समाज

'RRR' Film Review : तीन युगों को सैंडविच की तरह मिलाकर ट्रिपल आर परोस गए राजामौली

Janjwar Desk
4 April 2022 6:50 AM GMT
RRR Film Review : तीन युगों को सैंडविच की तरह मिला कर ट्रिपल आर परोस गए राजामौली
x

('RRR' Film Review : तीन युगों को सैंडविच की तरह मिला कर ट्रिपल आर परोस गए राजामौली)

'RRR' Film Review : राजामौली की ब्लॉकबस्टर फिल्म 'बाहुबली' की सफलता के पीछे उसके अभिनेता प्रभास और सेट की भव्यता महत्वपूर्ण कारण थे, इस फिल्म में भी दिल्ली का आलीशान सेट बनाया गया है, पुरानी कारें और भाप इंजन से चलने वाली ट्रेन बड़े पर्दे पर देखते ही बनती हैं.....

'RRR' Film Review : फिल्म के अंत मे 'द सन नेवर सेट्स ऑन द ब्रिटिश अम्पायर' पर खून के छींटे वाला दृश्य इसका गवाह है। इसके साथ ही फिल्म खत्म होते-होते भी वह जल-जंगल-जमीन का संदेश दे जाते हैं पर शायद इस पर ज्यादा बात हो क्योंकि मौजूदा समय में जनता की नीरसता की वजह से जल-जंगल-जमीन तीनों ही खतरे में दिखाई पड़ रहे हैं।

ट्रिपल आर (RRR) पूरी तरह से निर्देशक की फिल्म है, अंग्रेज शासन के अत्याचारों से मुक्ति पाने वाली पुरानी कहानी पर राजामौली (S.S.Rajamouli) ने दांव चला है। अधर्म पर धर्म की जीत के बीच राजामौली का प्रस्तुतिकरण फिल्म को शानदार बना देता है।

राजामौली की ब्लॉकबस्टर फिल्म 'बाहुबली' (Bahubali) की सफलता के पीछे उसके अभिनेता प्रभास और सेट की भव्यता महत्वपूर्ण कारण थे। इस फिल्म में भी दिल्ली का आलीशान सेट बनाया गया है, पुरानी कारें और भाप इंजन से चलने वाली ट्रेन बड़े पर्दे पर देखते ही बनती हैं।

फिल्म में राम और भीम की दोस्ती देख कभी आपको फिल्म 'शोले' के जय-वीरू याद आएंगे तो राम बने रामचरण का लुक देख 'पुष्पा' भी आपकी यादों में आ जाएगा। किरदारों को राम, भीम और सीता नाम देकर राजामौली तीन युगों को साथ ले आए हैं। उन्होंने फिल्म में भारतीयों की देशभक्ति और आस्था को जमकर भुनाया है।

फिल्म 'मगाधीरा' से चर्चा में आए रामचरण ट्रिपल आर की जान हैं और वह अभिनय के मामले में जूनियर एनटीआर पर भी भारी पड़ते दिखते हैं।

जूनियर एनटीआर को हमने 'टेम्पर' में जिस रूप में देखा था ,यहां वह उससे बिल्कुल अलग हैं और राजामौली के निर्देशन में उन्होंने अपना आज तक का सबसे बेहतरीन अभिनय दिखाया है। अजय देवगन और आलिया भट्ट सहायक कलाकारों के रूप में हैं और अपने किरदारों को सही तरीके से निभाते हैं।

फिल्म की स्क्रिप्ट कसी हुई है और स्क्रिप्ट से जुड़ा सब कुछ बेहतरी से अंजाम दिया गया है। फिल्म में कोई भी संवाद ऐसा नही है जो याद रखा जाएगा।

फिल्म में नाचो नाचो गाने की कोरियोग्राफी जबरदस्त है और यह गाना लंबे समय तक पार्टियों में बजता नजर आ सकता है। बैकग्राउंड स्कोर इस फिल्म की जान है, बेहतरीन बैकग्राउंड स्कोर के ज़रिए फिल्म के हर दृश्य में मानो जान फूंक दी गई है।

फिल्म की शुरुआत में रामचरण का भीड़ के बीच से एक व्यक्ति को पुलिस थाने के अंदर खींच लाने वाला दृश्य सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। इसके बाद महल में ट्रक से जंगली जानवरों को छोड़ने वाला दृश्य भी दर्शकों पर प्रभाव डालता है।

फिल्म का छायांकन दिखने में अच्छा है, जंगल की हरियाली आंखों को प्रभावित करती है। फिल्म में कॉस्ट्यूम डिज़ाइनिंग पर भी अच्छा काम किया गया है। रामचरण, अंग्रेज सैनिकों और ओलिविया की ड्रेसों को अंग्रेज शासन के समय की तरह ही दिखाया गया है।

शुद्ध मनोरंजन के लिए थियेटर में जाकर एक बार तो इस फिल्म का आनंद लिया ही जा सकता है।

कलाकार- जूनियर एनटीआर, रामचरण, आलिया भट्ट, अजय देवगन

निर्देशक- एस एस राजामौली

छायांकन- सेंथिल कुमार

समीक्षक- हिमांशु जोशी

Next Story

विविध