Top
मध्य प्रदेश

उज्जैन में फुटपाथ पर सो रहे 12 मजदूरों को ट्रक ने रौंदा 3 की मौत, दिग्विजय सिंह ने शिवराज को ठहराया जिम्मेदार

Nirmal kant
30 April 2020 1:30 AM GMT
उज्जैन में फुटपाथ पर सो रहे 12 मजदूरों को ट्रक ने रौंदा 3 की मौत, दिग्विजय सिंह ने शिवराज को ठहराया जिम्मेदार
x

मंगलवार 28 अप्रैल की शाम राजस्थान के जैसलमेर से मजदूरों को बस से उज्जैन लाया गया था। 12 मजदूर मोहनपुरा के थे....

जनज्वार ब्यूरो, भोपाल। मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों को एक ट्रक ने रौंद दिया, जिससे तीन मजूदरों की मौत हो गई। ये मजदूर कोरोनावायरस की जांच के इंतजार में फुटपाथ पर सो गए थे। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस हादसे को दुखद बताते हुए मृतकों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने की मांग की है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार 28 अप्रैल की शाम राजस्थान के जैसलमेर से मजदूरों को बस से उज्जैन लाया गया था। 12 मजदूर मोहनपुरा के थे। वे गांव पहुंचे तो गांव वालों ने पहले जांच कराने को कहा। ये मजदूर पैदल ही जिला अस्पताल के लिए चल दिए। रात होने के कारण ये मजदूर भैरवगढ़ स्थित माता मंदिर के पास सड़क किनारे सो गए। इन मजदूरों को देर रात किसी ट्रक ने रौंद दिया। इस हादसे में तीन मजदूरों की मौत हो गई।

संबंधित खबर: दूसरे राज्यों से अब तक मध्य प्रदेश के 14,000 प्रवासी मजदूर लौटकर आए वापस

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने उज्जैन में सड़क किनारे फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों पर ट्रक चढ़ने से 3 की मौत के लिए शिवराज सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उनका आरोप है कि सरकार द्वारा इन मजदूरों को रात गुजारने के लिए कोई इंतजाम नहीं किया गया, इसलिए 12 मजदूर सड़क किनारे फुटपाथ पर सोने को विवश हुए।

कहा कि यदि सरकार इन मजदूरों को जैसलमेर से मंगवाई थी तो क्या इनके घर पंहुचने तक इनकी जांच, भोजन और ठहरने की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी सरकार की नहीं थी?

दिग्विजय ने कहा कि इन मजदूरों को इस तरह मरने के लिए नहीं छोड़ना चाहिए था। उन्होंने इस दुर्घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसे सरकार की लापरवाही और मजदूरों के प्रति उपेक्षा का परिणाम बताया है।

संबंधित खबर: मध्यप्रदेश में 7 साल की मासूम के साथ दरिंदगी, रेप के बाद फोड़ दीं दोनों आंखें

दिग्विजय सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार उज्जैन के इस हादसे में प्राण गंवाने वाले तीनों मजदूरों के परिवार को 25-25 लाख रुपये की सहायता राशि देने का तत्काल निर्णय ले।

Next Story

विविध

Share it