Top
पंजाब

मैं एक फैक्टरी दोबारा चला सकता हूं, लेकिन एक पंजाबी की जान वापस नहीं ला सकता: कैप्टन अमरिंदर सिंह

Janjwar Team
18 April 2020 3:30 AM GMT
मैं एक फैक्टरी दोबारा चला सकता हूं, लेकिन एक पंजाबी की जान वापस नहीं ला सकता: कैप्टन अमरिंदर सिंह
x

अधिकारियों को दिये निर्देश- हर एक पंजाबी की जान कीमती है, इसलिए हर कदम पर बरती जाये पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था। सीएम अमरेंदर सिंह ने पुलिस को आदेश दिया कि बिना कारण से यदि कोई घर से बाहर है तो उसका चालान किया जाये....

जनज्वार ब्यूरो, चंडीगढ़। लॉकडाउन के दूसरे चरण में पंजाब के सीएम अमरेंदर सिंह कोरोना को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने जा रहे हैं। शुक्रवार को अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में उन्होंने पुलिस को कहा कि घर से बाहर यदि कोई बिना कारण मिल जाये तो उसका चालान किया जाये। यदि कोई जरूरी काम से घर से बाहर आ रहा है तो यह सुनिश्चित होना चाहिए कि उसने मास्क पहन रखा हो। उन्होंने कहा कि हमारे लिये एक एक जान कीमती है। इसे हर हालत में बचाना है।

संबंधित खबर : लॉकडाउन के एग्जिट प्लान के लिए पंजाब सरकार ने शुरू किया काम

न्होंने भावुक होते हुए कहा कि उद्योग धंधे तो दोबारा भी शुरू हो सकते हैं, लेकिन एक पंजाबी की जान यदि चली जाती है तो वह वापस नहीं आयेगी। इसलिए हमें कोरोना वायरस को हर हालत में रोकना है। उन्होंने कहा कि पंजाब के हर नागरिक की जान की सुरक्षा उनकी पहली प्राथमिकता है। इसमें वह किसी भी तरह का समझौता नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी 24 कंटेंमेंट जोन में कोरोना टेस्ट में तेजी लायी जाये।

ओर पंजाब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव मरीज अपनी यात्रा की जानकारी छुपा रहे हैं। इस वजह से उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि यह पता ही नहीं चल पा रहा कि आखिर मरीज को संक्रमण हुआ कहां से? इस समस्या से निपटने के लिए पटियाला में अब पुलिस की मदद ली जा रही है। एक सोशल वर्कर्स जो कि कोरोना पॉजिटिव मिला, जब उसकी यात्रा के बारे में जानकारी ली तो उसने कुछ भी नहीं बताया। लेकिन जब पुलिस से वैरिफायी कराया गया तो पता चला कि वह कर्फ्यू के दौरान जीरकपुर में अपने दोस्त की मदद के लिए गया था।

संबंधित खबर : पंजाब के गांवों में सिखों के बीच जातिगत भेदभाव को खत्म कर रहा कोरोना वायरस

धर जिस दोस्त की मदद के लिए यह सामाजिक कार्यकर्ता गया था, वह दोस्त भी कोरोना पॉजिटिव मिला। इतना ही नहीं वह करीब 100 लोगों से मिला थी। वह किताबों की दुकान चलाता है। पटियाला के डीसी कुमार अमित ने लोगों से अपील की कि जो भी उससे मिला है, वह स्वयं टेस्ट के लिये आगे आये। क्योंकि सभी की जांच के बाद ही पता चल पायेगा कि कितने लोग संक्रमण की चपेट में आये हैं। उन्होंने कहा कि वायरस पर रोक लगाने का यहीं एक मात्र जरिया है। इसलिए लोग सहयोग करें।

विभाग के अधिकारियों ने बताया कि महामारी के दौरान यह पता लगना बेहद जरूरी हो जाता है कि आखिर मरीज को संक्रमण हुआ कहां से? इसलिए अब तय किया गया कि यदि मरीज अपनी यात्रा की जानकारी छुपा रहा है तो पुलिस की मदद ली जायेगी। सीएम ने कहा कि संक्रमण रोकने के लिए जो भी कदम उठाये जाने चाहिये, वह उठाये जाये। उन्होंने कहा कि हमें हर पंजाबी स्वस्थ चाहिये। इधर पंजाब में कोरोना पॉजिटिव केस का आंकड़ा 186 पर पहुंच गया है।

Next Story

विविध

Share it