Top
चुनावी पड़ताल 2019

चुनाव आयोग ने 24 घंटे बीत जाने के बाद भी क्यों जारी नहीं किए दिल्ली के मतदान के आंकड़े ?

Nirmal kant
9 Feb 2020 1:31 PM GMT
चुनाव आयोग ने 24 घंटे बीत जाने के बाद भी क्यों जारी नहीं किए दिल्ली के मतदान के आंकड़े ?

शनिवार 8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए हुआ मतदान, चौबीस घंटे बीतने के बाद मतदान प्रतिशत के आंकड़े नहीं बता रहा चुनाव आयोग, आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और सोशल मीडिया यूजर्स ने चुनाव आयोग पर उठाए सवाल....

जनज्वार। दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए शनिवार 8 फरवरी को मतदान हो चुका है। अब तक सामने आए लगभग सभी एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ दिल्ली में हैट्रिक लगाती दिख रही है। वही दूसरी ओर मतदान के एक दिन बाद चुनाव आयोग पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि चुनाव आयोग की ओर से अभी तक कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों नहीं की गई है। चुनाव आयोग की आधिकारिक वेबसाइट्स पर अभी तक मत प्रतिशत के आंकड़े और अन्य जानकारियों को अपडेट नहीं किया गया है।

सी को लेकर आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग पर सवाल उठाए हैं। आप सांसद संजय सिंह ने कहा कि क्या चुनाव आयोग प्रेस कान्फ्रेंस कर बताएगा कि दिल्ली में कितने प्रतिशत मतदान हुआ। संजय सिंह ने कहा कि मेरे खयाल से में हिंदुस्तान के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है जब चुनाव आयोग ने नहीं बताया कि दिल्ली में मतदान का प्रतिशत कितना रहा। लोकसभा के भी चुनाव हुए हैं। उस समय भी चुनाव आयोग ने उसी दिन मतदान का प्रतिशत बता दिया था।

संबंधित खबर : हिंदुस्तान के युवा नरेंद्र मोदी को ऐसा डंडा मारेंगे कि 6-7 महीने तक घर से बाहर नहीं निकल पाएंगे : राहुल गांधी

हीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह काफी चौंकाने वाली बात है। चुनाव आयोग क्या कर रहा है? मतदान के कई घंटे बाद भी उन्होंने मतदान के आंकड़े जारी क्यों नहीं किए हैं?' दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने तंज कसते हुए कहा कि क्या मतदान का अंतिम आंकड़ा चुनाव आयोग को भाजपा ऑफिस से मिलना है ?

संजय सिंह ने आगे कहा कि जब बैलट पेपर से वोटिंग होती थी तो अगले दिन सुबह में अखबारों में खबरें आ जाती थीं कि कितना प्रतिशत मतदान हुआ। इस बार कल से सारी मीडिया और दिल्ली इस बात का इंतजार कर रही है कि आखिर दिल्ली में कितना प्रतिशत मतदान हुआ है। उन्होंने कहा कि 70 साल के इतिहास में पहली बार हो रहा है कि चुनाव आयोग वोटिंग का प्रतिशत तक बताने को तैयार नहीं है। इसका मतलब कहीं कुछ पक रहा है, कहीं दाल में कुछ काला है। कोई खेल चल रहा है अंदर-अंदर क्योंकि मत का प्रतिशत बताना बेहद सामान्य बात है।'

रिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने भी इस मामले को लेकर प्रतिक्रिया दी। ओम थानवी ने अपने ट्वीटर हैंडल से लिखा कि मतदान के आंकड़े बताने में चुनाव आयोग की चुप्पी का सबब क्या है? कितने लोगों ने वोट किया, ईवीएम के ज़माने तो यह हिसाब चुटकियों में जुड़ जाता है!

स बीच भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बीएल संतोष ने एक ट्वीट में लिखा कि दिल्ली चुनाव 2020 में तीन फैक्टर नहीं जुड़ते हैं- पिछले दो घंटों में 17 प्रतिशत मतदान, ईवीएम गड़बड़ी के बारे में आम आदमी पार्टी का नैरेटिव और एग्जिट पोल के नतीजे। क्या हम यहाँ कुछ याद कर रहे हैं .? क्या कुछ ताकतें एग्जिट पोल के अलावा कुछ और होने का अनुमान लगा रही हैं ...?

संबंधित खबर : आप ने उतारे 36 दागी उम्मीदवार तो भाजपा—कांग्रेस ने दिए 160 करोड़पतियों को टिकट

हीं बीएल संतोष के इस ट्वीट पर पलटवार करते हुए आम आदमी पार्टी के सांसद संजय कुमार ने कहा कि जब चुनाव आयोग ने मतदान का प्रतिशत नहीं बताया तो भाजपा के महामन्त्री को मत का प्रतिशत कैसे पता चल गया? मनोज तिवारी को चुनाव की तारीख भी घोषणा से पहले पता चल गई थी।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता उदित राज ने भी ट्वीट कर कहा कि दिल्ली चुनाव के 24 घंटे बीत जाने के बाद भी 'चूना आयोग' वोट प्रतिश क्यों नहीं बता रही है? भाजपा और ईवीएम के रिश्ते से हम सब वाकिफ हैं। भाजपा से ईवीएम बचाओ।

Next Story

विविध

Share it