Top
चुनावी पड़ताल 2019

भाजपा सांसद प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर का ऐलान : नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और हमेशा रहेंगे

Prema Negi
16 May 2019 10:18 AM GMT
भाजपा सांसद प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर का ऐलान : नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और हमेशा रहेंगे

भोपाल से भाजपा प्रत्याशी और 40 लोगों की हत्यारोपी प्रज्ञा ठाकुर बोली, गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को आतंकवादी कहने वाले लोग अपने गिरेबां में झांक कर देखें। ऐसे लोगों को इस चुनाव में जवाब दे दिया जाएगा। गोडसे देशभक्त थे, हैं और हमेशा रहेंगे...

जनज्वार। मालेगांव ब्लास्ट की मुख्य आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर चर्चा में हैं। पिछली बार ATS चीफ हेमंत करकरे की शहादत पर सवाल उठाने वाले प्रज्ञा ने अब बयान दिया है कि गांधी का हत्यारा नाथूराम गोडसे देशभक्त है। साध्‍वी प्रज्ञा ने कहा, 'नाथूराम गोडसे देशभक्‍त थे, देशभक्‍त हैं और देशभक्‍त रहेंगे।'



साध्वी इतना ही बोलकर नहीं थमीं। आगे बोलीं, 'नाथूराम गोडसे को आतंकवादी कहने वाले लोग अपने गिरेबां में झांक कर देखें। ऐसे लोगों को इस चुनाव में जवाब दे दिया जाएगा।' उग्र हिंदुत्व का चेहरा साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की इस बयानबाजी से साफ है कि सत्ता में आने के बाद वह किस तरह की राजनीति करेंगी।

गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को प्रज्ञा ठाकुर ने देशभक्त का सर्टिफिकेट उस समय दिया, जबकि मीडिया ने उनसे कमल हासन द्वारा गोडसे को पहला हिंदू आतंकवादी कहे जाने पर प्रतिक्रिया मांगी थी।

भोपाल से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ भाजपा की टिकट पर सांसद का चुनाव लड़ रही प्रज्ञा ठाकुर इससे पहले सरेआम एटीएस चीफ हेमंत करकरे पर आग उगल चुकी हैं। एक सभा के दौरान साध्वी प्रज्ञा ने एटीएस के पूर्व चीफ रहे स्वर्गीय हेमंत करकरे पर कड़वे बोल बोले।

संबंधित खबर : जिस साध्वी पर 40 लोगों की हत्या का आरोप, वह लड़ेंगी भाजपा टिकट पर भोपाल से चुनाव

मालेगांव सीरियल ब्लास्ट की जांच हेमंत करकरे के पास थी, इसलिए उनकी मौत को एकदम जायज ठहराते हुए प्रज्ञा ने कहा कि ‘पूर्व एटीएस चीफ हेमंत करकरे को संन्यासियों का श्राप लगा था। जिस दिन मैं जेल गई थी, उसके 45 दिन के अंदर ही आतंकियों ने उन्हें मौत के घाट उतार दिया। हेमंत करकरे ने मुझे गलत तरीके से फंसाया था, इसलिए मैंने उनसे कहा था कि तुम्हारा पूरा खानदान खत्म हो जाएगा। कहा था तेरा सर्वनाश होगा, तो उसने मुझे गालियां दी थीं। जिस दिन मैं गई उसके घर पर सूतक लगा था और जब उसे आतंकियों ने मारा तो सूतक खत्म हो गया।'

संबंधित खबर : ATS चीफ हेमंत करकरे की शहादत को साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने ठहराया जायज, कहा उन्हें लगा था मेरा श्राप

यह बयानबाजी प्रज्ञा ने शहीद करकरे पर तब की, जबकि अब तक मालेगांव ब्लास्ट केस में वह निर्दोष साबित नहीं हो पायी हैं, बल्कि उसकी मुख्य आरोपी हैं। मालेगांव ब्लास्ट में 40 मासूमों की जान चली गई थी। मालेगांव धमाके में इस्तेमाल मोटरसाइकिल साध्वी के नाम से रजिस्टर्ड थी। उसके बाद स्वामी दयानंद पांडे, मेजर रमेश उपाध्याय और कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित समेत कुल 11 की इस मामले में गिरफ्तारी की गई थी और सबूतों के आधार पर ही प्रज्ञा ठाकुर को इसका मुख्य आरोपी ठहराया गया था। अभी भी वह जमानत पर बाहर हैं।

Next Story

विविध

Share it