Top
राजनीति

राजधानी दिल्ली में CAA-NRC का विरोध करने वाले निशाने पर, 4 दिन में तीसरी बार दागी गोली

Prema Negi
3 Feb 2020 3:39 AM GMT
राजधानी दिल्ली में CAA-NRC का विरोध करने वाले निशाने पर, 4 दिन में तीसरी बार दागी गोली
x

पिछले चार में दिनों में फायरिंग की यह तीसरी घटना है, जब जामिया और शाहीन बाग में हो रहे CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान फायरिंग हुई...

जनज्वार। राजधानी दिल्ली समेत पूरे देशभर में CAA-NRC के खिलाफ व्यापक पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हो रहा है। राजधानी दिल्ली स्थित शाहीनबाग का प्रदर्शन विश्व मीडिया में छाया हुआ है, उसके अलावा देशभर में तमाम जगहों पर व्यापक पैमाने पर आंदोलन हो रहे हैं। यूपी में CAA-NRC का विरोध कर रहे तकरीबन 2 दर्जन लोग उसके बाद हुई हिंसा में अपनी जान भी गंवा बैठे हैं।

असल सवाल है राजधानी दिल्ली के शाहीनबाग में चल रहा प्रदर्शन, जिसके लिए कहा जा रहा था कि आखिर यह आंदोलन जिसमें लाखों लोग इकट्ठा हैं, इतने शांतिपूर्ण तरीके से कैसे चल रहा है। मगर पिछले 4 दिनों के अंदर यहां 3 बार गोलीबारी हो चुकी है।

संबंधित खबर : BREAKING : जामिया के छात्र पर गोली चलाने से पहले गोपाल ने FB पर लिखा ‘शाहीनबाग का खेल खत्म’

जामिया जोकि CAA-NRC के खिलाफ हुए आंदोलनों के प्रमुख केंद्रों में से एक है, फायरिंग करने वालों ने उसे अपना निशाना बनाया है। पहले जेवर के गोपाल शर्मा ने सोशल मीडिया पर लाइव और तमाम स्टेटस के बाद जामिया के छात्र पर गोली चलायी। उसके बाद उसी तर्ज पर शाहीन बाग में जामिया जैसा गोलीकांड हुआ। हमलावर ने यह कहते हुए गोली दागी कि हमारे देश में सिर्फ हिंदुओं की चलेगी और अब कल 2 फरवरी की देर रात जामिया जामिया यूनिवर्सिटी के गेट नंबर 5 के पास फिर से फायरिंग की गयी।

संबंधित खबर : क्या अनुराग ठाकुर के गोली मारने के बयान से उत्साहित था यह दंगाई युवक ?

स मामले में अभी तक गोलीकांड को अंजाम देने वाले आरोपियों का पता नहीं चल पाया है, मगर सोशल मीडिया पर तमाम तरह की अफवाहें फैलायी जा रही हैं। जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने भी फायरिंग होने की तस्दीक की है। कमेटी के सदस्यों ने बताया कि गेट नंबर 5 के पास दो अज्ञात लोगों ने गोली चलाई, हालांकि गोलीबारी में कोई अप्रिय घटना नहीं घटी।

संबंधित खबर : जामिया मिल्लिया के छात्र को हिंदूवादी युवक ने मारी गोली, पुलिस ने किया गिरफ्तार

मामले में जामिया नगर पुलिस स्टेशन के SHO मौके पर पहुंचे और घटना की जांच की जारी है। यह पिछले चार में दिनों में फायरिंग की तीसरी घटना है, जब जामिया और शाहीन बाग में हो रहे CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान फायरिंग हुई है। हालांकि जांच कर रही पुलिस का कहना है कि उसे मौके पर से कोई गोली बरामद नहीं हुई है, जांच जारी है। पुलिस ने 2 अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

गौरतलब है कि गांधी जी पुण्यतिथि के दिन 30 जनवरी को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के नजदीक 17 वर्षीय ने संशोधित नगारिकता कानून (CAA) का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों के धरनास्थल के पास फिल्मी अंदाज में गोली चलायी थी। हालांकि जब उसने गोली चलायी तब वहां भारी संख्या में पुलिसबल तैनात था। गोली लगने से एक छात्र घायल हो गया। पुलिस ने हमलावर को बाद में पकड़ा।

संबंधित खबर —BIG BREAKING : दिल्ली के शाहीन बाग में जामिया जैसा गोलीकांड, हमलावर बोला हमारे देश में सिर्फ हिंदुओं की चलेगी

इसके ठीक दो दिन बाद यानी 1 फरवरी को शाहीन बाग में कपिल गुर्जर नाम के युवक ने हवाई फायरिंग की थी। मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। अपने किये पर कोई पछतावा करने के बजाय आरोपी गोपाल ने पुलिस को दिये बयान में कहा 'मुट्ठी भर लोगों ने शाहीन बाग की सड़क पर कब्जा किया हुआ है। इस देश में सिर्फ हिंदुओं की चलेगी।' गोलीबारी की इन दो घटनाओं के बाद रविवार को चुनाव आयोग ने DCP साउथ-ईस्ट चिन्मय बिस्वाल को हटा दिया और कुमार ज्ञानेश को तुरंत चार्ज संभालने का आदेश दिया था, मगर अभी भी अपराधियों के हौसले बुलंद हैं।

सोशल मीडिया पर लोग टिप्पणी कर रहे हैं कि दिल्ली चुनावों से पहले-पहले शाहीनबाग में जरूर कुछ बड़ा कांड होगा।

जामिया और शाहीनबाग में हुए हमले पर भाजपा सांसद अर्जुन सिंह कहते हैं, मुस्लिम लोगों को विपक्ष के लोगों ने आंदोलन का नाम देकर शाहीन बाग में बिठाया है। ऐसे में जो घटना जामिया में घटी उसका CAA से कोई मतलब नहीं है। हमारे कम उम्र के बच्चे भम्रित होकर के गोली चला रहे हैं।

संबंधित खबर : जामिया गोलीकांड वाले गोपाल शर्मा को अखिल भारत हिंदू महासभा करेगी सम्मानित

हीं कांग्रेस के नेता एआर चौधरी का कहना है कि रात में कल 2 फरवरी की रात को जामिया विश्वविद्यालय में जो घटना हुई है, वो दिखाती है कि सरकार आंदोलनकारियों से डर गई है। सरकार के गुंडे आंदोलनकारियों पर हमला कर रहे हैं और सरकार चुप बैठी हुई है। दिल्ली की सुरक्षा गृह मंत्री के हाथों में है, लेकिन सरकार की तरफ से कुछ नहीं किया जा रहा।

Next Story

विविध

Share it