Top
अंधविश्वास

अंधविश्वास : परम्परा के नाम पर जहां दलित महिलाओं को पोल पर बांधकर बैलगाड़ियों से खींचा, उसका उद्घाटन किया भाजपाई सीएम के सचिव ने

Nirmal kant
30 Jan 2020 4:14 AM GMT
अंधविश्वास : परम्परा के नाम पर जहां दलित महिलाओं को पोल पर बांधकर बैलगाड़ियों से खींचा, उसका उद्घाटन किया भाजपाई सीएम के सचिव ने
x

सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार द्वारा कर्नाटक निवारण और अमानवीय बुराई प्रथाओं और काला जादू अधिनियम के तहत इस पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, लेकिन रेणुकाचार्य और शांतनगैड़ा जैसे लोगों ने इस त्यौहार का उद्घाटन कर अंधविश्वास की इस परंपरा को बढ़ावा दिया है..

जनज्वार। देश में अंधविश्वास का प्रभाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में मंगलवार 28 जनवरी को कर्नाटक के दावणगेरे जिले के केंचिकोप्पा गांव में अंधविश्वास से संबंधित मामला सामने आया है। दो दलित महिलाओं रेखा और मरियम्मा को गांव में गुलम्मा औप मायामा देवी यात्रा महोत्सव के लिए आयोजित सिद्धि महोत्सव के तहत पोल से बांध दिया गया।

यह भी पढ़ें : ओडिशा में डायन के शक में बुजुर्ग महिला को कुल्हाड़ी से उतार दिया मौत के घाट

मायाम्मा और गुल्लम्मा देवी यात्रा महोत्सव का आयोजन हर 10 वर्षां के अंतराल में किया जाता है, जिसमें बैलगाड़ी से खींची गई दो गाड़ियों और दो सजाए गए डंडों के साथ दलित महिलाओं को बांधा जाता है।

यह भी पढ़ें – अंधविश्वास की हाईट : सूर्यग्रहण पर परिजनों ने जिंदा बच्चों को ही दफना दिया जमीन में

बाद महिलाओं को जमीन से लगभग 20 से 25 फीट की ऊंचाई तक उठाया जाता है। इस दौरान यात्रा में शामिल भीड़ सिंदूर, हल्दी और अक्षत ( सिंदूर और हल्दी से बना हुआ चावल) का छिड़काव महिलाओं के ऊपर करती हैं। स्थानीय लोग इस त्यौहार को शुभ मानते हैं।

संबंधित खबर : झारखंड में पंचायत ने चार महिलाओं को डायन बताकर खौलते पानी से सिक्का निकालने की दी सजा

स यात्रा का उद्घाटन मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के राजनीतिक सचिव, भाजपा के एमएलए रेणुकाचार्य और पूर्व विधायक डीजी शांतनगौड़ा ने किया था। भले ही सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार द्वारा कर्नाटक निवारण और अमानवीय बुराई प्रथाओं और काला जादू अधिनियम के तहत इस पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, लेकिन रेणुकाचार्य और शांतनगैड़ा जैसे लोगों ने इस त्यौहार का उद्घाटन कर अंधविश्वास को बढ़ावा दिया है। इसके बाद भी प्रत्येक 10 साल के अंतराल में इस यात्रा का आयोजन किया जा रहा है।

पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर देवराद और तहसीलदार ने अपनी टीम के साथ गांव का जब दौरा किया तो इस दौरान ग्रामीणों का इंस्पेक्टर से कहना था कि इस यात्रा को महिलाओं की सहमति लेने के बाद ही निकाला जाता है। इस यात्रा को निकालने में सभी लोगों का सहयोग रहता है।

संबंधित खबर : अंधविश्वास के खिलाफ रामनगर के स्कूल में आयोजित कार्यशाला में 500 लोगों ने की भागीदारी

स मामले पर होन्नली से भाजपा के विधायक एमपी रेणुकाचार्य कहते हैं, 'महोत्सव के दौरान करीब 2:30 बजे से 4:30 बजे तक मैं वहां श्रद्धालु के रूप में मौजूद था, इसमें गलत क्या है? उनका कहना था कि गांव वाले मुझे इस यात्रा के लिए हमेशा निमंत्रण देते हैं और मैने भी गांववालों के निमंत्रण को कभी भी नकारा नहीं। इन लोगों ने जब भी मुझे बुलाया तो मैं विधायक की हैसियत से नहीं, बल्कि एक आम नागरिक के रूप में यहां आया।'

Next Story

विविध

Share it