Top
राजनीति

CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने पर गुजरात के 2 गांवों ने मुसलमानों का देशद्रोही कहकर किया बहिष्कार, गांव में प्रवेश न करने की धमकी

Nirmal kant
2 Feb 2020 4:44 AM GMT
CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने पर गुजरात के 2 गांवों ने मुसलमानों का देशद्रोही कहकर किया बहिष्कार, गांव में प्रवेश न करने की धमकी
x

विभिन्न संगठनों द्वारा CAA के खिलाफ 29 जनवरी को भारत बंद के बाद से कच्छ में मुसलमानों को कम से कम 4 बार बनाया गया है निशाना, CAA के समर्थन में निकली रैली में भी भाजपा नेताओं ने लगाये थे 'देश के गद्दारों को, गोली मारो....को' नारे....

गुजरात के कैबिनेट मंत्री वसनभाई का गांव है रत्नाल, जहां मुस्लिमों को देशद्रोही कहकर नहीं करने दिया जा रहा है प्रवेश

जनज्वार। नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ 29 जनवरी को बुलाए गये भारत बंद के बाद गुजरात के कच्छ नवानगर और रत्नाल गांव मुस्लिम विरोधी भावनाओं की चपेट में हैं। कच्छ में एक भाजपा ने व्हट्सएप्प पर मैसेज को आगे फॉरवर्ड किया और लोगों से कहा कि वे उन होटलों में खाना ना खाएं जो बंद में हिस्सा ले रहे थे। एक मुस्लिम ठेली वाले को नवानगर में सब्जियां बेचने से रोका गया।

यह भी पढ़ें : अब गुजरात में CAA के समर्थन में निकली रैली में भाजपा नेताओं ने लगाये ‘देश के गद्दारों को गोली मारो… को’ नारे

पातकाल के बाद यह पहली बार है जब भारत में इतने बड़े पैमाने पर सरकार विरोधी नाराजगी देख रहा है। नेताविहीन प्रदर्शनकारी विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) अधिनियम CAA के खिलाफ सड़कों पर उतर रहे हैं। मंत्रियों की ओर से भड़काऊ बयान और भाषण लगातार सामने आ रहे हैं, जबकि इन विरोध प्रदर्शनों में जो मुसलमान सबसे आगे हैं, उन पर जानलेवा हमले हो रहे हैं। इस अस्थिरता के बाद उनके लिए धार्मिक पहचान एक जोखिम बन गई है।

हमदाबाद मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक विभिन्न संगठनों द्वारा CAA के खिलाफ 29 जनवरी को भारत बंद के बाद से कच्छ में मुसलमानों को कम से कम 4 बार निशाना बनाया गया।

संबंधित खबर : दिल्ली के शाहीन बाग में जामिया जैसा गोलीकांड, हमलावर बोला हमारे देश में सिर्फ हिंदुओं की चलेगी

च्छ के रत्नाल और नवानगर गाँवों में मुसलमानों का बहिष्कार करने का आह्वान किया जा रहा है। इन गांवों में कोई मुस्लिम घर नहीं हैं। यहां मुसलमानों को प्रवेश से मना किया जा रहा है और उन पर राष्ट्र विरोधी लेबल लगाया जा रहा है।

त्नाल सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों के कल्याण राज्य मंत्री वसनभाई अहीर का गृहनगर है। लगभग 6,000 की आबादी वाला इस गांव में अहीरों का बहुमत है। दलित और रैबारियां दूसरे समुदाय जो यहाँ रहते हैं।

कुछ दिनों में यहां भगवा रंग के पोस्टर और बैनर उग आए हैं। अखिल भारतीय देश रक्षक संघ की ओर लगाए गए इन बैनरों पर लिखा गया है - जय श्री राम, जिन लोगों को देश का समर्थन नहीं करना है वह यहां पर वाहनों को पार्क न करें।

जिन दो गांवों में CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने पर मुस्लिमों को प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा और देशद्रोही कहा जा रहा है उनमें से एक गांव रत्नाल गुजरात सरकार के कैबिनेट मंत्री वसनभाई का है, जो पिछले लंबे समय से यहां के विधायक हैं और क्षेत्र में उनका दबदबा है। मुस्लिम दबी जुबान में कह रहे हैं कि वसनभाई अहीर की शह पर ही हमारे साथ यह अत्याचार किया जा रहा है।

सोशल मीडिया पर एक मुस्लिम ठेले वाले हसन मेमन का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दो युवक गांव में प्रवेश ना करने की धमकी दे रहे हैं। हसन मेमन कहते हैं कि यह गांव हिंदुओं का है। उन्होंने मुझे गांव में ना घूमने और फोन से हमारी बातचीत को रिकॉर्ड न करने की धमकी दी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर इसलिए वीडियो वायरल किया है, ताकि और लोग भी इस बात को फॉलो करें।

