Top stories

Bihar News: चुनाव ड्यूटी के दौरान शिक्षक की मौत, खराब तबियत के बावजूद नहीं मिली छुट्टी

Janjwar Desk
21 Oct 2021 9:27 AM GMT
Bihar News: चुनाव ड्यूटी के दौरान शिक्षक की मौत, खराब तबियत के बावजूद नहीं मिली छुट्टी
x

मृत शिक्षक के शव के पास विलाप करते परिजन (फोटो साभार: प्रभात खबर)

Bihar News: परिजनों का आरोप है कि शिक्षक की तबियत देर रात ही खराब होने लगी थी। अधिकारियों को जानकारी दी थी पर छुट्टी नही दिया गया। सुबह काम पर चले गए। काम पूरा होने के बाद ही चुनाव कर्मी को छुट्टी मिली...

Bihar News: बिहार में पंचायत चुनाव (Panchayat Election) के दौरान ड्यूटी पर तैनात एक चुनाव कर्मी सह शिक्षक की मौत गई। मामला पटना जिला के बिहटा शहर का है जहां बुधवार, 20 अक्टूबर को 22 पंचायतों के अंदर चौथे चरण में मतदान संपन्न हुआ। यहां चुनावी ड्यूटी पर तैनात एक शिक्षक की हर्ट अटैक के कारण मौत हो गई। बताया जा रहा है कि शिक्षक की तबियत पहले से खराब थी। लेकिन अधिकारियों को बताने के बावजूद उसको छुट्टी नहीं मिली। खराब हाताल में ही वे चुनाव की ड्यूटी पर चले गए और हर्ट अटैक से मौत हो गई। घटना के बाद परिजनों और साथी शिक्षकों ने सड़क पर शव रखकर बवाल किया।

जानकारी के मुताबिक, बिहार के पटना जिला (Patna District)अंतर्गत बिहटा प्रखण्ड के 22 पंचायतों में बुधवार, 20 अक्टूबर को पंचायत चुनाव की वोटिंग हुई। बिहटा के राघोपुर स्थित बाजार समिति के बने मतगणना केंद्र पर जमुनापुर पंचायत के 14 नंबर टेबल पर ईवीएम लेने के लिए शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई थी। इस दौरान एक चुनाव कर्मी सह शिक्षक की हार्ट अटैक से मौत हो गयी जिसके बाद शिक्षकों समेत परिजनों में हड़कंप मच गया। मृतक शिक्षक की पहचान थाना क्षेत्र के दोघड़ा छिलका निवास मुंद्रिका प्रसाद के 40 वर्षिय पुत्र सुदर्शन प्रसाद के रूप में हुई है।

परिजनों का आरोप है कि शिक्षक की तबियत देर रात ही खराब होने लगी थी। अधिकारियों को जानकारी दी थी पर छुट्टी नही दिया गया। सुबह काम पर चले गए। काम पूरा होने के बाद ही चुनाव कर्मी को छुट्टी मिली। इसी दौरान घर जाने के क्रम में रास्ते में तबियत बिगड़ गई और दिल का दौरा पड़ने से शिक्षक की मौत हो गई।

मौत से आक्रोशित शिक्षक के साथियों और परिजनों ने प्रखंड चुनाव अधिकारी पर छुट्टी नही देने का आरोप लगाया है और मुआवजे की मांग को लेकर बिहटा-औरंगाबाद मुख्य सड़क पर शव को रखकर जाम कर दिया।

मृतक शिक्षक सुदर्शन प्रसाद पाली के मध्य विधालय में 2003 से शिक्षक के रूप में पदस्थापित थे। चौथे चरण के पंचायत चुनाव के मतदान के बाद मतगणना केंद्र पर मत पेटियां और ईवीएम ले जाने के लिए शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई थी। शिक्षक सुदर्शन प्रसाद की हालत ईवीएम ले जाने के दौरान खराब होने लगी और घर लौटने के समय उनकी मौत हो गयी। शिक्षक की मौत के बाद पत्नी उर्मिला देवी और बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है

Next Story

विविध