Top
पंजाब

पंजाब: मिसेज नवजोत कौर सिद्धू फिर गुस्से में, शराब तस्करी के मुद्दे पर सीएम को घेरा

Raghib Asim
21 May 2020 9:16 AM GMT
पंजाब: मिसेज नवजोत कौर सिद्धू फिर गुस्से में, शराब तस्करी के मुद्दे पर सीएम को घेरा
x

पूर्व विधायक नवजाेत कौर सिद्धू पूर्व क्रिकेटर और नेता नवजोत कौर सिद्धू की पत्नी है। वह जब भी बोलती है, बेबाक बोलती है। पहले वह अकाली सरकार में थी। वहां रहते हुए भी उन्होंने सरकार को जम कर घेरा। अब नवजोत सिद्धू कांग्रेस में शामिल है, यहां वह विधायक है। कैप्टन सरकार में उन्हें मंत्री बनाया था। लेकिन कुछ समय बाद सीएम के साथ उनकी अनबन हो गयी, इस वजह से नवजोत सिद्धू ने मंत्री पद छोड़ दिया था...

जनज्वार ब्यूरो , चंडीगढ़। एक लंबी चुप्पी के बाद आखिरकार एक बार फिर से पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू मुखर तेवर में सामने आयी है। उन्होंने पंजाब के सीएम पर शराब तस्कर माफिया के खिलाफ उचित कार्रवाई न करने के आरोप लगाये हैं। वह बहुत ही बेबाक तरीके से अपनी बात उठाती है। इससे पूर्व भी जब वह अकाली दल के साथ थी, तब भी उन्होंने मंत्री पद पर रहते हुए अपनी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।

यह भी पढ़ें : 5 लाख लोगों को रोजगार देने वाला लकड़ी उद्योग लॉकडाउन से पहुंचा बंदी के कगार पर

पंजाब में अक्सर आरोप लगते रहे हैं कि यहां के नशा तस्करों को राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। इस वजह से उनके खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं हो रही है। पंजाब विधानसभा से पहले नवजोत कौर के पति नवजोत सिंह सिद्धू ने भी नशे का मामला जोर सोर से उठाया था। उन्होंने तब इसके लिए अकाली सरकार को जिम्मेदार ठहराया था। नवजोत सिंह सिद्धू तब भाजपा में थे, अकाली दल का विरोध करते हुए उन्होंने भाजपा को छोड़ कर कांग्रेस में आ गये थे। अब वह कांग्रेस से विधायक है। उन्हें कैप्टन सरकार में मंत्री बनाया गया था, ेलेकिन सीएम के साथ मतभेद के चलते उन्होंने मंत्री पद छोड़ दिया था। तब से वह चुप थे। लेकिन अब अचानक ही उनकी पत्नी नवजोत कौर ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल कर विपक्ष को बैठे बिठाये बड़ा मुद्दा दे दिया है।

यह भी पढ़ें : मजदूर पिता ने अपाहिज बेटे को घर ले जाने के लिए साइकिल चुराई, चिट्ठी में लिखा कसूरवार हूँ भाई माफ करना

स वक्त यह मामला इसलिए उठा है, क्योंकि पंजाब में रेवेन्यू का नुकसान हो रह है। सीएम अमरेंदर सिंह ने भी स्वीकार किया कि पंजाब में प्रदेश को हर माह 3,000 करोड़ रुपये का रेवेन्यू का नुकसान हो गया है। इसमें बड़ा हिस्सा आबकारी विभाग से आता है।

धर पंजाब के ही कांग्रेस से राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने भी मांग की कि अब वक्त आ गया कि नशा तस्करी के मुद्दे पर केंद्रीय जांच एजेंसी या फिर न्यायाधीश से मामले की जांच करायी जाये।

सिंह बाजवा ने एक ट्वीट सीएम अमरेंदर को करते हुए कहा कि राजपुरा से शराब की तस्करी करने वाले एक मुख्य सरगना को हरियाणा पुलिस ने पकड़ा है। इससे साबित हो रहा है कि पंजाब में अभी भी बड़ा नशा तस्कर नेटवर्क काम कर रहा है।

पनी ही पार्टी के नेताओं के बागी तेवरों से पंजाब की राजनीति में हलचल मची हुई है। इसी बीच डीजीपी दिनकर गुप्ता ने राज्य के सभी पुलिस आयुक्तों और जिला पुलिस प्रमुखों को 23 मई तक शराब तस्करों की पहचान करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जिस भी इलाके में नशे की तस्करी मिलेगी, वहां के डीएसपी और एसएचओ को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया जायेगा।

Next Story

विविध

Share it