने भी कई कनेक्शन स्वयं जोड़ दिए थे। इसका लोगों ने खासा स्वागत किया था। आप की कामयाबी के पीछे इस आंदोलन का खासा योगदान रहा है। अब इसी तर्ज पर बैंस भी पंजाब में सक्रिय हो रहे हैं।

बैंस पंजाब में लोक इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष है और लुधियाना से विधायक है। वह मुद्दों को लेकर खासे सक्रिय रहते हैं। इससे पहले उन्होंने पंजाब में नशे के खिलाफ जोरदार आंदोलन चलाया था। उन्होंने नशे के लिए कई बड़े नेताओं पर आरोप लगाया था।

सिमरजीत बैंस ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन किया था। लेकिन यह गठबंधन ज्यादा समय तक चला नहीं। अरविंद केजरीवाल ने नशा तस्करी के आरोपों पर पंजाब के अकाली लीडर विक्रम सिंह मजीठिया पर लगाए आरोपों पर माफी मांग ली,इस वजह से बैंस ने आम आदमी पार्टी से गठबंधन तोड़ दिया था।

हालांकि बैंस कई विवादों में भी रहे हैं। उन पर अक्सर अधिकारियों से खराब व्यवहार करने के आरोप भी लगते हैं। लेकिन बैंस दावा करते हैं कि वह हमेशा गलत करने वाों का विरोध करते हैं। वह चाहे नेता हो या अफसर। उनका यह तरीका समर्थकों को भी खासा पसंद आता है।

संबंधित खबर : सिख धर्म के संतों में ठनी, ढडरियांवाला ने अकाल तख्त के जत्थेदारों को दी बहस की चुनौती

पंजाब के वरिष्ठ पत्रकार सुखबीर बाजवा ने बताया कि बैंस का मतदाताओं पर अच्छा खासा होल्ड है। उनके साथ कायकर्ताओं की बड़ी टीम है। वह अक्सर इस तरह के मुद्दे उठाते हैं, जिन्हें आम तौर पर राजनेता बच कर निकलने की कोशिश करते हैं। वह चाहे माइनिंग का मामला हो या नशे का।

बैंस ने 'जनज्चार' से बातचीत में बताया कि पंजाब के लोगों की आर्थिक स्थिति तेजी से खराब हो रही है। सरकार का कोई ध्यान नहीं है कि कैसे लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार हो। उन्होंने बताया कि लोग जानबूझ कर बिजली के बिल नहीं रोक रहे हैं, उनके पास पैसा ही नहीं है, इसलिए वह बिल अदा नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे लोगों को क्यों तंग किया जा रहा है। उनका विरोध इसी बात पर है।

पंजाब में नलकूप के लिए बिजली मुफ्त में दी जाती है। इसका भार दूसरे बिजली उपभोक्तओं को उठाना पड़ रहा है। इस साल पावरकॉम ने 1424 करोड़ रुपए उपभोक्ताओं से वसूलने का लक्ष्य रहा है। पंजाब सरकार छह हजार करोड़ रुपए की पावरकॉम की डिफाल्टर है। पंजाब स्टेट इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन ने बिल वसूलने के लिए सरकार पर दबाव बनाना शु्रू कर दिया है। बकायदा से पंजाब सरकार के खिलाफ एक पटीशन भी दायर कर दी है। इस वजह से सरकार बिल वसूलने के लिए कनेक्शन काट रही है।

Next Story

विविध

Share it