पननधरो पंचायत से नवांनगर तक अपनी सब्जियों को बेचते हैं और करीब 1000-1500 रुपये प्रतिदिन कमाते हैं। गुरुवार को वह रोज की तरह अपने काम पर जा रहे थे, तभी उन्हें रोक दिया गया और चेतावनी दी गई कि अगर फिर दिख गया तो बुरा अंजाम होगा।

नवानगर में पाकिस्तान के हिंदू परिवार रहते हैं, जो 1971 के युद्ध के बाद यहां बस गए थे। इसकी आबादी लगभग 1,500 से 2,000 है और अधिकांश निवासी बावजी और गढ़वी समुदाय के हैं।

29 जनवरी को भारत बंद के बाद एक स्थानीय भाजपा नेता भारत सांघवी ने दुकानों और होटलों की फोटो को फॉरवर्ड किया और लिखा कि होटल भारत बंद के समर्थन में बंद हैं। CAA को समर्थन दिखाने के लिए हम वहां खाना बंद कर देते हैं।

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान से मिलती हैं इस जिले की सीमाएं, CAA और NRC के विरोध में हुए प्रदर्शनों में कायम की शांति की मिसाल

ब उनसे इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, मुझे कई ग्रुपों से संदेश मिलते हैं और मैंने उन्हें बिना चेक किए आगे फॉरवर्ड कर दिया था। मैने बाद में संदेश को देखा और उन्हें हटा दिया था। मैं मुसलमानों के बहिष्कार पर विश्वास नहीं करता हूं। मैने डाकघरों में कम से कम 800 मुस्लिम मजदूरों के खाते खोले हैं।

स मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए वडगाम के विधायक जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि यह RSS और भाजपा का डिजाइन है कि देश को सांप्रदायिकता के आधार पर विभाजित किया जाए। भाजपा नेता द्वारा की गई टिप्पणी आईपीसी की धारा 153 (ए) के तहत आपराधिक है। चूंकि हम एक धर्मनिरपेक्ष देश हैं, ऐसे बयान और कृत्य आईपीसी समेत विभिन्न कानूनों के तहत निषिद्ध हैं। ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। एक पार्टी के रूप में भाजपा को ऐसे लोगों बाहर करना चाहिए, अगर वे भारत के विचार में विश्वास करते हैं।

अन्य मामले में क्लिनिक में कार्यरत एक मुस्लिम युवक को शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों को समर्थन देने के लिए गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी गई थी। कामरान (बदला हुआ नाम) ने बताया कि विरोध प्रदर्शनों में भाग लेने के लिए राष्ट्र-विरोधी करार दिया गया था। उन्होंने कहा कि वह इतना टूट चुका है कि वह इसके बारे में बोलना नहीं चाहता है।

खिल कच्छ सुन्नी मुस्लिम हितग्राही समिति के अध्यक्ष इब्राहिम हालेपोत्रा ​​ने कहा कि हम जानते हैं कि क्या हो रहा है। हम नहीं चाहते हैं कि चीजें खराब हों। इसलिए हमने घटनाओं की जानकारी रेंज आईजी सुभाष त्रिवेदी को दी है।

स बीच हालेपोटरा ने अपने समुदाय के सदस्यों से अपील की है कि वे किसी भी अप्रिय घटना के मामले में सोशल मीडिया से नफरत करने वाले पोस्ट का जवाब न दें और पुलिस को सतर्क करें। हेलीपोर्ट ने कहा, "हमने पानधारो में गांव के बुजुर्गों के साथ बातचीत शुरू की है और इस मुद्दे को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।" रेंज के आईजी सुभाष त्रिवेदी ने कहा, हमने मामले की जांच शुरू कर दी है।

संबंधित खबर : केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के बोल, शाहीन बाग वाले भेजें बातचीत का निवेदन फिर सरकार करेगी विचार

टनाओं की निंदा करते हुए वकील और कार्यकर्ता आनंद याग्निक ने कहा, ये संविधान के अनुच्छेद 17 का उल्लंघन है। जाति, धर्म, जाति और लिंग के आधार पर किसी भी व्यक्ति के साथ भेदभाव नहीं किया जा सकता है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। सत्ता में रहने वाली पार्टी को अपने कैडरों के साथ संविधान के अनुसार अपना व्यवहार करना चाहिए।

गुजरात भाजपा के प्रवक्ता भरत पंड्या ने कहा कि पार्टी देश की एकता और संप्रभुता को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है। मुस्लिम विरोधी भावना को बढ़ावा देने वाली घटनाओं पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा भाजपा धार्मिक समानता में विश्वास करती है। ऐसी भाषा अनुचित है। किसी को भी इस तरह की चर्चा को आगे नहीं फैलाना चाहिए। किसी को भी सीएए के बारे में कोई गलतफहमी नहीं फैलानी चाहिए। यह स्पष्ट रूप से राष्ट्रीयता देने के बारे में है।

Next Story

विविध

Share it